पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लोअर गोई परियोजना:नहर बनाकर तालाब में छोड़ें पानी, या किसानों को मिले श्रमदान की मंजूरी

बड़वानी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • किसानों ने अधूरी नहरों के निर्माण पर कलेक्टोरेट के बाहर दिया धरना, किसानों ने कलेक्टर को बताई समस्याएं, निर्माण एजेंसी के खिलाफ जताया विरोध

अधूरी लोअर गोई परियोजना अब किसानों के लिए मुसीबत का सबब बन गई है। किसानों को फसलों की सिंचाई के लिए पानी नहीं मिल रहा है। वहीं फसल नहीं पकने पर आजीविका का संकट गहराने की चिंता सता रही है। इसको लेकर मंगलवार को छोटी खरगोन, बालकुआं, रेहगुन, माेयदा, सालखेड़ा, वासवी, रणगांव रोड के किसान कलेक्टोरेट पहुंचे। नहरों के अधूरे निर्माण व छोटी खरगोन के तालाब में पानी छोड़ने की मांग को लेकर कलेक्टोरेट के बाहर कुछ समय धरना भी दिया। निर्माण एजेंसी पर नहरों के घटिया निर्माण के आरोप लगाए। जनसुनवाई के बाद कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने किसानों की समस्याएं सुनी। उन्होंने कलेक्टर से मांग की है कि छोटी खरगोन स्थित तालाब तक नहर बनाकर पानी छोड़ा जाए। किसानों ने कलेक्टर से मांग की है कि उन्हें श्रमदान करने की मंजूरी दी जाए, ताकि उनके स्तर के काम वे कर सके। इस पर कलेक्टर ने बताया वे तकनिकी जानकारी जुटाने के बाद ही श्रमदान की मंजूरी दे सकेंगे। क्योंकि नहर निर्माण एक बड़ा प्रोजेक्ट है। परियोजना समय पर पूरी नहीं करने के कारण निर्माण एजेंसी को ब्लैक लिस्टेड करने का प्रस्ताव भेजा है। हालांकि अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

10 से 12 गांव के सैकड़ों किसानों को मिलेगा फायदा
किसान महेंद्र पटेल ने बताया छोटी खरगोन स्थित तालाब सूखा पड़ा है। नहर बनाकर तालाब में पानी छोड़ने से 10 से 12 गांव के सैकड़ों किसान करीब 3000 हेक्टेयर में फसलों की सिंचाई कर सकेंगे। अन्यथा की स्थिति में फसल नहीं लेने पर उन्हें परिवार पालने में परेशानी होगी। इस दौरान नरेंद्र राठौर, मदन पंवार, लक्ष्मण काग, अमरसिंह, मयाराम सोलंकी सहित 100 से ज्यादा किसान मौजूद थे।

नए टेंडर के बाद निर्माण कार्यों में होगी देरी
किसान श्याम कछावा ने बताया 17 साल बाद भी महत्वपूर्ण योजना का लाभ किसानों को नहीं मिला। शासन व प्रशासन ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया। लोअर गोई परियोजना के अधूरी रहने से प्रशासन ने निर्माण एजेंसी को ब्लैक लिस्टेड करने का प्रस्ताव भेजा है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। कंपनी के कर्मचारी ब्लैक लिस्टेड होने के बाद कोर्ट जाने की बातें कह रहे हैं। ऐसी स्थिति में निर्माण कार्य में और देरी होगी। इससे किसानों को ही नुकसान होगा। उन्होंने बताया निर्माण एजेंसी ने कई गांवों में खुदाई के बाद नहर नहीं बनाई। किसानों द्वारा नहर में उगे पौधों की सफाई कराने के बाद सिंचाई के लिए कुछ पानी मिल रहा है। कई जगह नहर क्षतिग्रस्त हो चुकी है। लेकिन मरम्मत नहीं कराई।

कच्ची नहरों में छोड़ा पानी, पत्थरों ने रोका
नहरों का निर्माण नहीं होने से कच्ची नहरों में पानी छोड़ा है। रोझानी से छोटी खरगोन के बीच नहर बनना बाकी है। लिंबई के पास कच्ची नहर से पानी पहुंच रहा है। नहर में बड़े-बड़े पत्थर पड़े हैं। इससे किसानों को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। कछावा ने बताया 227 किमी उप नहर बनना बाकी है। आमलियापानी से सजवानी तक 17 किमी नहर का निर्माण अधूरा है। जमीन अधिग्रहण के बाद कोई काम नहीं हुआ। बड़वानी तहसील के 9 गांवों को लाभ नहीं मिल रहा है। 27 किमी लंबी मुख्य नहर का काम बाकी है।

3000 हेक्टेयर में प्रभावित होगी सिंचाई
किसान महेंद्र पटेल ने बताया जुलवानिया व रणगांव के बीच स्थित छोटी खरगोन में आधा किमी मुख्य नहर की खुदाई की थी। लेकिन अभी नहर नहीं बनी है। लिंबई के पास खुदाई बाकी है। रोझानी में सुरंग का निर्माण होना है। दो साल से काम बंद पड़ा है। छोटी खरगोन, माेयदा, रोझानी, सालखेड़ा, वासवी, रणगांव रोड, बकवाड़ी, पिपरी बुजुर्ग, कुसमरी सहित 10 से 12 गांवों में 3000 हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्र में सिंचाई नहीं हो सकेगी। इससे 1500 किसानों को नुकसान उठाना पड़ेगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपकी मेहनत व परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होगा। किसी विश्वसनीय व्यक्ति की सलाह और सहयोग से आपका आत्म बल और आत्मविश्वास और अधिक बढ़ेगा। तथा कोई शुभ समाचार मिलने से घर परिवार में खुशी ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser