पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिना मास्क के आवाजाही जारी:बेरोक आवाजाही से जलगोन में बढ़ा कोरोना बायगोर में होम आइसाेलेशन से रहे सुरक्षित

बड़वानी10 दिन पहलेलेखक: बाबूलाल शर्मा
  • कॉपी लिंक
गांव के प्रतिबंंधित रास्ते से बिना मास्क के आवाजाही करते लोग। - Dainik Bhaskar
गांव के प्रतिबंंधित रास्ते से बिना मास्क के आवाजाही करते लोग।
  • महाराष्ट्र से प्रतिबंध के बाद भी आवाजाही, बढ़ रहा संक्रमण

तहसील मुख्यालय से महज 4 किमी दूर ग्राम जलगोन स्वास्थ विभाग के अनुसार जिले का सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित गांव है। यहां 48 लोग संक्रमित हुए है। रविवार सुबह करीब 11 बजे जब हमारी टीम पानसेमल से धरनगांव होते हुए जलगोन गांव पहुंची है यहां के प्रतिबंधित मार्ग खुले हैं। लोग बिना मास्क के आवाजाही कर रहे हैं।

गांव के नामदेव जगदाले से पूछताछ करने पर पता चला 3 दिन पहले गांव के 5 रास्तों को बंद किया था। जिन्हें बाद में ग्रामीणों ने खोल दिया। गांव में बड़ी तादाद में संक्रमण फैलने पर कहते हैं- अप्रैल में गांव में 5 शादियां हुई। सभी शादियों में महाराष्ट्र से 100 से ज्यादा लोग शामिल होने आए। लोगों ने बीमार होने के बाद भी समय पर जांच नहीं कराई।

बीमारी तो फैलनी थी। हालत बिगड़ी तब भी निजी अस्पताल में जाकर इलाज कराते रहे। गांव में उपस्वास्थ्य केंद्र में एएनएम मीना मुजाल्दे सिर्फ टीकाकरण करने ही आती है। उपवास्थ्य केंद्र में ताला लगा हुआ है। हमने गांव में निजी क्लीनिक की स्थिति देखी। वहां डॉक्टर महिला का इलाज कर रहे थे। डॉ. धनराज पाटिल ने बताया एक सप्ताह पहले प्रतिदिन 50 से ज्यादा लोग सर्दी बुखार की परेशानी लेकर आ रहे हैं। अब कम आ रहे है। सुबह से 5 मरीज पेटदर्द व कमजोरी के समस्या लेकर आए थे।

एक माह में 11 की मौत हुई लेकिन गांव में सफाई की हालत भी खराब

गांव के नामदेव ने बताया गांव में 4 हजार लोग रहते है। संक्रमण तेजी से फैलने के बाद लोग बीमार हुए। निजी क्लीनिक संचालक डॉ. बापू पाटिल के यहां इलाज करा रहे थे। 9 अप्रैल को डॉ. पाटिल भी संक्रमित हुए थे। जिला अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। अप्रैल माह में गांव के 11 लोगों की मौत हुई है।

इसमें 7 पुरुष व 4 महिलाएं शामिल थे। इसमें 8 लोग कोरोना संक्रमित थे। गांव में साफ-सफाई नहीं देखी। संक्रमण फैलने पर सरपंच पातलिया डावर को फोन लगाया तो उन्होंने बताया वो शहादा में है। प्रतिबंधित रास्ते से लोगों की आवाजाही होने पर उन्होंने कहा मुझे कुछ नहीं पता। सरपंच का ये जवाब सुनकर हम लौट आए। दरअसल यही वो उदासीन और गैर जिम्मेदार रवैया है जो हमें गांव में बिखरा हुआ नजर आया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें