पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संविधान दिवस:हमारा संविधान सभी को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देता है- न्यायाधीश

बड़वानी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • न्यायालय परिसर में हुए कार्यक्रम में पालन करने की दिलाई शपथ

हमारे देश का संविधान प्रत्येक व्यक्ति को अनुच्छेद 19 में भाषण व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, शांतिपूर्ण और निरायुद्ध सम्मेलन की स्वतंत्रता देता है। संगम या संघ बनाने की स्वतंत्रता, भारत में सर्वत्र, अबाध विचरण व किसी भाग में निवास करने या बस जाने की स्वतंत्रता, कोई वृत्ति उपजीविका, व्यापार या कारोबार करने की स्वतंत्रता देता है। संविधान विधि के शासन का आधार है। यह सभी विधियों का स्रोत है। न्यायालय परिसर में गुरुवार को न्यायाधीश अमूल मंडलोई ने यह बात कही। संविधान दिवस के उपलक्ष्य में न्यायालय में कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें उन्होंने मौजूद अधिवक्ताओं को संविधान का पालन करने की शपथ दिलाई। उन्होंने कहा आज ही के दिन हमारे संविधान को अंगीकृत किया गया था। न्यायाधीश आभा गवली, अधिवक्ता संजय गुप्ता ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा सार्वजनिक संपत्ति को सुरक्षित रखने और हिंसा से दूर रहने की संविधान की व्याख्या की। अभियोजन अधिकारी अकरम मंसूरी ने संविधान के प्रति अपमानजनक कृत्यों को रोकने और दोषी व्यक्ति को सजा दिलाने के लिए राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम 1971 की जानकारी दी। इसमें भारत के संविधान को जलाने, फाड़ने, उसका रूप बिगाड़ने पर सजा का प्रावधान है। इस दौरान अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेंद्र श्रीवास सहित सदस्य व पक्षकार मौजूद थे।

और इधर... वाद-विवाद, भाषण और क्विज प्रतियोगिता हुई
बलवाड़ी | शासकीय कॉलेज बलवाड़ी में रासेयो इकाई ने कार्यक्रम किया। प्रोफेसरों ने भारतीय संविधान व डॉ. भीमराव आंबेडकर के जीवन पर प्रकाश डाला। रासेयो कार्यक्रम अधिकारी प्रो. सुभाष सोलंकी ने प्रत्येक नागरिक के जीवन में संविधान की उपयोगिता व महत्व के बारे में बताया। प्राचार्य डॉ. सेवक चौहान ने डॉ. आंबेडकर द्वारा दलित वर्ग व समाज के वंचित वर्ग के उत्थान के लिए किए कार्यों के बारे में बताया। उद्देशिका का वाचन किया गया। रासेयो अधिकारी ने शपथ दिलाई। वाद-विवाद, क्विज और भाषण प्रतियोगिता भी हुई।

संविधान दिवस की शपथ ली, वाद-विवाद और परिचर्चा का आयोजन भी हुआ

संविधान दिवस पर गुरुवार को स्कूल व कॉलेजों में कार्यक्रम हुए। परिचर्चा, वाद-विवाद और भाषण प्रतियोगिता हुई। संविधान दिवस की शपथ भी दिलाई गई। शास. पीजी कॉलेज में संविधान के मूल्यों व सिद्धांतों के संबंध में ऑनलाइन परिचर्चा हुई। प्राचार्य डॉ. मीना भावसार ने कहा अपने मौलिक अधिकारों व कर्तव्यों के पालन करने की आवश्यकता को अपना ध्येय बनाना जरूरी है। डॉ. दिनेश कनाड़े ने बताया दिसंबर 1946 में 389 सदस्यों वाली संविधान सभा का गठन हुआ। इसमें 11 समितियां बनाई गई। इसमें सबसे महत्वपूर्ण प्रारूप समिति थी। इसके अध्यक्ष डॉ. भीमराव आंबेडकर थे। डॉ. एसआर आहिरे ने कहा डॉ. आंबेडकर ने समानता के अवसर व मानव मात्र एक समान के सिद्धांत को जीवन जीने का रास्ता बताया। डॉ. चंदा यादव ने कहा कानून केवल किताबों तक ही न रह जाए बल्कि इसका वास्तविक क्रियान्वयन भी होना चाहिए। संचालन प्रो. महेश बाविस्कर ने किया व आभार विकास पंडित ने व्यक्त किया। वेबिनार से समस्त स्टाफ व विद्यार्थी जुड़े थे। कानूनों का पालन करने की ली शपथ - शासकीय कन्या हायर सेकंडरी स्कूल में प्राचार्य सुशीला ब्राह्मण की उपस्थिति में छात्राओं व शिक्षकों ने संविधान दिवस पर कानूनों का पालन करने की शपथ ली। शिक्षक मीरा नवराय, केएल साहू, मनोज मराठे, भीवलाल चौहान, सुनील गुप्ता, मालती दास, ममता गुले, फूलसिंग सोलंकी मौजूद थे। संविधान दिवस पर ली शपथ - कोर्ट परिसर में संविधान की प्रस्तावना का वाचन अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश कृष्णा परस्ते ने किया। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश उदयसिंह मरावी, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी मोहम्मद जफर खान, न्यायिक दंडाधिकारी द्वितीय श्रेणी राहुल सोनी मौजूद थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser