बुरहानपुर में नदी किनारे भिड़े पाड़े:मप्र-महाराष्ट्र से लड़ने आए पाड़े, 20 हजार से ज्यादा लोगों ने देखी लड़ाई, एक युवक हुआ घायल

बुरहानपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अमरावती नदी में सालों से पाड़ों की टक्कर आयोजित होती आ रही है। - Dainik Bhaskar
अमरावती नदी में सालों से पाड़ों की टक्कर आयोजित होती आ रही है।

दीपावली के दूसरे दिन शनिवार को दो साल बाद शाहपुर की सूखी अमरावती नदी में पाड़ों की टक्कर हुई। जिसमें मप्र के विभिन्न जिलों के अलावा महाराष्ट्र से भी काफी संख्या में पाड़े आए। दो साल से कोरोना संक्रमण के कारण पाड़ों की यह टक्कर नहीं हो पा रही थी। प्रशासन द्वारा इसकी अनुमति नहीं दी जाती है, लेकिन हर साल यह पाड़ों की टक्कर परंपरानुसार आयोजित होती है। टक्कर देखने आया एक व्यक्ति इस बीच घायल भी हुआ। उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

20 हजार से ज्यादा लोगों ने देखी लड़ाई
इस बार भी दीपावली के दूसरे दिन अमरावती नदी में पाड़ों की टक्कर हुई। जिसे देखने के लिए करीब 20 हजार से ज्यादा लोग शाहपुर पहुंचे। अतिथि के बतौर यहां पूर्व मंत्री व भाजपा प्रदेश प्रवक्ता अर्चना चिटनीस, बुरहानपुर विधायक ठाकुर सुरेंद्रसिंह, भाजपा नेता गजेंद्र पाटिल आदि भी पहुंचे।

सालों से चली आ रही परंपरा, लिखित नहीं मौखिक रहती है अनुमति
अमरावती नदी में सालों से पाड़ों की टक्कर आयोजित होती आ रही है। कईं बार इस दौरान लोग घायल भी होते हैं। इसलिए प्रशासन द्वारा इसकी लिखित अनुमति नहीं दी जाती, लेकिन लोगों का कहना है कि मौखिक अनुमति रहती है। परंपरा का निर्वहन करने के लिए हर साल यह टक्कर आयोजित की जाती है। दो साल से इस पर प्रतिबंध लगा हुआ था। तीसरे साल जब यह टक्कर हुई तो करीब 20 हजार से ज्यादा लोग यहां पहुंचे। टक्कर में प्रथम आने वाले पाड़े के मालिक को पहला इनाम 25 हजार दिया जाता है। फ्रीज, टीवी, कूलर आदि इनाम भी रखे जाते हैं। यह इनाम आयोजन के दो दिन बाद बांटे जाते हैं।