पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

क्राइम:11 साल छोटे प्रेमी देवर व उसके दोस्त के साथ मिल पति का गमछे से घोंटा था गला

बड़वानी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मेहरघट्‌टी के अंधेकत्ल का 5वें दिन खुलासा, चूने की डिब्बी व साड़ी के रेशों से पकड़ाए आरोपी

मेहरघट्‌टी के मजदूर सुखराम पिता नवलसिंह (38) की उसकी पत्नी व प्रेमी देवर ने मित्र के साथ गमछे से गला घोंटकर हत्या की थी। पुलिस ने अवैध संबंध के चलते 5 दिन पहले हुए अंधेकत्ल का खुलासा किया। पति को शराब पिलाकर प्रेमी देवर के साथ हत्या की। दोनों शादी करना चाहते थे। 4 माह पहले गुजरात मजदूरी करने गए तभी पति को हटाकर देवर से शादी की योजना बनाई थी। घटनास्थल पर मिली चूने की डिब्बी व आरोपी महिला की साड़ी के रेशों की मदद से पुलिस आरोपियों तक पहुंची।

शंका के आधार पर कड़ी पूछताछ में मामला सामने आया। एसपी शैलेंद्रसिंह चौहान ने बताया 13 फरवरी को बिस्टान थाने के ग्राम सेजला (यशवंतगढ) में तलाई की ढलान के नीचे सुखराम का शव पड़ा मिला था। उसके गले में गमछा लिपटा था। शव से कुछ ही दूर चूने की डिब्बी पड़ी थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गमछे से गला घोंटकर हत्या करना पाया गया। सुखराम की पत्नी गुड्‌डीबाई (36) थाने पर आई तो उसके पास भी वैसी की चूने की डिब्बी मिली जैसी शव के पास देखी गई थी।

गांव के किराणा व्यवसायी से पूछताछ में दोनों डिब्बी उसकी दुकान से बिक्री होना बताने से पुलिस को गुड्‌डीबाई पर शक हुआ। 12 फरवरी को गुड्डीबाई व सुखराम ग्राम सेजला गए थे। शाम को गुड्‌डीबाई घर लौट आई, लेकिन सुखराम नहीं आया। 13 फरवरी की सुबह गुड्‌डीबाई उसके भांजे दिनेश के साथ तलाश करने तलाई की ओर ले गई। यहां दिनेश को उस ओर भेजा जहां सुखराम का शव पड़ा था। बयान के बाद पुलिस का शक पुख्ता हो गया। तीनों आरोपियों को कोर्ट ने जेल भेजने के आदेश दिए।

भांजे को लेकर अकेले ढूंढने पर हुआ शक
पुलिस ने बताया गुड्‌डीबाई के सुखराम के चचेरे भाई कालू पिता गणपत (25) निवासी मेहरघट्‌टी से अवैध संबंध थे। गुड्‌डीबाई ने कालू के साथ रहने के लिए पति सुखराम को रास्ते से हटाने की योजना बनाई। 12 फरवरी को इसीलिए गुड्‌डीबाई उसके पति सुखराम को ग्राम सेजला शराब पिलाने ले गई। वापस लौटने के दौरान कालू व उसका दोस्त अनिल पिता चैनसिंह (21) निवासी आगरबाई बाइक से दूसरे रास्ते से तलाई क्षेत्र में पहुंचे। कालू व गुड्‌डीबाई ने सुखराम से झूमाझटकी की।

गुड्डीबाई ने सुखराम के हाथ पकड़े और कालू ने गले में पड़े गमछे से गला घोंट दिया। पूरे घटनाक्रम के दौरान अनिल आने-जाने वालों पर नजर रख रहा था। हत्या के बाद तीनों ने सुखराम का शव उठाकर तलाई के ढलान के नीचे फेंक दिया। दूसरे दिन भांजे के साथ वह अकेले ही ढूंढने निकली। उसके हावभाव संदिग्ध थे।

गुजरात मजदूरी करने गए तो बढ़ी नजदीकी
पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार सुखराम, गुड्‌डीबाई और कालू साथ में मजदूरी करने के लिए गुजरात गए थे। वहां उनकी नजदीकियां बढ़ गई थी। वे कुछ दिन पहले ही वहां से लौटे हैं। गुड्‌डीबाई और कालू के पहले से संबंध थे। गुजरात में यह दोनाें और करीब आ गए। यहां सुखराम को पता चल गया। यहीं पर इन्होंने सुखराम की हत्या की योजना बनाई। कार्रवाई में टीआई दिनेश कुशवाह, एसआई अमित पवार, आरक्षक भरत मिलन, हरिओम, आवेश, अशोक पाटीदार, रोशनी परिहार व ब्रजलता शर्मा का सहयोग रहा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही है। व्यक्तिगत और पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। बच्चों की शिक्षा और करियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी आ...

    और पढ़ें