• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Katni
  • The Prisoner, Who Reached Indore With His Parents After Absconding, Took A Separate Room From The Rent, The Police To Catch Him Also Stayed In The Rented House As A Civilian.

कटनी में ट्रिपल मर्डर में फरार कैदी गिरफ्तार:फरार होकर मा-बाप के पास इंदौर पहुंचे कैदी ने किराए से अलग कमरा लिया, उसे पकड़ने पुलिस भी सिविलियन बनकर किराए के मकान में रही

कटनीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कटनी के जिला अस्पताल से भागे ट्रिपल मर्डर के आरोपी को कोतवाली पुलिस ने करीब एक महीने बाद गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी फरार होने के बाद इंदौर के बाणगंगा क्षेत्र में किराए के मकान में रह रहा था। मुखबिर की सूचना पर एएसआई कप्तान सिंह और प्रधान आरक्षक पुष्पराज सिंह उसी क्षेत्र में सिविलियन बनकर दो दिन पहले किराए से एक कमरा लिया। सिविल ड्रेस में पुलिस ने आरोपी के संबंध में जानकारी जुटाई और सोमवार देर शाम आरोपी को उसके किराए के कमरे से दबोच लिया। जबलपुर जोन के आईजी द्वारा आरोपी पर 20 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था।

एसपी सुनील कुमार जैन ने बताया कि ट्रिपल मर्डर के आरोप में जेल में बंद सागर जिले के भौहारी निवासी विचाराधीन कैदी देवी पुत्र शंकर सिंह (35) को तबीतय खराब होने पर 9 सितंबर 2021 को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मौका पाकर रात करीब 2 बजे आरोपी अपने दो अन्य साथियों की मदद से पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। जिसके बाद से पुलिस टीम उसकी तलाश में जुटी हुई थी।

इसी बीच पुलिस को जानकारी मिली कि आरोपी के माता-पिता इंदौर में रह रहे हैं। पुलिस को जानकारी मिली कि आरोपी उसी क्षेत्र में अपने माता-पिता से अलग किराए का कमरा लेकर रह रहा है, लेकिन आरोपी कहां पर रहता है, इसकी जानकारी नहीं मिली। पुलिस टीम इंदौर के बाणगंगा क्षेत्र पहुंची, जहां पर पुलिस ने अपनी पहचान छिपाकर आम नागरिक की तरह एक मकान को किराए पर लिया। 10 अक्टूबर और 11 अक्टूबर को पुलिस टीम किराए के मकान में रहकर क्षेत्र में आरोपी की तलाश कर रही थी। 11 अक्टूबर की देर शाम आरोपी के कमरे की जानकारी मिलने के बाद पुलिस टीम दबिश और फिर आरोपी देवी सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

ससुर और दो सालों की हत्या का आरोप

पुलिस ने बताया कि देवी सिंह जिले के विजयराघवगढ़ थाना अंतर्गत पड़खुरी गांव में हुए तिहरे हत्याकांड का आरोपी था। देवी सिंह ने अपने सास, ससुर और दो सालों पर जानलेवा हमला किया था। जिसमें ससुर और दोनों सालों की मौत हो गई थी। जिसके बाद से आरोपी झिंझरी जेल में बंद था।

चार पुलिसकर्मी किए थे निलंबित

अस्पताल से कैदी के भागने के बाद पुलिस अधिकारियों ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सुरक्षा में तैनात चार पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया था, जिसमें एक एएसआई, एक प्रधान आरक्षक और दो आरक्षक शामिल थे। पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन ने बताया कि आरोपी को भागने में सहयोग करने वालों की भी जानकारी मिली है, जिनकी तलाश की जा रही है, जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।