रात में कर्फ्यू के हाल / रात में घूम रहे लोगों से पुलिस ने कारण पूछा, ज्यादातर का जवाब- अस्पताल जा रहे

The people asked the people walking in the night, the reason for most - going to the hospital
X
The people asked the people walking in the night, the reason for most - going to the hospital

  • शाम 7 से सुबह 7 बजे तक लोगों के बाहर निकलने पर रोक, फिर भी सड़कों पर निकल रहे लोग
  • पुलिस ने कारंजा चौक पर पूछताछ कर कई लोगों को वापस भेजा घर
  • 25 और लोगों की रिपोर्ट निगेटिव, 123 लोगों की आना बाकी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

बड़वानी. लॉकडाउन 4 में शाम 7 से सुबह 7 बजे तक लोगों के बाहर निकलने पर रोक लगाई है। इसको लेकर गुरुवार रात को कारंजा चौक पर पुलिस टीम ने आने-जाने वाले लोगों को रोककर पूछताछ की। ज्यादातर लोगों का एक ही जवाब था- सर अस्पताल गए थे या अस्पताल में टिफिन देने आए थे। वहीं कुछ लोगों ने ऑफिस से घर लौटने की वजह बताई। वहीं कई लोग पत्नी व बच्चों को साथ लेकर अस्पताल टिफिन देने का कारण बताते मिले। इस पर इन लोगों को पुलिस ने परिवार को घर छोड़कर अकेले जाने की अनुमति दी।
रात में कर्फ्यू का पालन कराने के लिए पुलिस को अब सख्ती बरतना होगी। क्योंकि शहर में शाम से लेकर रात तक लोग बाइक पर घूम रहे हैं। लापरवाही जारी रही, तो फिर से कोरोना महामारी फैल सकती है। सेंधवा में नए क्षेत्रों में संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। बावजूद लोग सतर्कता नहीं बरत रहे हैं। गुरुवार रात को कारंजा चौक पर बेरीकेड्स लगाकर आने-जाने वाले लोगों से पूछताछ की गई। ग्रीन जोन में आने के बाद अब लापरवाही बढ़ गई है। हाल ये हैं कि रात में लोग पत्नी व बच्चों को साथ लेकर आवाजाही करते नजर आए। बच्चों के मुंह पर मास्क नहीं लगा था। टीम ने लोगों से मास्क लगवाए या मुंह पर रूमाल बांधने के बाद जाने दिया। एक युवक के पास मास्क व रूमाल न होने पर उसकी टीशर्ट से मुंह बंधवाया। एक युवक, पत्नी, छाेटे बच्चे व दूधमुंहे बच्चे को लेकर बाइक से मां को छोड़ने जा रहा था। इस पर पुलिस ने उन्हें वापस घर भेज दिया। वहीं अन्य लोग अस्पताल से जाने या अस्पताल में टिफिन देने या लौटने का कारण बताते रहे। इन लोगों को पत्नी व बच्चों को घर छोड़ने के बाद अस्पताल टिफिन देने जाने का कहकर घर भेजा। 
उल्लंघन... शहर में नहीं हो रहा कर्फ्यू का पालन
शहर के मुख्य मार्गों व मोहल्लों में कर्फ्यू का पालन नहीं हो रहा है। लोग ओटलों पर बैठकर चौपाल लगा रहे हैं। वहीं गली-मोहल्लों में भी यहीं हाल है। बिना मास्क लगाए महिलाएं, पुरुष व बच्चे घूमते रहते हैं। यह लापरवाही भारी पड़ सकती है। बावजूद लोग स्वयं की सेहत और सुरक्षा के प्रति सतर्क नहीं है। वहीं पुलिस भी मुख्य मार्गोँ व मोहल्लों में सख्ती नहीं बरत रही है।.
2549 बसों से भेजे 1 लाख 14 हजार से ज्यादा मजदूर
महाराष्ट्र से बड़ी संख्या में उत्तरप्रदेश व बिहार जाने के लिए मजदूरों का बड़ी बिजासन से मप्र की सीमा में प्रवेश कर रहे हैं। 12 मई से अभी तक प्रदेश सरकार ने 2549 बसों से 1 लाख 14 हजार 705 मजदूरों को उनके गृह राज्य तक निःशुल्क भेजा हैं। सेंधवा एसडीएम घनश्याम धनगर ने बताया शुक्रवार सुबह 6 से शाम 5 बजे तक 198 बसों से 8 हजार से ज्यादा मजदूरों को उनके गंतव्य स्थल के लिए रवाना किया है।
हेल्थ बुलेटिन में गड़बड़ी एक रिपोर्ट बताई निगेटिव
कोरोना वायरस को लेकर जांच सैंपल की रिपोर्ट का स्वास्थ्य विभाग द्वारा रोजाना हेल्थ बुलेटिन जारी किया जा रहा है। इसमें रोज कुछ न कुछ गड़बड़ी सामने आ रही है। शुक्रवार को जारी बुलेटिन में 1 रिपोर्ट निगेटिव आना बताया है। जबकि गुरुवार रात में 20 और शुक्रवार को 5 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। सीएमएचओ डॉ. अनीता सिंगारे ने बताया हेल्थ बुलेटिन में गड़बड़ को लेकर संबंधित से जानकारी लेंगी। उन्होंने बताया अभी तक जिले से 1266 सैंपल भेजे गए। इसमें से 38 पॉजिटिव और 1082 निगेटिव रिपोर्ट आई है। 116 रिपोर्ट आना बाकी है।
86 मकानों का किया सर्वे
स्वास्थ्य विभाग द्वारा शहर में दूसरे चरण का सर्वे किया जा रही है। शुक्रवार को वार्ड क्रमांक 9, 11, 23 के 86 मकानों का सर्वे कर 389 लोगों की स्क्रीनिंग की। 60 साल से अधिक आयु के 47 बुजुर्ग व 39 बच्चे मिले। सीएमएचओ डॉ. अनीता सिंगारे न बताया सर्दी-खांसी-बुखार से पीड़ित कोई नहीं मिला। जबकि 1 व्यक्ति को बीपी व दो ने शुगर की समस्या बताई है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना