पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लापरवाही:पार्किंग के पास खुले में फेंक रहे जिला अस्पताल का 5 से 7 किलो बायो मेडिकल वेस्ट, संक्रमण का खतरा

बुरहानपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोजाना निकलता है 70 से 80 किलो वेस्ट, इंदौर से लेने आता है वाहन, इसके बाद भी 5 से 7 किलो तक यहीं छूट रहा

जिले में कोरोनावायरस के संक्रमण से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग चिंतित है। बावजूद इसके जिला अस्पताल में लापरवाही बरती जा रही है। जिला अस्पताल से निकलने वाले बायो मेडिकल वेस्ट के निपटान में बरती जाने वाली यह कोताही आमजन के स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती है। अस्पताल प्रबंधन की अनदेखी के कारण रोजाना पांच से सात किलो बायो मेडिकल वेस्ट अस्पताल की पार्किंग के पास खुले में फेंका जा रहा है। इसमें इस्तेमाल किए गए मास्क, ग्लब्स, टोपी, एप्रिन, सीरिंज और दवाइयों सहित अन्य कचरा शामिल है। आवारा मवेशी इसे अस्पताल से रोड तक फैला रहे हैं। ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा है। लेकिन कोई भी जिम्मेदार इस पर ध्यान नहीं दे रहा है। 200 बेड के जिला अस्पताल में रोजाना 300 से ज्यादा मरीजों का इलाज हो रहा है। इसमें इस्तेमाल के बाद करीब 70 से 80 किलो बायो मेडिकल वेस्ट निकल रहा है। इन्हें डालने के लिए अस्पताल के वार्डों में अलग-अलग डस्टबिन रखे हुए हैं।लेकिन कई कर्मचारी इनमें मेडिकल वेस्ट नहीं डालते हुए यहां-वहां फेंक रहे हैं। इस कारण करीब 5 से 7 किलो बायो मेडिकल वेस्ट अस्पताल परिसर में छूट रहा है। सफाई के दौरान कर्मचारी इसे उठाकर बाहर पार्किंग के पास किए गए खुले गड्ढे में फेंक रहे हैं।

ऐसी है अस्पताल में वेस्ट निपटान की व्यव्यस्था

  • अस्पताल के विभिन्न वार्डों में रखे डस्टबिन में बायो मेडिकल वेस्ट डाला जाता है।
  • डस्टबिन में रखी थैलियां में वेस्ट बांधकर बाहर निकाला जाता है।
  • अस्पताल भवन के बाहर एक निर्धारित जगह पर ये थैलियां रखी जाती हैं।
  • रोजाना इंदौर से पहुंचने वाले वाहन में ये थैलियां रखकर ले जाई जा रही हैं।

अस्पताल से निकल रहे वेस्ट को पहुंचा रहे इंदौर
जिला अस्पताल के पास बनाए गए कोविड केयर सेंटर से फिलहाल रोजाना 10 से 12 किलो बायो मेडिकल वेस्ट निकल रहा है। इसमें पीपीई किट, ग्लब्स, मास्क और टोपी सहित अन्य कचरा शामिल है। इसके निपटान के लिए रोजाना इंदौर से वाहन पहुंच रहा है। इस वेस्ट को इंदौर ले जाया जा रहा है। बावजूद इसके पांच से सात किलो वेस्ट यहीं छूट रहा है। इसके उचित निपटान की ओर किसी का ध्यान नहीं है।

300 में से रोजाना भर्ती हो रहे 75 से 90 मरीज
जिला अस्पताल में रोजाना करीब 300 से ज्यादा मरीज इलाज कराने पहुंच रहे हैं। इनमें से 75 से 90 मरीज भर्ती हो रहे हैं। इनमें बच्चे, युवा और बुजुर्ग सभी शामिल हैं। कोरोना संक्रमण के बीच इनके इलाज में इस्तेमाल की गई सामग्री खुले में फेंकने से खतरा और बढ़ रहा है।

गार्डन और झाडि़यों में फेंक रहे वेस्ट
अस्पताल के कई लापरवाह कर्मचारी मास्क, टोपी, एप्रिन और ग्लब्स सहित अन्य वेस्ट खुले में फेंक रहे हैं। अस्पताल के गार्डन सहित झाड़ियों के बीच ये कचरा देखा जा सकता है। कुछ वार्डों से सफाई के दौरान यहां वेस्ट निकल रहा है। इसे ट्रॉली में भरकर खुले में फेंका जा रहा है।
गरीब वेस्ट से ढूंढ रहे बेचने के लिए कचरा
इस मेडिकल वेस्ट में से कई गरीब लोग रोजी-रोटी की जुगाड़ के लिए बेचने लायक कचरा ढूंढ रहे हैं। यह कचरा शहर में रद्दी और कचरे वालों को बेचा जा रहा है। ऐसे में शहर में संक्रमण फैलने का डर है। लेकिन वेस्ट के सही निपटान की ओर अस्पताल प्रबंधन का ध्यान नहीं है।

एक्सपर्ट व्यू
कचरा बीनने वालों से फैल सकता है संक्रमण

 बायो मेडिकल वेस्ट खुले में नहीं फेंक सकते। इसके निपटान की व्यवस्था जरूरी है। खुले में पड़े कचरे को मवेशी फैलाते हैं। कचरा बीनने वाले इसके संपर्क में आते हैं। इससे उनमें संक्रमण बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है।
-डॉ. अजयसिंह रघुवंशी, पशु विशेषज्ञ, बुरहानपुर

इंदौर से आने वाले कर्मचारी कैसे जुटाएंगे वेस्ट
^ निर्धारित जगह से बायो मेडिकल वेस्ट निपटान के लिए इंदौर भिजवा रहे हैं। सफाई का ध्यान रखना है। कुछ कर्मचारी खुले में वेस्ट फेंक रहे हैं। ऐसे में इसे इंदौर से आने वाले कर्मचारी कैसे जुटाएंगे।
-सतीश केलकर, प्रभारी बायो मेडिकल वेस्ट निपटान

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser