पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Two Lakhs Were Found In Two And A Half Lakhs That Fell From The Bag Of LIC Personnel, Parvez, Who Returned The Money, Said How To Constantly Hand Over Someone's Trust

जूते-चप्पल की दुकान पर काम करने वाले की ईमानदारी:जबलपुर में LIC कर्मी के बैग से गिरे 2 लाख रुपए लौटाए; पैसे वापस करने वाले ने कहा- किसी की अमानत को कैसे लगाता हाथ

जबलपुर2 महीने पहले

जबलपुर में जूते-चप्पल की दुकान पर काम करने वाले 18 साल के युवक परवेज ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। युवक ने सड़क पर मिले 2 लाख रुपए पुलिस के माध्यम से उसके मालिक तक पहुंचा दिए। यह रुपए LIC में काम करने वाले नवीन कुमार बैंक से लोन लेकर घर की मरम्मत के लिए ले जा रहे थे। नवीन कुमार के रास्ते में ढाई लाख रुपए गिरे थे। हालांकि उन्हें 2 लाख रुपए ही वापस मिल सके। 50 हजार रुपए किसी और व्यक्ति के हाथ लगे हैं, जो वापस नहीं मिले।

दरअसल, नवीन कुमार ने घर की मरम्मत के लिए इंडियन ओवरसीज बैंक से 5 लाख रुपए का लोन लिया था। यह पैसे बैंक से निकालकर वह घर लौट रहे थे। बीच में जब वे सब्जी खरीदने रुके तो वहां उनके ढाई लाख रुपए गिर गए थे। उन्होंने इसकी शिकायत लार्डगंज थाने में की थी। एक दिन बाद पैसे मिलने की उम्मीद छोड़ चुके LIC कर्मी की किस्मत चमकी और उन्हें थाने से फोन आया कि आपके गिरे रुपए मिल गए हैं। जब LIC कर्मी थाने पहुंचा तो उसे जानकारी मिली कि 18 साल के युवक को यह रुपए मिले थे, जिसे उसने लौटा दिए हैं। इसके बाद LIC कर्मी ने युवक की ईमानदारी को सराहा और धन्यवाद कहा। गौरतलब है कि उर्दू नाम परवेज का अर्थ किस्मत होता है।

मेरे लिए वो रकम किसी की अमानत थी
नया मोहल्ला निवासी परवेज लार्डगंज थाने के पास ही जूते-चप्पल के कारोबारी शेख अब्दुल की दुकान पर काम करता है। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया, 'सोमवार को मैं चाय लेने निकला था। चाय लेकर लौटा तो देखा कि भीड़ लगी है। एक रिक्शा वाले ने रोड पर दो लाख की गड्‌डी उठाई और तीन-चार लोग वहां उसे घेरे हुए खड़े थे। मैंने रिक्शा वाले से पैसे ले लिए। फिर उसे दुकान में शेखू भाई के पास रखवा दिए। दो लाख रुपए देखकर दिमाग में एक ही बात आई कि शादी का सीजन चल रहा है, इतने पैसे लेकर कोई खरीदारी करने आया होगा। आसपास के दुकानदारों को भी बोला कि कोई पैसे ढूंढ़ते हुए दिखे तो बताना। रात 10 बजे तक इंतजार किया, कोई नहीं आया।'

रामेश्वर कॉलोनी कोतवाली निवासी LIC कर्मी नवीन कुमार ने बताया कि रुपए गिर जाने के बाद मैं घर में मायूस बैठा था। मुझे भरोसा नहीं था कि रुपए दोबारा मिलेंगे। इतने में थाने से फोन आया। थाने पहुंचा तो नया मोहल्ला निवासी परवेज खान और थाने के पास ही दुकान लगाने वाले शेख अब्दुल उसे मिले। टीआई प्रफुल्ल श्रीवास्तव की मौजूदगी में परवेज ने पैसे लौटाए। 18 साल के परवेज की ईमानदारी के लिए नवीन ने उसे दो हजार रुपए दिए।

हवा में उड़ गए 2.50 लाख रुपए:जबलपुर में 20 मिनट में गायब हो गए ढाई लाख रुपए, मकान रिपेयर के लिए पीड़ित ने लिया था हाउसिंग लोन

टीआई प्रफुल्ल श्रीवास्तव के साथ परवेज और अन्य।
टीआई प्रफुल्ल श्रीवास्तव के साथ परवेज और अन्य।

20 जुलाई को पहुंचा थाने
परवेज के मुताबिक, 'मंगलवार सुबह शेखू भाई को पता चला कि किसी के ढाई लाख रुपए गिर गए हैं। उसने घर बनवाने के लिए बैंक से लोन लिया था। उसी के ढाई लाख रुपए गिरे हैं। दो लाख तो उसे मिल गए थे, पर 50 हजार किसी और के हाथ लग गए। शेखू भाई और मैं पैसे लेकर थाने पहुंचे और पुलिस को जानकारी दी।'

बाजार में बैठा हूं, बेईमानी कर धंधा नहीं कर पाऊंगा
शेखू के मुताबिक बाजार में बिजनेस करने बैठा हूं। बेईमानी कर धंधा नहीं कर पाउंगा। बाजार में बहुत से लोग लाखों रुपए लेकर खरीदी करने आते हैं। वे पैसों का इंतजाम कैसे करते हैं, ये उनके चेहरे देखकर हम भांप लेते हैं। पैसे मिले तो यही दिमाग में आया कि किसी बेटी की शादी होगी और उसके पिता के पैसे गिरे होंगे तो उस पर क्या गुजर रही होगी? परवेज के मुताबिक, 'शेखू भैया की दुकान में इससे भी अधिक पैसे देखता रहता हूं, दो लाख देखकर दिमाग में बस ये ही ख्याल आया कि ये किसी दूसरे की अमानत है और इसे सही सलामत लौटाना है।'

ये थी घटना
रामेश्वर कॉलोनी कोतवाली निवासी नवीन कुमार ने बताया कि उनका मकान जर्जर हो चुका है। मरम्मत के लिए पांच लाख रुपए हाउसिंग लोन लिया था। सोमवार को मढ़ाताल स्थित इंडियन ओवरसीज बैंक से पांच लाख रुपए निकाले। एक बैग में रखकर घर के लिए निकला। 20 मिनट बाद लटकारी के पड़ाव के पास सब्जी लेने रुका। तभी बैग से ढाई लाख रुपए गिर गए। घर पहुंचा तब पता चला कि ढाई लाख रुपए गिर गए हैं। लार्डंगंज थाने में मामले की सूचना देने के साथ कंट्रोल रूम में सीसीटीवी फुटेज भी देखा था। मैंने तो उम्मीद छोड़ दी थी, लेकिन परवेज की ईमानदारी ने दिल जीत लिया।

परवेज व शेखू हमारे समाज के असल हीरो-एसपी
एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा के मुताबिक नया मोहल्ला निवासी परवेज और शेख अब्दुल की ईमानदारी की जितनी भी तारीफ की जाए, वो कम है। ऐसे लोग ही हमारे समाज के असल हीरो हैं। दोनों को जल्द ही बुलाकर पुलिस कंट्रोल रूम में सम्मानित करूंगा।

खबरें और भी हैं...