जेल में विचाराधीन कैदी की मौत पर बवाल:जबलपुर में आदिवासी संगठन और कांग्रेस पार्टी मुखर, एसपी कार्यालय का घेराव किया

जबलपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अनिल मरावी (32) की सेंट्रल जेल में तबीयत खराब होने से हो गई है मौत। - Dainik Bhaskar
अनिल मरावी (32) की सेंट्रल जेल में तबीयत खराब होने से हो गई है मौत।

सेंट्रल जेल जबलपुर में विचाराधीन बंदी अनिल मरावी की मौत को आदिवासी समाज और कांग्रेस पार्टी ने मुद्दा बनाना शुरू कर दिया है। परिजनों और आदिवासी संगठनाें से जुड़े नेताओं का दावा है कि बरेला की गौर चौकी प्रभारी की पिटाई के चलते जेल में अनिल मरावी की तबीयत बिगड़ी और उसकी मौत हो गई। फिलहाल मामले में मजिस्ट्रियल जांच चल रही है।

जमतरा गांव निवासी 32 वर्षीय अनिल मरावी को शराब के मामले में गौर चौकी की पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। जेल में 6 दिसंबर को उसकी तबियत खराब हुई। पहले उसे जेल अस्पताल में भर्ती किया गया। 9 दिसंबर को मेडिकल रेफर कर दिया गया। 10 दिसंबर की सुबह उसकी मौत हाे गई। विचाराधीन बंदी की मौत मामले में कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।

परिजनों का दावा, पुलिस की पिटाई से बिगड़ी थी तबीयत

इस मामले ने तूल तब पकड़ा, जब अनिल मरावी की पत्नी सहित परिजनों ने गौर चौकी प्रभारी नितिन पांडे पर पिटाई का आरोप लगाया। बताया कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने चौकी में बेरहमी से मारापीटा था। जेल दाखिला लेने से पहले जेल द्वारा मुलाहिजा कराया गया था। आदिवासी युवक की मौत का मामला सामने आते ही आदिवासी संगठन और कांग्रेस के नेताओं ने इस मुद्दे को लपक लिया। अब सभी मामले की निष्पक्ष जांच और चौकी प्रभारी नितिन पांडे के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज करने पर जोर दे रहे हैं।

पुलिस पीएम रिपोर्ट और मजिस्ट्रियल जांच का दे रही हवाला

इसी मामले में पूर्व में आदिवासी संगठन और कांग्रेस नेताओं की एएसपी संजय अग्रवाल व एएसपी सिटी रोहित काशवानी के साथ वार्ता हो चुकी है। पुलिस अधिकारी जहां पीएम रिपोर्ट और मजिस्ट्रियल जांच का हवाला देकर उसकी रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की बात कह रहे हैं। वहीं आदिवासी संगठन और कांग्रेस नेता प्रथम दृष्टया चौकी प्रभारी को दोषी मानते हुए कार्रवाई पर अड़ी है।

कांग्रेस के पूर्व नगर अध्यक्ष दिनेश यादव सहित अन्य।
कांग्रेस के पूर्व नगर अध्यक्ष दिनेश यादव सहित अन्य।

दोपहर 12 बजे एसपी कार्यालय का घेराव किया

कांग्रेस-आदिवासी संगठनों के संयुक्त तत्वाधान में आज 14 दिसंबर मंगलवार को एसपी कार्यालय का दाेपहर 12 बजे घेराव किया। उनकी मांग है कि दोषी चौकी प्रभारी व पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई के साथ पीड़ित परिवार को मुआवजा दिया जाए। दोपहर 12 बजे मालगोदाम स्थित शंकरशाह-कुंवर रघुनाथ शाह की प्रतिमा के समक्ष सभी आदिवासी संगठन और कांंग्रेस नेता एकत्रित हुए। इसके बाद एसपी को ज्ञापन सौंपने पहुंचे।

पूर्व मंत्री लखन सहित अन्य लोग रहे मौजूद

इस प्रदर्शन में पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस विधायक लखन घनघोरिया, आदिवासी नेता पूर्व विधायक नन्हे लाल धुर्वे पूर्व मंत्री कौशल्या गोंटिया, रूक्मणी गोंटिया, पूर्व नगर अध्यक्ष दिनेश यादव, जिला कांग्रेस सेवादल ग्रामीण अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस सेवादल शहर अध्यक्ष सतीश तिवारी, जितेंद्र यादव, संजू ठाकुर सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...