पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Three People Still Missing, Today They Will Release Water From Full Force In The Canal To Search For Them

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सीधी हादसा:तीन लोग अब भी लापता, इनकी तलाश के लिए आज नहर में फुल फोर्स से छोड़ेंगे पानी

सीधी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर कुसमी गांव की है। यादव परिवार के चार लोगों की एक साथ अर्थियां निकली। - Dainik Bhaskar
तस्वीर कुसमी गांव की है। यादव परिवार के चार लोगों की एक साथ अर्थियां निकली।
  • टनल में अंधेरा और ऑक्सीजन की कमी की संभावना, इसलिए ऑपरेशन रोका

सीधी बस हादसे में अब तक 51 शव मिल चुके हैं और 3 यात्री अब भी लापता हैं। इनकी तलाश में नहर के 22 किमी क्षेत्र में सर्चिंग की जा चुकी है। इनके नहर के आगे बनी टनल में फंसे होने की संभावना है। यहां अंधेरा और ऑक्सीजन की कमी की आशंका के चलते तलाशी अभियान रोका गया है। गुरुवार सुबह 5 बजे टनल में फुल फोर्स में पानी छोड़ा जाएगा। ऐसे में संभावना है कि दूसरे छोर पर सिलपरा और टीकर में 3 चेक प्वाइंट पर तीनों शव मिल जाएं।

इनके शव मिले

  • सौम्या गौड़ पिता हरि प्रताप, निवासी देवसर (सिंगरौली)।
  • दीपेश प्रजापति पिता दीनदयाल, निवासी सपनी दुआरी (सीधी)।
  • स्वाति प्रजापति (21) पिता मनोज प्रजापति निवासी चौरासी क्वार्टर (सीधी)।
  • खुशबू सिंह पटेल (23) पिता वंशपति निवासी पचोखर (चुरहट)।

आईजी की गाड़ी ने मंत्री की गाड़ी में टक्कर मारी

बुधवार को सीएम के काफिले में चल रही मंत्री रामखेलावन पटेल की गाड़ी को आईजी रीवा की गाड़ी ने टक्कर मार दी। हालांकि इसमें कोई घायल नहीं हुआ।

ड्राइवर गिरफ्तार, बोला- तय रूट पर नहीं थी बस

पुलिस ने हादसे के आरोपी बस ड्राइवर बालेंद्र विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। एसडीओपी चुरहट नीरज नामदेव ने बताया कि रामपुर नैकिन थाने में आईपीसी की धारा 304, 279 और 336 के तहत केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है। उसने पूछताछ में स्वीकार किया कि वह बस को तय परमिट रूट पर नहीं चला रहा था। उसका एक ड्राइविंग लाइसेंस हादसे में बह गया, जबकि दूसरा लाइसेंस रीवा में था, जो मंगा लिया गया है। उसने बताया कि चलती हुई बस में अचानक आवाज आई।

इसके बाद बस फिसलकर नहर में समा गई। मैंने किसी तरह जान बचाई। मेरे पीछे एक लड़की भी थी। उसने भी बाहर निकलने की कोशिश की। वहीं, ऊपर से दो लोगों ने रस्सी डाली, जिसकी मदद से हम बाहर आ गए।पुलिस ने हादसे के आरोपी बस ड्राइवर बालेंद्र विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। एसडीओपी चुरहट नीरज नामदेव ने बताया कि रामपुर नैकिन थाने में आईपीसी की धारा 304, 279 और 336 के तहत केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है।

उसने पूछताछ में स्वीकार किया कि वह बस को तय परमिट रूट पर नहीं चला रहा था। उसका एक ड्राइविंग लाइसेंस हादसे में बह गया, जबकि दूसरा लाइसेंस रीवा में था, जो मंगा लिया गया है। उसने बताया कि चलती हुई बस में अचानक आवाज आई। इसके बाद बस फिसलकर नहर में समा गई। मैंने किसी तरह जान बचाई। मेरे पीछे एक लड़की भी थी। उसने भी बाहर निकलने की कोशिश की। वहीं, ऊपर से दो लोगों ने रस्सी डाली, जिसकी मदद से हम बाहर आ गए।

ट्रांसपोर्ट कमिश्नर बोले- बस की फिटनेस सही

सीधी हादसे में जिस बस से हादसा हुआ, ट्रांसपोर्ट कमिश्नर मुकेश जैन ने उसके परमिट, फिटनेस और इंश्योरेंस को सही बताया है। बस का फिटनेस 3 मई 2019 से 2 मई 2021 और परमिट 13 मई 2020 से 12 मई 2015 तक वेलिड बताया गया है। जबकि इंश्योरेंस इस साल 28 सितंबर तक का है। बड़ा सवाल है कि बस के टायर दुरुस्त थे तो वह गीली मिट्‌टी पर फिसली क्यों?

एक ही चिता पर युवा दंपती का दाह संस्कार

कुसमी तहसील के देवरी गांव में 25 वर्षीय अजय पनिका और उनकी 23 वर्षीय पत्नी तपस्या का बुधवार को एक ही चिता पर अंतिम संस्कार कर दिया गया। अजय एएनएम की परीक्षा दिलाने के लिए तपस्या को सतना ले जा रहा था। दोनों की 8 महीने पहले शादी हुई थी। इस दौरान ग्रामीणों की आंखें नम हो गईं।

हादसे कैसे रुकेंगे?

परिवहन विभाग तो सिर्फ ड्राइवर, गाड़ी के दस्तावेज की ही जांच करता है...

3 अक्टूबर 2019 को इंदौर से छतरपुर जा रही ओम साईंराम ट्रेवल्स की बस रायसेन के पास सड़क पर गड्‌ढे के कारण रीछन नदी में गिर गई थी। कई लोगों की मौत हुई। सरकार ने जांच बैठाई और सभी यात्री बसों की फिटनेस जांच का ऐलान किया, लेकिन कुछ समय बाद कंडम बसें फिर दौड़ने लगीं।

सेंधवा में 8 साल पहले बस अग्निकांड हुआ था। इसके बाद मुख्यमंत्री ने बसों में डबल गेट लगाने की बात कही थी, लेकिन मोटर व्हीकल एक्ट के तहत उस पर रोक लगा दी गई। मामला खत्म हो गया। सीधी बस हादसे में भी यही स्थिति बन रही है, क्योंकि बस की हालत दयनीय थी और सड़क खराब थी।

ऐसे में हादसे का दोषी कौन, ये जांच में कैसे तय होगा। ट्रांसपोर्ट कमिश्नर मुकेश जैन के मुताबिक हादसों के अधिकतर मामलों की जांच मजिस्ट्रेट या पुलिस करती है। परिवहन विभाग तो सिर्फ ड्राइवर की गलती, गाड़ी में कमी, परमिट, फिटनेस, इंश्योरेंस की ही जांच करता है। यानी स्पष्ट है कि विभाग एक-दूसरे पर दोष देते रहेंगे और जांच औपचारिकता निभाने के बाद फिर खत्म हो जाएगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें