• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Barwani
  • Kasrawad Has Become The Bridge Of Death, The Bridge Over The Narmada River Has Become The Suicide Point, The Big Bridge On The Narmada There Is No Security On The Bridge

कसरावद नर्मदा पुल बना सुसाइड पाइंट:पिछले 15 सालों में 147 लोगों ने कूदकर दी जान, फिर भी न जालियां लगाई न गार्ड तैनात किए

बड़वानी9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कसरावद नर्मदा पुल - Dainik Bhaskar
कसरावद नर्मदा पुल

बड़वानी से कुछ ही दूरी पर कसरावद में नर्मदा नदी पर बना पुल सुसाइड पाइंट बन चुका है। इस पुल से पिछले 15 सालों में 147 लोगों ने कूदकर अपनी जानें दी है। पिछले कई सालों में इतनी अधिक संख्या में लोगों की जानें लेने वाले इस पुल पर सुरक्षा के लिहाज से प्रशासन ने अब तक कोई मुकम्मल व्यस्थाएं नहीं की हैं।

हर साल इस पुल से कूदने वालों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। हर साल कई लोग इस पुल से कूदकर आत्महत्या कर रहे हैं। कुछ साल पहले इस पुल पर जालिया लगाने के लिए भी सामाजिक संगठनों ने पहल शुरू की थी, लेकिन बाद में मामला ठंडे बस्ते में चला गया। इसके बाद से इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया और साल दर साल यहां सुसाइड का सिलसिला जारी है।

2017 में हुई सबसे ज्यादा सुसाइड

लोगों की मानें तो अभी तक इस पुल का लोकार्पण नहीं हो पाया है। इसे भी लोग इन घटनाओं से जोड़कर देख रहे हैं। 2017 में हुई सबसे ज्यादा आत्महत्याएं कसरावद पुल से वर्ष 2017 में सबसे ज्यादा 21 लोगों ने आत्महत्या की है। इसके पूर्व 2016 में 15 लोगों ने यहां से छलांग लगाकर मौत का गले लगाया है। हर साल लगातार हो रही मौतों के बाद भी पुल पर न तो जालियां लगाई गई और ना ही यहां कोई गार्ड तैनात किया गया जो इन आत्महत्याओं को रोकने के लिए कोई प्रयास करें।

पिछले 15 सालों में हुई पुल के कुदकर की गई आत्महत्या के आकड़ें

सालआत्महत्या के मामले
20086
20094
201013
201113
20129
20138
201413
201514
201615
201721
201810
20196
20208
20216
20221 (अभी तक)

बड़वानी कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा का कहना है कि जनभागीदारी में अभी राशि नहीं है, जब भी राशि आएगी जाली बनाने पर विचार किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...