पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • MLA Will Give 5 5 Lakh Rupees To 8 Villages That Achieve Vaccine Target, On The Other Hand, A Sarpanch Added The Condition Of No Ration If There Is No Vaccine

वैक्सीनेशन बढ़ाने अनूठी पहल:विधायक वैक्सीन का लक्ष्य हासिल करने वाले 8 गांवों को देेंगे 5-5 लाख रुपए, उधर, एक सरपंच ने वैक्सीन नहीं तो राशन नहीं की जोड़ दी शर्त

जबलपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शतप्रतिशत वैक्सीनेशन वाले ग्राम पंचायतों को विधायक निधि से 5-5 लाख रुपए मिलेंगे। - Dainik Bhaskar
शतप्रतिशत वैक्सीनेशन वाले ग्राम पंचायतों को विधायक निधि से 5-5 लाख रुपए मिलेंगे।

विड को हराने के लिए वैक्सीनेशन जरूरी है। ग्रामीण क्षेत्रों में अभी जागरुकता की कमी है। ऐसे में पनागर विधायक और एक सरपंच की अनूठी पहल वैक्सीनेशन को बढ़ा सकता है। शतप्रतिशत लक्ष्य हासिल करने वाले 8 ग्राम पंचायतों को जहां विधायक 5-5 लाख रुपए देंगे। वहीं एक सरपंच ने वैक्सीन नहीं तो राशन नहीं की शर्त जोड़ कर गांव को सबसे पहले लक्ष्य हासिल करने की तरफ कदम बढ़ा दिया है।

पनागर विधायक सुशील उर्फ इंदु तिवारी ने पनाग विधानसभा में शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहन राशि विकास कार्यों को के लिए देने की घोषणा की है। खंड स्तरीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक में विधायक ने कहा कि इससे ग्राम पंचायतों में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और इनाम की राशि लेने के लिए वे अपने ग्राम पंचायत के लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करेंगे। विधायक तिवारी ने बताया कि पनागर की पहली पांच ग्राम पंचायतों के साथ ही बरेला की तीन ग्राम पंचायतों को 5-5 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि विधायक निधि से मिलेगी।

वैक्सीनेशन नहीं तो राशन नहीं का हिट फार्मूला।
वैक्सीनेशन नहीं तो राशन नहीं का हिट फार्मूला।

पंचायत का ऐलान वैक्सीन नहीं तो राशन नहीं

जिले के शहपुरा ब्लॉक की सिहोदा ग्राम पंचायत से एक अहम तस्वीर सामने आई है। यहां पंचायत ने एक फरमान जारी कर दिया है कि वैक्सीन नहीं तो राशन नहीं। यहां सरपंच ने सख्त नियम लागू कर दिया है कि वैक्सीन नहीं लगवाने वाले ग्रामीणों को कोई भी सरकारी योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

85 फीसदी लोगों ने टीका लगवाया

पंचायत के इस आदेश के का असर भी दिखने लगा है। 1200 की आबादी वाले इस गांव में 85 प्रतिशत लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। पंचायत सह सचिव और सरपंच के मुताबिक सोशल मीडिया में प्रसारित अफवाहों के चलते कई ग्रामीण वैक्सीन नहीं लगवा रहे थे। ऐसे में इस तरह का सख्त निर्णय लेना पड़ा। इसका असर भी दिखा। जिला वैक्सीनेशन अधिकारी डॉक्टर एसएस दाहिया के मुताबिक इस तरह का सहयोग सरपंच की ओर से मिले तो ग्रामीण क्षेत्र सबसे पहले वैक्सीनेशन का टार्गेट हासिल कर लेंगे।

खबरें और भी हैं...