नो ट्रेन-नो वोट्स:नेपानगर में युवाओं ने चौराहे पर लगाए चुनाव बहिष्कार के बैनर

​​​​​​​बुरहानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग को लेकर नारेबाजी करते युवा। - Dainik Bhaskar
ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग को लेकर नारेबाजी करते युवा।

बुरहानपुर में अब तक सोशल मीडिया पर नेपानगर में नो ट्रेन-नो वोट्स की मुहिम चला रहे नगर के युवा अब लोकसभा उपचुनाव के चलते अपनी मांग मनवाने के लिए खुलकर आंदोलन, विरोध के मूड़ में आ गए हैं। इसे लेकर देररात युवाओं ने आंदोलन छेड़ दिया और चौराहे पर नो ट्रेन-नो वोट्स के बैनर लगाए।

साथ ही नारेबाजी कर विरोध दर्ज कराया। दरअसल नेपानगर में लॉकडाउन के समय से 10 से अधिक ट्रेनों के स्टॉपेज बंद हैं। यहां वर्तमान में सिर्फ दो ही ट्रेन कुशीनगर और कामायनी एक्सप्रेस रुक रही है। जबकि पैसेंजर, नागपुर भुसावल सुपरफास्ट, सहित अन्य एक्सप्रेस ट्रेनें काशी, कामायनी, महानगरी सहित अन्य का स्टॉपेज बंद हैं।

युवा बोले- ट्रेन नहीं होने से रोजगार से हो रहे वंचित

दो साल से परेशान युवाओं ने ट्रेन स्टॉपेज और रोजगार की मांग को लेकर आंदोलन शुरू किया है। उन्होंने कहा कि नगर पिछले दो सालों से कोरोना के चलते ट्रेनों के स्टॉपेज से वंचित है। कई बार प्रयास करने के बाद भी अब तक नगर में पूर्व की तरह गाड़ियों का स्टॉपेज शुरू नहीं हो पाया है। जिसके चलते नगर के बाहर आवागमन में भारी परेशानी हो रही है।

खंडवा-बुरहानपुर जाने वाले युवाओं को खासी समस्या हो रही है। ट्रेन नहीं होने के कारण कई युवा रोजगार से वंचित हो चुके हैं। रात करीब 9.30 युवाओं ने नगर में बैनर लगाए।

यह है परेशानी

पिछले दो साल से युवा, जॉब करने वाले कर्मचारी निजी वाहनों से खंड़वा-बुरहानपुर रोजाना आवागमन करते हैं, जिसमें दुर्घटनाओं का अंदेशा बढ़ जाता है, वही आर्थिक नुकसान भी अधिक होता है।