• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Got Caught In The Clutches Of Three More Moneylenders To Pay Off The Debt Taken For The Treatment Of The Sick Wife

जबलपुर में सूदखोरी की तीन कहानी:बीमारी पत्नी का इलाज कराने लिया कर्ज को चुकाने में तीन और सूदखोरों के चंगुल में फंस गया

जबलपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ओमती पुलिस ने पांच सूदखोरों के खिलाफ दर्ज की एफआईआर। - Dainik Bhaskar
ओमती पुलिस ने पांच सूदखोरों के खिलाफ दर्ज की एफआईआर।

जबलपुर में सूदखोरी का जाल गहरे तक जड़ें जमा चुका है। सूदखोरी के दलदल में एक बार फंसने के बाद निकलने का कोई रास्ता नहीं रहता। एक चपरासी को बीमार पत्नी के इलाज की खातिर लिए गए कर्ज को चुकाने में तीन और सूदखोरों का कर्जदार बना दिया। हालत ये हुई कि उसने सुसाइड करने की ठान ली थी। पर आखिरी वक्त अक्ल आ गई और वह पुलिस के पास पहुंच गया। सीओडी में कार्यरत लेबर ने बेटी की शादी के लिए एक लाख रुपए कर्ज लिए। डेढ़ लाख चुकाने के बाद भी मूलधन बकाया है।

ओमती पुलिस के मुताबिक क्राइस्टचर्च ब्वॉयज हॉस्टल में चपरासी के पद पर कार्यरत सत्येंद्र करोसिया ने शिकायत दर्ज कराई कि वह स्कूल क्वार्टर में ही पत्नी, दो बच्चे और माता-पिता के साथ रहता है। उसकी पत्नी बीमार थी। कर्ज लेकर उसे इलाज कराना पड़ा था। बच्चों की पढ़ाई, बुजुर्ग माता-पिता की दवाई और घर का खाना खर्चा भी उसे ही चलाना पड़ता है। इस कारण वह समय पर कर्ज नहीं चुका पा रहा था।

उधर, सूदखोर उस पर पैसे वापस करने के लिए दबाव डाल रहा था। कर्ज चुकाने के लिए उसने दूसरे से ब्याज पर कर्ज लिया। इस तरह वह अब तक पांच लोगों से कर्ज ले चुका है। कोविड के चलते लगे लॉकडाउन में उसकी आर्थिक हालत और खराब हो गई। सूदखोर उसके साथ गाली-गलौच करने के साथ उसकी पत्नी के साथ भी अभद्रता करते हुए जान से मारने की धमकी देने लगे थे।

इस तरह वह सूदखोरों के चंगुल में फंसा

सत्येंद्र करोसिया ने केंट निवासी नीलेश मलिक से पांच प्रतिशत पर तीन लाख रुपए कर्ज लिए थे। इसके बाद ब्याज की रकम चुकाने उसने बेलबाग निवासी सुनील सोनकर से 10 प्रतिशत पर 30 हजार रुपए उधार लिए। ब्याज की रकम चुकाने के लिए ही उसने बेलबाग निवासी रामेश्वर सोनकर से 10 प्रतिशत पर 20 हजार रुपए उधार लिए।

दोनों का कर्ज चुकाने और ब्याज की रकम चुकता करने के लिए उसने ओमती निवासी रमेश केशरवानी से 1 प्रतिशत पर 1.50 लाख रुपए उधार लिए। ओमती पुलिस ने सभी के खिलाफ कर्जा एक्ट और धमकी देने का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

रेलवे ठेकेदार भी सूदखोर के चंगुल में फंसे

ओमती थाने में ही गांधी भवन लायब्रेरी के पास बड़ी ओमती निवासी मनीष कुमार बिरहा और चंद्रकांत बिरहा ने भी शिकायत दर्ज कराई है। दोनों रेलवे में ठेकेदारी करते हैं। दोनों ने न्यू रामनगर निवासी नत्थू प्रसाद गौतेल से जरूरत पड़ने पर 16 सितंबर को 7.50 लाख रुपए तीन प्रतिशत ब्याज पर लिए थे। इसके एवज में दोनों इंडियन बैंक के आठ चेक हस्ताक्षर युक्त दिए थे। इस संबंध में नोटरी भी कराई थी।

अब तक दोनों भाई 2.50 लाख रुपए दे चुके हैं। इसे चुकाने की रसीद मांगी तो उसने मना कर दया। अब वह उनसे 7.50 लाख रुपए और 10 प्रतिशत ब्याज मांग रहा है। कारण पूछने पर विवाद करते हुए बोला कि चेक बाउंस कराकर तुम दोनों को जेल भिजवा दूंगा। ओमती पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अवैध वसूली, मप्र ऋणियों से संरक्षण अधिनियम का प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया है।

रांझी थाने में सूदखोर पिता-पुत्र के खिलाफ एफआईआर।
रांझी थाने में सूदखोर पिता-पुत्र के खिलाफ एफआईआर।

बेटी की शादी खातिर लिया उधार, एक का डेढ़ लाख देने पर भी मूलधन बकाया

सीओडी में पदस्थ लेबर रामजीवन कोरी मूलत: मसवानपुर कल्याणपुर कानपुर का रहने वाला है। 2018 में उसने बेटी की शादी के लिए जूलियस मसीह से पांच प्रतिशत पर एक लाख रुपए उधार लिए थे। ब्याज सहित वह डेढ़ लाख रुपए लौटा चुका है।

बावजूद जूलियस और उसका बेटा राजा उससे मूलधन के तौर पर एक लाख रुपए मांग रहा है। पिता-पुत्र उसे कई बार बेइज्ज्त कर चुके हैं। जूलियस भी सीओडी का रिटायर कर्मी है। रांझी पुलिस ने पिता-पुत्र के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है।