भिलट देव मंदिर में आधुनिक भाेजशाला शुरू:रोटी बनाने व बर्तन धोने मशीनें लगी, एक घंटे में बनेगी 2800 रोटियां व धुलेगी 2200 थालियां

बड़वानी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रोटी बनाने की मशीन की शुरुआत करते समिति सदस्य। - Dainik Bhaskar
रोटी बनाने की मशीन की शुरुआत करते समिति सदस्य।

नागलवाड़ी शिखर धाम स्थित भिलट देव मंदिर परिसर में अब आधुनिक भोजशाला में मशीनों से भोजन तैयार होगा। वहीं थालियां धोने के लिए भी मशीन लगाई गई है। इन मशीनों में भाप पद्धति से भोजन तैयार होगा।

शनिवार आधुनिक भोजशाला की शुरुआत की गई। शनिवार 5 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। मंदिर समिति के अध्यक्ष दिनेश यादव ने बताया राजस्थान व गुजरात के मंदिरों में संचालित आधुनिक भोजशाला देखकर मशीनें बुलाई गई। मंदिर की भोजशाला में लगाई गई रोटी बनाने की मशीन में सिर्फ आटा डालने के बाद एक घंटे में 2800 रोटी बनकर तैयार हो जाएगी। वहीं खाना बनाने के लिए 600 लीटर क्षमता वाले चार कूकर लगाए हैं। इसमें 40 मिनट में दाल, सब्जी व चावल बनकर तैयार हो जाएंगे। थालियां धोने के लिए लगाई गई मशीन एक घंटे में 2200 थालियां धोकर साफ हाेकर एक जगह एकत्रित हो जाएंगी।

प्रदुषण ना हो इसके लिए एक बायलर में लकड़ी जलाकर पूरा भोजन भाप से तैयार किया जाएगा। शनिवार रात इस दौरान मंदिर समिति के बजरंग गोयल, राजाराम साध, दीपक शर्मा, पूर्व सांसद सुभाष सोलंकी, पुजारी राजेंद्र बाबा मौजूद थे।

परिसर में लगाए 44 सीसीटीवी, आइसक्रीम बनाना किया शुरू

मंदिर परिसर की आधुनिक भाेजशाला में मशीनों के कक्ष सहित श्रद्धालुओं के बैठने सहित पूरे परिसर को कवर करने के लिए 44 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। वहीं समिति ने दूध व मावे से आइसक्रीम बनाना शुरू कर दिया है। लोगों को न्यूनतम शुल्क पर शुद्ध आइसक्रीम उपलब्ध कराई जा रही है।

खबरें और भी हैं...