पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

130.500 मी. जलस्तर:आधा मीटर कम हुआ जलस्तर, रोड पर 5 फीट पानी

बड़वानी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एकादशी पर दोपहर तक चला स्नान का दौर, भक्तों ने नर्मदे हर के लगाए जयघोष

राजघाट में अब सरदार सरोवर बांध के बैकवाटर का असर कम होने लगा है। मंगलवार को जलस्तर 130.500 मीटर पहुंच गया। दो दिन में आधा मीटर जलस्तर कम हुआ है। बावजूद अब भी रोड पर 5 फीट पानी है। मंगलवार को एकादशी पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु नर्मदा स्नान करने पहुंचे। सुबह से दोपहर तक स्नान का दौर चला। श्रद्धालुओं ने नर्मदा स्नान कर नर्मदे हर के जयघोष लगाए। लोगों ने बोट के जरिए राजघाट का भ्रमण कर मोबाइल से फोटो खिंचे।

दो दिन पहले नर्मदा का जलस्तर 131.000 मीटर था, जो मंगलवार को 130.500 मीटर पर पहुंच गया। रोड पर पानी भरा होने से राजघाट में बसे लोगों को नाव से आवाजाही करना पड़ रही है। देवेंद्रसिंह सोलंकी ने बताया बारिश के दौरान खेतों में आवाजाही के लिए प्रशासन द्वारा बोट की व्यवस्था की गई थी। लेकिन अब बोट चालकों को कुछ राशि का भुगतान होना बाकी है। नाविकों का कहना है राशि मिलने के बाद ही बोट चलाएंगे।

1 सप्ताह में खुल सकता है राजघाट जाने का रास्ता

जानकारी अनुसार गुजरात स्थित सरदार सरोवर बांध से पानी नहरों में छोड़ा जा रहा है। इसके चलते राजघाट में जलस्तर कम हो रहा है। करीब एक मीटर और पानी कम होने पर राजघाट जाने वाला रास्ता खुलेगा। ऐसे में एक सप्ताह के भीतर रास्ता खुलने की संभावना है।

सांसद से की बसाहट में पेयजल की मांग

कुकरा बसाहट के रहवासी मंगलवार को सांसद गजेंद्र पटेल से मिले। लोगों ने सांसद से चर्चा कर बसाहट में पेयजल, सड़क व नाली की व्यवस्था कराने की मांग की है। लोगों ने बताया अभी पीने के लिए फिल्टर प्लांट से पानी लाना पड़ रहा है, जो बसाहट से करीब 2 किमी दूर है। उन्होंने गर्मी से पहले पेयजल की व्यवस्था करवाने की मांग की। सांसद ने भूअर्जन अधिकारियों को बुलाकर चर्चा की है। साथ ही उन्हें व्यवस्था के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें