पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धर्म-समाज:भगवान का भक्त वह होता है जो केवल गुरु को चाहता है

बड़वानी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुनिश्री निस्वार्थ और विनम्र सागरजी महाराज ने स्थानीय स्वाध्याय भवन में प्रवचन के दौरान कहा-

नगर के दिगंबर जैन मंदिर में विराजमान मुलनायक भगवान पारसनाथ को देखकर चतुर्थ काल की प्रतिमा के दर्शन होते हैं। नगर का पुण्य है कि पहले पांच मुनिराज जो पंच परमेष्ठि के प्रतीक व बाद में नव देवता के रूप में नव मुनिराज विराजमान होकर कुल 14 निधियों की नगर को प्राप्ति हुई है। यह असीम पुण्योदय से प्राप्त होता है। आचार्य विद्यासागरजी महाराज के परम शिष्य पूज्य मुनि श्री निस्वार्थ व विनम्र सागरजी महाराज ने स्थानीय स्वाध्याय भवन में प्रवचन के माध्यम से यह बात कही। उन्होंने कहा भगवान का भक्त वह होता है जो केवल भगवान व गुरु को चाहता है। किसी ने पूछा कि भक्त व शिष्य में अंतर क्या है तो कहते हैं कि भगवान की जो भक्ति व पूजा करता है, वह भक्त कहलाता है और शिष्य वह होता है जो एक बार गुरु चरणों में आ जाए। उनके दर्शन हो जाए और जिसको गुरु चाहता है। वह शिष्य होता है। आज भक्त तो बहुत होते हैं लेकिन शिष्य कम हुआ करते हैं। भक्त वह होता है जो वक्त वक्त पर भगवान को याद करता है। जिसके पास कम वक्त होता है जबकि शिष्य के पास गुरु भगवान के प्रति समर्पण होकर उन सा बनने की चाह होती है। श्रावक के 6 कामों में मुख्य रूप से प्रातः काल उठ कर जिन मंदिर को जाना, स्वाध्याय करना और अपने जीवन को धन्य करना होता है। प्रतिदिन मंदिर जी में दर्शन पूजन अभिषेक करने से 1 हजार उपवास का फल प्राप्त होता है। संघस्थ पूज्य मुनि, निस्पृह सागरजी, निश्चल सागरजी, निराग सागर जी, निमर्द सागरजी, निर्भीक सागरजी, निसर्ग सागरजी व ओंकार सागर जी महाराज विराजमान होकर धर्म देशना कर रहे हैं। पूज्य मुनि श्री के ससंघ सानिध्य में प्रातः श्रीजी का अभिषेक पूजन के बाद आचार्य श्री विद्यासागर जी का पूजन व मुनि श्री के प्रवचन हुए। इसके बाद मुनिश्री की आहारचर्या हुई। दोपहर में परम पूज्य विनम्र सागरजी महाराज के प्रवचन के पूर्व समाज पदाधिकारियों प्रकाशचंद बाबूजी, मनोज कुमार जैन, धर्मेंद्र कुमार जैन, रक्षित जैन, पारस जैन, मुकेश जैन ने पूज्य मुनिश्री से नगर में शीतकालीन प्रवास के लिए श्री फल भेंट कर निवेदन किया। समाज के मंत्री मनोज कुमार जैन ने बताया गुरु भक्ति के साथ रात में भजन संध्या का कार्यक्रम हुआ। पूज्य मुनि श्री ससंघ का विहार महेश्वर की ओर हो गया। वहां से बावनगजा के लिए विहार कर रहे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser