पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना:ज्यादा संक्रमित जिलों से घिरे जिले में पॉजिटिव रेट 1.88%, प्रदेश में अपनाएंगे बुरहानपुर माॅडल

बुरहानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य आयुक्त ने कहा- विपरीत परिस्थितियों में जिले ने बेहतर प्रबंधन किया
  • लोनी चैकपोस्ट, जिला अस्पताल और फीवर क्लीनिक से सर्वे टीम ने जुटाई जानकारी

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर दिख रहा है। ऐसे में संक्रमितों जिलों में बेहतर प्रबंधन के लिए बुरहानपुर मॉडल लागू किया जाएगा। इसकी कार्ययोजना बनाने के लिए भोपाल से स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त डॉ. संजय गोयल बुरहानपुर पहुंचे। प्रदेश में पॉजिटिव रेट 5.4% है, जबकि चारों ओर से ज्यादा संक्रमित जिलों से घिरे बुरहानपुर में पॉजिटिव रेट 1.88% प्रतिशत है। यहां कोरोना संक्रमण को काफी बेहतर ढंग से रोका गया है। बुरहानपुर मॉडल की तारीफ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी कर चुके हैं। अब इस मॉडल को जानने और प्रदेश की कार्ययोजना में शामिल करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम लगी हुई है। स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. गोयल ने गुरुवार को बुरहानपुर में संक्रमण से बचाव के लिए बनाई कार्ययोजना को जाना-समझा। दोपहर 2 बजे वे कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। कलेक्टर प्रवीण सिंह अवकाश पर हैं। इसलिए एसडीएम विशा माधवानी ने बुरहानपुर मॉडल पर तैयार की गई पीपीटी से उन्हें पूरी जानकारी दी। इसे समझने के बाद डॉ. गोयल ने प्रशासनिक अफसरों और डॉक्टर्स से चर्चा की। उन्होंने जिला अस्पताल, लोनी बॉर्डर और अन्य जगह संक्रमण को लेकर की गई तैयारियां देखी।

सरकारी अमले को मोटिवेट किया, इससे बढ़ी कार्य करने की क्षमता
पीपीटी देखने के बाद स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. गोयल ने कहा व्यवस्थाओं का बेहतर उपयोग कर बुरहानपुर संक्रमण से बच सका है। सरकारी अमले के मोटिवेशन के बिना ऐसा काम कर पाना संभव नहीं है। इसी से उनकी कार्य क्षमता बढ़ी है। एसडीएम विशा माधवानी ने बताया मैदानी अमले में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का सर्वे के समय हर सप्ताह कोरोना टेस्ट होता था, इससे उनकी सुरक्षा भी हुई। कलेक्टर प्रवीण सिंह लगातार मैदानी अमले से मिलते और उन्हें मोटिवेट करते रहे।

6 जिलों की स्थिति जिला संक्रमित खंडवा 1953 खरगोन 4238 आकोला 9184 बुलढाणा 11876 अमरावती 18154 जलगांव 54691

ऐसे मिले संक्रमित
अप्रैल 01
मई 304
जून 98
जुलाई 81
अगस्त 83
सितंबर 151
अक्टूबर 69
नवंबर 19

डेंगू-मलेरिया रोकने में भी कारगर साबित होगी व्यवस्था
डॉ. गोयल ने कहा कोरोना संक्रमण के लिए बनी यह कार्ययोजना दूसरी बीमारियों को रोकने में भी कारगर साबित होगी। अभी डेंगू-मलेरिया का प्रकोप बढ़ा है। मैदानी अमला सर्वे करने में माहिर हो गया है। इसलिए जागरूकता अभियान व मरीजों की ज्यादा पहचान आसानी से हो सकती है।

इन बातें से समझें बुरहानपुर मॉडल

बॉर्डर पर सख्ती - जिले से लगे खंडवा, खरगोन, जलगांव, अमरावती, बुलढाना व अकाेला जिलों में ज्यादा संक्रमित है। इसलिए बॉर्डर को सील कर दिया। बिना प्रशासन की अनुमति के आवागमन पर रोक लगा दी। सिर्फ बहुत जरूरी होने पर ही लोगों को आवागमन करने दिया। बॉर्डर पर आने-जाने वालों की जानकारी जुटाई। इससे संक्रमण की रफ्तार धीमी हुई।

निजी क्लीनिक बंद, सरकारी में ही जांच- मई-जून में संक्रमण बढ़ रहा था। लोग बीमारी के लक्षण छुपा रहे थे। इसलिए प्रशासन ने निजी क्लीनिक बंद करवा दिए। सरकारी अस्पताल में ही जांच के निर्देश दिए। मेडिकल स्टोर्स पर बिना सरकारी डॉक्टर की पर्ची के दवा देने पर रोक लगाई। फीवर क्लीनिक शुरू किए। इससे संक्रमितों की पहचान आसान हुई।
शहर-गांव की आबादी का स्वास्थ्य सर्वे- संक्रमण बढ़ने पर मई में लोग बीमारी छुपा रहे थे। इसलिए स्वास्थ्य और दूसरे विभागों की सहायता लेकर घर-घर सर्वे शुरू किया गया। इसमें ज्यादा से ज्यादा लोगों की जानकारी एकत्र की जा सकी। जिन्हें सामान्य सर्दी-खांसी थी, उनका तुरंत उपचार किया गया। मई में सर्वे के कारण 304 संक्रमित मिले।

संक्रमितों की पहचान, ज्यादा सैंपलिंग और कांटेक्ट ट्रेसिंग- सैंपलिंग कई गुना बढ़ाकर संक्रमितों की कांटेक्ट हिस्ट्री की ट्रेसिंग तेज की। जहां संदेह हुआ, वहां लाेगों को होम क्वारेंटाइन किया। रास्तीपुरा में एक साथ 20 से ज्यादा संक्रमित मिलने पर पूरे वार्ड को कंटेनमेंट जोन बनाया। संक्रमितों व क्वारेंटाइन लोगों की स्थिति व स्वास्थ्य जानने कॉल सेंटर शुरू किया।

हर क्षेत्र से लिया सहयोग- संक्रमितों की पहचान व ज्यादा से ज्यादा सैंपलिंग के लिए प्रशासन ने सरकारी विभागों के साथ राजनेता, धर्म गुरु और समाजसेवी संगठनों का भी सहयोग लिया। धर्मगुरु व राजनेताओं से सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड कर लोगों में जागरूकता फैलाई कि संक्रमण से डरें नहीं, जांच कराएं।
बेहतर सुविधाओं का भरोसा- संक्रमण व मृत्यु दर बढ़ने पर लोगों में डर था। कलेक्टर ने जिले में 2 कोविड केयर सेंटर शुरू किए। वहीं रोज सोशल मीडिया पर वीडियो अपलोड कर लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया। अस्पताल में 60 बेड का वातानुकूलित आइसोलेशन वार्ड तैयार किया।

प्रवासी मजदूरों को सीमा पर रोका, यहीं से जाने की व्यवस्था की- संक्रमण का खतरा प्रवासी मजदूर भी थे। बड़ी तादाद में भोटा फाटा, लोनी व देड़तलाई से मजदूर मप्र, उप्र, बिहार, झारखंड व छत्तीसगढ़ जाने के लिए जिले से गुजरे। ये गुजरात व महाराष्ट्र से आ रहे थे। प्रशासन ने इनके सीमा पर ठहरने व भोजन की व्यवस्था की। बसों से अन्य प्रदेशों की सीमा पर छोड़ा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उत्तम व्यतीत होगा। खुद को समर्थ और ऊर्जावान महसूस करेंगे। अपने पारिवारिक दायित्वों का बखूबी निर्वहन करने में सक्षम रहेंगे। आप कुछ ऐसे कार्य भी करेंगे जिससे आपकी रचनात्मकता सामने आएगी। घर ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser