पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Barwani
  • The Door Will Open Without Touching, If The Electricity Goes, Operation Will Be Possible In Sunlight, The Risk Of Infection Is Reduced

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मॉड्यूलर ओटी:बिना छुए खुलेगा दरवाजा, बिजली गई तो सूरज की रोशनी में हो सकेगा ऑपरेशन, संक्रमण का खतरा कम

बड़वानी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला अस्पताल के ट्रामा सेंटर में एक सप्ताह में मिलने लगेगी सुविधा, इंदौर रैफर करने से निजात

जिला अस्पताल स्थित ट्रामा सेंटर में 99.5 लाख रुपए एक मॉड्यूलर व एक सामान्य ओटी बनाई जा रही है। इसका काम लगभग पूरा हो गया। मॉड्यूलर यानी विभिन्न यंत्रों को आवश्यकता के अनुसार समायोजित किया जा सके। मरीजों को एक सप्ताह में सुविधा मिलेगा। यहां पर हड्डी रोग से जुड़े छोटे-बड़े सभी तरह के ऑपरेशन हो सकेंगे। ओटी पूरी तरह से हाईटेक है। बिना छुए (सेंसर लगे हुए है) दरवाजा खुलेगा। औजारों को भी स्टाफ नर्स लेकर नहीं जाएगी। पास बॉक्स (स्टाफ को बार-बार ओटी में आना-जाना नहीं करना पड़ेगा) के माध्यम से ओटी तक पहुंचेंगे। वहीं सूर्य का प्रकाश भी अंदर तक पहुंचेगा। स्वास्थ्य विभाग इंजीनियर जुगलकिशोर ने बताया दोनों ओटी का काम लगभग पूरा हो गया है। 10 से 15 दिन इसकी सुविधा मरीजों को मिलने लगेगी। स्वास्थ्य विभाग अधिकारियों ने बताया हड्डी से जुड़े ऑपरेशन करने के लिए ट्रामा सेंटर में पहले सामान्य ओटी बनी थी। अब हााईटेक बनाया गया है।

मॉड्यूलर ओटी की पहली तस्वीर भास्कर में...8 खासियत जिससे काम होगा आसान

ऑक्सीजन : यहां ऑक्सीजन सप्लाय के लिए अलग से व्यवस्था है। सुविधा से ऑक्सीजन पैनल यहां-वहां किया जा सकता है।

पास बॉक्स : इस बॉक्स की मदद से ओटी के बाहर वाला स्टॉफ कोई भी वस्तु या औजार ओटी के भीतर पहुंचा सकेगा। एक्स-रे स्टेंड : एक्स-रे देखने के लिए दो स्टेंड लगे है। एक में सूर्य की रोशनी में एक्स-रे देखा जा सकता है। सेंट्रल एसी : इससे ओटी के भीतर के तापमान को कंट्रोल किया जा सकेगा। साथ ही ओटी में नमी आने की गुंजाइश कम रहेगी। खिड़की: ओटी में 1 खिड़की लगाई गई है। जिससे सूर्य का प्रकाश ओटी के अंदर पहुंचेगा। बिजली बंद होने के बाद भी ऑपरेशन हो सकेंगे। कंट्रोल पैनल : इस पेनल के माध्यम से ओटी के भीतर के सभी संसाधनों को कंट्रोल किया जा सकेगा। मुख्य गेट : ये सेंसर युक्त गेट है जिसके पास (अंदर और बाहर)सेंसर लगा हुआ है जिसको हाथ लगाने से गेट खुलेगा और बंद भी होगा।

एक्सपर्ट व्यू: कम होता है खतरा
सामान्य ओटी की तुलना में मॉड्यूलर ओटी में संक्रमण का खतरा नाम मात्र का रहता है। क्योंकि इसमें एयर फिल्टर लगाए जाते है। इसके अलावा अन्य सुविधाएं भी ऐसी रहती है। जिनसे संक्रमण फैलने का खतरा बहुत कम रहता है। डॉ. नितिन पटेल, हड्डी रोग विशेषज्ञ जिला अस्पताल बड़वानी।
ओटी से ये होगा फायदा
जिला अस्पताल में हड्डी रोग से जुड़े छोटे-बड़े ऑपरेशन हो सकेंगे। मरीज को इंदौर भेजने की जरूरत कम होगी। हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. जीएस सोलंकी ने बताया मॉड्यूलर ओटी में संक्रमण का खतरा बहुत कम रहता है।
चारों जिलों में मिलेगी सुविधा
निमाड़ के सभी जिलों के जिला अस्पताल में मरीजों को इस मॉड्यूलर ओटी की सुविधा मिलेगी। बड़वानी के अलावा खंडवा, बुरहानपुर और खरगोन में भी मॉड्यूलर ओटी बनाई जा रही है। इंदौर रैफर करने से निजात मिलेगी।
1 सप्ताह में होगा पूरा काम
^ लगभग सभी काम पूरा हो चुका है। एक सप्ताह के भीतर बचा हुआ काम भी पूरा हो जाएगा। इसके बाद इसकी सुविधा मरीजों को मिलने लगेगी।
-जुगलकिशोर, इंजीनियर स्वास्थ्य विभाग बड़वानी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें