पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली पर कोरोना इफेक्ट:मीटर रीडर संक्रमित थे, 10%बढ़ाकर दिए अनुमानित बिल, अब रोज सैकड़ों शिकायतें

बड़वानीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिजली बिल में सुधार कराने के लिए कार्यालय में लगी लोगों की भीड़। उपभोक्ताओं से मीटर रीडिंग की जानकारी लेते प्रभारी एई स्वप्निल डावर। - Dainik Bhaskar
बिजली बिल में सुधार कराने के लिए कार्यालय में लगी लोगों की भीड़। उपभोक्ताओं से मीटर रीडिंग की जानकारी लेते प्रभारी एई स्वप्निल डावर।
  • 10 दिन में 4000 से ज्यादा बिलों में किया सुधार, आगे भी करने को तैयार

कोरोना संक्रमण से राहत के बाद अब ज्यादा राशि के बिजली बिलों ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। कोरोना कर्फ्यू और मीटर रीडर व बिजली कंपनी के अधिकारियों व कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित होने के कारण इस बार बिल व्यवस्था गड़बड़ा गई। कंपनी ने 10% यूनिट बढ़ाकर अनुमानित खपत का बिल थमा दिया। अब बिजली बिलों में सुधार को लेकर रोजाना 1000 से ज्यादा लोग बिजली कंपनी के कार्यालय पहुंच रहे हैं। बुधवार को उपभोक्तओं ने डीई कुंवरसिंह मालवीया से भी शिकायत की है। 10 दिन में 4000 से ज्यादा बिलों में सुधार व 7 हजार से ज्यादा उपभोक्ताओं को दो किस्त में बिल जमा कराने की सुविधा दी है।

बुधवार काे सुबह से बड़ी संख्या में लोग बिजली बिल में सुधार कराने पहुंचे। शाम तक लोगों की शिकायतों का दौर जारी रहा। लोगों का कहना था कि 1000 से 1500 रुपए का बिल जमा कराएंगे तो बच्चाें को क्या खिलाएंगे। अप्रैल व मई माह में कोरोना संक्रमण तेज था। इस बीच मीटर रीडर व अधिकारी, कर्मचारी भी संक्रमित हो गए थे। मीटर रीडिंग नहीं होने के कारण बिजली कंपनी द्वारा गर्मी सीजन के मद्देनजर पिछले महीने के बिल की रीडिंग में अनुमानित वृद्धि कर बिल जारी कर दिए थे। अब लोग सुधार कराने कार्यालय आ रहे हैं। अफसरों द्वारा बिल में सुधार करने के साथ कई उपभोक्ताओं को दो किस्त में बिल जमा कराने की सुविधा दी है।
7000 से ज्यादा उपभोक्ताओं को दी दो किस्त में बिल जमा करने की सुविधा

पहले 100 रु. आता था बिल, इस बार 1428 रु. आया
बुधवार को नरेंद्रसिंह सिसोदिया बिजली बिल में सुधार कराने आए। सिसोदिया ने बताया वे जैमन कॉलाेनी में किराए के मकान में रहते हैं। पहले उनका बिल 100 रुपए आता था लेकिन इस बार 1428 रुपए बिल आया है। रीडिंग लिए बगैर अंदाज से बिल थमाने की जानकारी दी। इसी तरह सावंतपुरम कॉलोनी निवासी संगीता राठौड़ ने बताया एक महीने से उनके घर पर कोई नहीं था। बावजूद ज्यादा राशि का बिल आया है।

शून्य खपत आने की भी शिकायत
ज्यादा राशि के बिलों के अलावा कुछ उपभोक्ताओं ने शून्य खपत व शून्य राशि के बिल आने की भी शिकायत की है। उपभोक्ताओं ने बताया अभी शून्य बिल दिया है लेकिन बिजली कंपनी द्वारा अगले महीने में दो माह की रीडिंग का इकट्‌ठा बिल दिया जाएगा। इससे बचने के लिए शिकायत की है। डाॅ. अब्दुल रशीद पटेल, विजयकुमार जैन, गुरमित गांधी ने बताया शून्य खपत बताई है। अगले महीने के बिल में दो महीने की राशि व अधिभार जुड़ने से बिल की राशि बढ़ेगी। इसी तरह माणकलाल पोपटलाल ने बताया उन्हें बिल में शून्य यूनिट खपत दर्शाकर 95 रुपए का बिल दिया है।

रोज 400 से ज्यादा बिलाें में सुधार
बुधवार को सुबह से प्रभारी एई स्वप्निल डावर के कैबिन के बाहर बिल में सुधार कराने के लिए लोगों की भीड़ लगी थी। डावर ने बताया रोजाना 400 से 500 बिलाें में सुधार किया जा रहा है। रोजाना 700 से 800 उपभोक्ताओं को दो किस्त में बिल जमा कराने की सुविधा दे रहे हैं।

नए टैरिफ में मीटर रेंट में छूट
बिजली के नए टैरिफ अभी लागू नहीं हुए हैं। लागू होने पर बिजली और महंगी होगी। हालांकि नए टैरिफ से मीटर रेंट में छूट देने का प्रावधान किया गया है, जिसे लोग ऊंट के मुंह में जीरा बताया जा रहा है। डावर ने बताया नए टैरिफ के तहत मीटर रेंट में छूट दी गई है, जो अब तक थ्री फेस कनेक्शन में 25 रुपए और सिंगल फेस कनेक्शन में 10 रुपए था।

बिलों में करवा रहे सुधार

  • मीटर रीडर व स्टाफ कोरोना पॉजिटिव हो गया था। कोरोना कर्फ्यू के कारण रीडिंग न होने से 10 फीसदी अधिक यूनिट के बिल जारी किए थे। अब मीटर रीडिंग आने पर शिकायतों का निराकरण किया ज रहा है। उपभोक्ताओं को बिल सुधार कर दे रहे हैं। -कुंवरसिंह मालवीया, डीई बिजली कंपनी बड़वानी
खबरें और भी हैं...