पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केले की फसल पर मौसम की मार:1500 रुपए प्रति क्विंटल बोली से खुश थे किसान दूसरे दिन आधे दाम में बेची आंधी से आड़ी फसलें

बुरहानपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हवा इतनी तेज कि पेड़ जमीन पर लेट गए - Dainik Bhaskar
हवा इतनी तेज कि पेड़ जमीन पर लेट गए
  • खेत में 2 दिन में सड़ जाएंगे, किसानों का दावा- 3 लाख पौधे गिरे, 60 करोड़ से ज्यादा का नुकसान

शनिवार दोपहर 4 बजे आंधी और बारिश में जो केला फसलें आड़ी गिरी। उस वक्त नीलाम मंडी में उसकी क्वालिटी की ऊंची बोलियां लग रही थी। 1500 रुपए प्रति क्विंटल में दाम तय भी हो गया। दूसरे दिन कटाई के लिए खेत पहुंचे तो आंधी से आड़ी फसलें आधे दाम में बेच दी। शनिवार शाम की आंधी और बारिश में 12 से ज्यादा गांव प्रभावित हुए। किसानों का दावा हैं कि तीन लाख केले के पेड़ गिरे हैं। इससे करीब 60 करोड़ रुपए के नुकसान का भी दावा है। आधा दर्जन गांव में रविवार शाम तक बिजली सप्लाय ठप रहा। ऐसे में किसान बची फसलों की सिंचाई भी नहीं कर पाए। हकीकत जानने के लिए भास्कर कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचा।

अधिकांश केले की फसले तैयार हो चुकी थी। दो दिन पहले तक उनकी ऊंची बोलियां लगी। आंधी में आड़ी होने से गुणवत्ता पर सवाल उठे। ऐसे में मजबूरन किसानों को आधे दाम में बेचना पड़ी। रविवार को दिनभर राजस्व की टीमों ने भी खेतों में पहुंचकर फसलों की स्थिति देखी।

जनप्रतिनिधियों ने किया खोतों का निरीक्षण
रविवार सुबह से जनप्रतिनिधि व अफसर गांवों में नुकसान का जायजा लेने पहुंचे। विधायक सुमित्रा कास्डेकर, विधायक ठा. सुरेंद्रसिंह, पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस, पूर्व जिपं अध्यक्ष ज्ञानेश्वर पाटील आदि ने गांवों में पहुंचकर किसान व लोगों से चर्चा की। नुकसान का जायजा लेकर जल्द मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया।

एक दिन पहले 1450 रु. बोली लगी, व्यापारी ने आड़ी फसल के दाम गिराए
फोफनार के किसान नारायण पाटील ने कहा शनिवार को ही प्रति क्विंटल केला पर 1450 रुपए बोली लगी। रविवार से केला कटाई शुरू हुई। रात को पता चला कुछ फसलें आड़ी हुई है। सुबह देखा तो 10 हजार केले के पेड़ गिर गए। केला भराई से पहले व्यापारी भी फसल देखने पहुंचा।

आड़ी फसलें देख व्यापारी बोला अब दाम आधे ही मिलेंगे। केली खराब हो गई है। 700 प्रति क्विंटल पर बात तय हुई। बोली से आधे दाम में फसल बेच दी। निंबोला क्षेत्र के किसान कैलाश महाजन के खेत में 6 हजार केले के पेड़ प्रभावित हुए। उन्होंने कहा रविवार को खेत में गाड़ी लगना थी। व्यापारी से 1250 का भाव तय हुआ। माल देख व्यापारी ने लेने से इनकार कर दिया।
11 हजार से ज्यादा तैयार लंगूर सहित पेड़ गिरे

  • किसान रामकिशन महाजन की 15 हजार में से 11 हजार केली को नुकसान हुआ है। दो गाड़ी माल कटने के लिए तैयार था।
  • विनोद चौधरी की 4 हजार केली आड़ी हो गई है। उनका दो गाड़ी माल तैयार था। यहां भी व्यापारी न्यूनतम दाम में फसल ले गए।
खबरें और भी हैं...