पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

धर्म-सभा:धर्म ढोंग की वस्तु नहीं, जीवन जीने की कला है

बड़वानी5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बावनगजा में समाज के लोगों ने की भगवान आदिनाथ की शांतिधारा, मुनिश्री ने कहा-

सिद्धक्षेत्र बावनगजा में मुनिश्री अध्ययन सागरजी महाराज व आर्यिका विदक्षाश्री माताजी चातुर्मास आराधना कर रहे हैं। संतों के सान्निध्य में शनिवार को समाज के लोगों ने भगवान आदिनाथ की शांतिधारा, अभिषेक व पूजन विधान किया। एसपी जैन व प्रमिला जैन दिल्ली वालों को शांतिधारा का सौभाग्य मिला। पूजन विधान के बाद मुनिश्री ने धर्म सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा धर्म ढोंग की वस्तु नहीं, सही ढंग से जीने की कला है। अत: धर्म का ढाेंग नहीं ढंग से करें। ढोंग से पाखंड पलता है। पाखंड नहीं पाप का खंडन करो। मुनिश्री ने कहा पाप के खंडन के लिए शुद्ध आचरण की आवश्यकता है। आंतरिक पवित्रता के अभाव में किए गए बाह्य त्याग को आडंबर बताते हुए लिखा है देखो जो मनुष्य वास्तव में अपने मन से तो किसी वस्तु को छोड़ता नहीं। लेकिन बाहर त्याग का आडंबर रचता है। लोगों को ठगता है। उससे बढ़कर कठोर ह्रदय कोई नहीं, जो मनुष्य बाहर से अपनी कर्म इंद्रियों को रोककर मन ही मन इंद्रिय विषयों को स्मरण करते रहता है, वह मूढात्मा और अंतरंग में दोष पूर्ण जीवन शैली बहुत बड़ी आत्म वंचना है। जो आत्मा को चारों ओर से पतन कराने वाली है।

धन को गाड़ना पाषाण बनाने के समान है-माताजी
आर्यिका विदक्षाश्री माताजी ने कहा जो संपत्ति का संग्रह करके ना तो उसका उपभोग करता है, ना ही सत पात्रों को दान देता है। वह बहुत बड़ी आत्म वंचना करता है। उसका मनुष्यत्व निष्फल है, जो पुरुष परिश्रमपूर्वक धन अर्जित कर उसे धरती के नीचे गाड़ कर रखते हैं। वे अपनी संपत्ति को पाषाण के समान बना रहे हैं। वस्तुत: संपत्ति को गाड़ने की जरुरत नहीं है। अपने पुण्य को गाड़ा बनाने की आवश्यकता है। कोई कितना भी सुरक्षित रखने का प्रयत्न करें, पुण्य के योग के रहने तक ही इनका टिकाव होता है। पुण्य के क्षीण होते ही ये सब नष्ट हो जाते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-स...

और पढ़ें