1 मई से शादियों पर प्रतिबंध:पूर्व में मिली अनुमतियां भी की निरस्त

बड़वानी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में हुई जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक

जिले में अब एक मई से शादियां नहीं होंगी। पूर्व में दी गई अनुमतियों के आधार पर भी कोई शादी नहीं कर सकेगा। ऐसा करने पर संबंधित के खिलाफ कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री की वीडियो कांफ्रेंसिंग के बाद बुधवार को कलेक्टोरेट में जिला आपदा प्रबंधन समिति सदस्यों की बैठक हुई। इसमें यह निर्णय लिया गया। बैठक में कलेक्टर ने बताया कोरोना कर्फ्यू के दौरान सख्ती के कारण जिले में कोरोना प्रभावितों का प्रतिशत 32 से घटकर 16 पर आ गया है। कोरोना प्रभावितों की रिपोर्ट के आधार पर यह देखने में आया है शहरों में लगातार संक्रमितों की संख्या घट रही है। लेकिन गांवों में बढ़ रही है।

जिले के ऐसे गांव जो शहरों से लगे हैं या बड़े हैं वहां पर प्रभावितों की संख्या बढ़ रही है। इन गांवों में अब भी सख्ती से कोरोना कर्फ्यू का पालन नहीं हो रहा है। जिले के 227 गांवों में अब तक संक्रमित मिले हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी मैदानी अमले को सक्रिय किया है।

कोरोना प्रभारी मंत्री प्रेमसिंह पटेल, सांसद गजेंद्रसिंह पटेल, एसपी निमिष अग्रवाल, भाजपा जिलाध्यक्ष, अपर कलेक्टर लोकेश कुमार जांगिड़, जिपं सीईओ ऋतुराजसिंह, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुरेखा जमरे, जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डॉ. लक्ष्मी माहौर मौजूद थे।

ये भी लिए निर्णय
सर्वे में सर्दी-खांसी-बुखार से पीड़ित लोग मिले, तो उन्हें होम क्वारंटाइन कर मेडिसिन किट दें
ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना कर्फ्यू का अच्छी तरह पालन हो। ग्राम स्तरीय कर्मचारियों व स्थानीय लोगों की समिति बनाकर उन्हें जिम्मेदारी दें
कर्मचारियों व ग्रामीणों की समिति यह तय करेगी कि गांव में बिना अनुमति कोई भी शादी न होने पाए। अनुमति के साथ शादी हो और 20 से ज्यादा लोग शामिल न हो
जनपद व ग्राम पंचायत स्तर पर आपदा प्रबंधन समिति बनाए, ताकि गांवों में स्थानीय स्तर पर कार्रवाई हो सके

खबरें और भी हैं...