• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Chhindwara
  • MP's Biggest JNKV University Gives Training To Make Organic Manure, Teaches Production Technology In Two To Four Weeks

बॉयो फर्टिलाइजर से करें स्टार्टअप:JNKV में जैविक खाद बनाने की दी जाती है ट्रेनिंग, दो से चार सप्ताह में सिख जाएंगे प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी

मध्यप्रदेश9 महीने पहले

खेती-किसानी की प्रदेश की सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी बेरोजगारों को स्टार्टअप शुरू करने की ट्रेनिंग भी देती है। यहां युवाओं को रोजगार के हुनर सिखाए जाते हैं। दो से चार हफ्ते के प्रशिक्षण में युवाओं को पैकेज के अनुसार प्रोडक्ट यूनिट खोलने के बारे में सक्षम बनाया जाता है। भास्कर खेती किसानी सीरीज-7 में आईए जानते हैं एक्सपर्ट डॉ. एनजी मिश्रा (प्राध्यापक एवं बायो फर्टिलाइजर प्रोडक्ट यूनिट इंचार्ज, जवाहर लाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय) से कि कैसे युवा बॉयो फर्टीलाइजर यूनिट शुरू कर सकते हैं…

बीपीटी यूनिट की बेरोजगारों को देते हैं ट्रेनिंग।
बीपीटी यूनिट की बेरोजगारों को देते हैं ट्रेनिंग।

जेएनकेवी में बिजनेस प्लानिंग एंड डेवलेप यूनिट है। इसके माध्यम से बेरोजगारों को बीपीटी यूनिट की ट्रेनिंग दी जाती है। ये ट्रेनिंग दो सप्ताह से लेकर चार सप्ताह की होती है। इस दौरान युवाओं को अलग-अलग पैकेज के अनुसार हुनरमंद बनाया जाता है। पैकेज के अनुसार बॉयो फर्टीलाइजर प्रोडक्शन, बॉयो पेस्टीसाइड प्रोडक्शन यूनिट या फिर आर्गेनिक और वर्मी कम्पोस्ट जैसे प्रोडक्शन यूनिट के बारे में प्रशिक्षण देकर इसे चालू करने के लिए जरूरी संसाधन और फाइल भी तैयार कराते हैं।

प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी बताया जाता है

इस ट्रेनिंग पैकेज में आवेदक को प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी बताया जाता है। इसमें प्रोक्शन यूनिट खोलने का कास्ट। अलग-अलग मशीनरी और सिस्टम की क्या कीमत है, वो भी बताया जाता है। इस स्टार्टअप को चालू करने के लिए कम से कम 25 से 30 लाख रुपए चाहिए।

25 लाख रुपए लगा कर खुद शुरू कर सकते हैं स्टार्टअप।
25 लाख रुपए लगा कर खुद शुरू कर सकते हैं स्टार्टअप।

इस स्टार्टअप को चालू करने के लिए ये जरूरी
इस स्टार्टअप को खोलने के लिए जरूरी प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी के बाद इसे स्थापित करने में भी जेएनकेवी के एक्सपर्ट मदद करते हैं। इसके लिए आपके पास न्यूनतम दो कमरा है, तो आप इसे शुरू कर सकते हैं। संसाधन के तौर पर दो शेकर मशीन, रेफ्रीजरेटर, मिक्सिंग और इंकीब्यूटर, स्टेबलाइजर, लिग्नाइट पल्वेराइजर, फर्मेटर, मिक्सिंग मशीन, पैकिंग मशीन, होरीजेंटर स्टेबलाइजर, ऑटो क्लेब, आदि संसाधनों की जरूरत पड़ती है।

चार से पांच लेबर के साथ शुरू कर सकते हैं काम
आप इस स्टार्टअप को चार से पांच लेबर के साथ शुरू कर सकते है। यदि बात मुनाफा की करें तो ये आप पर निर्भर करता है कि आप अपने प्रोडक्ट को बेचने के लिए किस तरह की मार्केटिंग करते हैं। किसानों से सीधा संपर्क करना चाहिए। मार्केट रिस्क है, लेकिन एक बार किसानों का भरोसा जीत लिया तो फायदा ही फायदा है। इसके लिए गांव-गांव में संगोष्ठी के माध्यम से अपने उत्पाद का प्रचार करना होगा। किसान के खेत में मुफ्त में ट्रायल दिखाना होगा। किसानों को भी ट्रेनिंग दें। किसानों को फायदा समझ में आएगा तो वो खुद ही आप से संपर्क करेंगें।

जेएनकेवी बना 15 तरह के उत्पादों को बनाने की ट्रेनिंग देता है।
जेएनकेवी बना 15 तरह के उत्पादों को बनाने की ट्रेनिंग देता है।

जेएनकेवी 15 तरह का उत्पाद बना रहा है

जेएनकेवी 15 तरह का उत्पाद बना रहा है। यहां ट्रेनिंग लेने वाले को सभी 15 उत्पादों को तैयार करने की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसमें हवा से नाइट्रोजन जैविक खाद, फास्फोरस, पोटाश, जिंक, पौधे के बढ़वार और खरपतवार विघटक आदि उत्पाद के बारे में बताया जाएगा। कृषि विवि हर साल दो करोड़ के जैविक खाद बेच रही है।

भास्कर खेती-किसानी एक्सपर्ट सीरीज में अगली स्टोरी होगी किसान जबलपुर में भी कर सकते हैं सेब बागवानी। आपका कोई सवाल हो तो इस नंबर 9406575355 वॉट्सऐप पर सकते हैं।

ये खबरें भी देखें-

बायो फर्टिलाइजर से बढ़ाएं पैदावार:प्रदेश की सबसे बड़ी कृषि यूनिवर्सिटी ने कमाल के जैविक खाद बनाए, कम खर्च में 20% तक बढ़ जाएगी पैदावार

संतरे-आम की अच्छी फसल की तैयारी अभी करें:थाला बनाकर दें खाद और सिंचाई करें, फूल आने पर पानी नहीं दें

मोदी का सपना पूरा करेगा MP का जवाहर मॉडल!:बोरियों में उगा सकेंगे 29 तरह की फसल-सब्जियां, आइडिया बंजर जमीन के साथ छत पर भी कारगर

धनिया और मेथी से दोगुनी कमाई के फंडे:एक्सपर्ट बोले- फसल को माहू से बचाने के लिए बायोपेस्टीसाइड, तो भभूती रोग लगने पर वेटेबल सल्फर छिड़कें

गेहूं पर सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी के एक्सपर्ट की राय:दिसंबर में बुवाई करना है तो HD-2864 किस्म का इस्तेमाल करें, 100 दिन में पक जाती है यह फसल

सबसे बड़ी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की एक्सपर्ट की राय:चना को उकठा रोग से बचाने के लिए ट्राइकोडर्मा छिड़कें, इल्ली के लिए मेड़ पर गेंदे के पौधे लगाएं

अब हार्वेस्टर से काट पाएंगे चना फसल:चने के बीज की नई JG-24 प्रजाति विकसित, अगले साल से आम किसानों को मिलेगा

खबरें और भी हैं...