पिता की अंतिम इच्छा पूरी की:भाई ने बग्घी में निकाली बहन की बरात, दुल्हन ने किया डांस; पिता कहते थे- मेरे बेटा-बेटी बराबर हैं

बुरहानपुर7 महीने पहले

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में पिता की आखिरी इच्छा पूरी करने के लिए दूल्हे की तर्ज पर घर से दुल्हन की बरात निकासी हुई। भाई ने बग्घी बुलाई। उस पर सवार होकर दुल्हन ने पालकी मैं होके सवार चली रे...मैं तो अपने साजन के द्वार चली रे....गाने पर जमकर डांस किया। ये देखकर हर कोई हैरान था। बुरहानपुर में ही एक दिन पहले भी एक दूल्हा इसी तरह डीजे पर चढ़कर डांस करता नजर आया था

यह वीडियो शहर के सरस्वती नगर निवासी राजानी परिवार की बेटी दीपिका पंजूमल राजानी का है। इनका विवाह एक दिन पहले इंदौर में हुआ है। इंदौर जाने से पहले दीपिका के भाई जय राजानी ने अपनी बहन की इस तरह शानोशौकत से बरात निकाली। दीपिका के पिता का सपना था कि उनकी बेटी की बरात धूमधाम से निकले, लेकिन पिता की मृत्यु होने के बाद उनके पुत्र जय राजानी ने उनके इस सपने को पूरा किया। वीडियो के सोशल मीडिया में आने के बाद जमकर तारीफ हो रही है। जब दुल्हन डांस कर रही थी तब बराती दुल्हन के डांस के साथ सेल्फी लेते नजर आए।

बग्गी पर डांसी करती दुल्हन।
बग्गी पर डांसी करती दुल्हन।

समाज को समानता का संदेश देने के लिए निकाली बहन की बरात
सिंधी समाज में विवाह में वधु पक्ष के लोगों द्वारा वर पक्ष के यहां जाकर शादी करने की परंपरा है। जब दीपिका राजानी का परिवार विवाह के लिए इंदौर के लिए रवाना हो रहा था तो उनके भाई जय राजानी ने लड़का-लड़की में समानता का समाज में संदेश देने के लिए अपनी बहन की इस तरह से बारात निकाली। दुल्हन बनी दीपिका अपने साजन के घर जाने से पहले जमकर नाचीं।

और इधर... बैलगाड़ी से बेटी को लेने ससुराल पहुंचा पिता

बैलगाड़ी से बेटी को ससुराल से लेना आया पूरा परिवार।
बैलगाड़ी से बेटी को ससुराल से लेना आया पूरा परिवार।

नेपानगर क्षेत्र के अंधारवाड़ी गांव में परंपरागत पद्धति से भारतीय संस्कृति के अनुसार बैलगाड़ी द्वारा बेटी को लेने चौहान परिवार के सदस्य पाटणकर परिवार के घर बैलगाड़ी से पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने अपनी बेटी पूजा चौहान को बैलगाड़ी पर बैठाकर अपने घर लाए। जहां ग्रामीणों ने भी उनका स्वागत किया। ग्रामीण बैलगाड़ी को देखने के लिए काफी उत्साहित रहे। यहां दो दिन पहले ही दुल्हन पूजा पिता भागवत राव चौहान का विवाह दूल्हे शुभम संभाजी पाटणकर के साथ संपन्न हुआ था। दोनों एक ही गांव के हैं।

खबरें और भी हैं...