पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोग नियमों के पाबंद नहीं, इसलिए पाबंदी:17 तक जारी रहेगा कोरोना कर्फ्यू, खाद व बीज दुकानों को 4 घंटे खोलने की अनुमति

बुरहानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर ने शहर और ग्रामीण क्षेत्रों का निरीक्षण कर कर्फ्यू की स्थिति देखी। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर ने शहर और ग्रामीण क्षेत्रों का निरीक्षण कर कर्फ्यू की स्थिति देखी।
  • दिन में 34 नए संक्रमित मिले, 7 दिन में 143 मरीज

जिले में लोग नियमों के पाबंद नहीं हैं। इसलिए शासन-प्रशासन ने पाबंदी और बढ़ा दी है। कोरोना कर्फ्यू फिलहाल 17 मई तक लागू रहेगा। मुख्यमंत्री ने एक दिन पहले गुरुवार को पूरे प्रदेश में 15 मई तक कोरोना कर्फ्यू लागू करने की घोषणा की है। जिले में तीसरी बार कोरोना कर्फ्यू को एक सप्ताह के लिए बढ़ाया गया है। हालांकि किसानों की सुविधा के लिए अब बीज और कीटनाशक दुकानों को सुबह चार घंटे खोलने की अनुमति दी गई है।

जिले में 22 दिन की पाबंदी के बाद भी संक्रमण की रफ्तार धीमी नहीं हुई है। शुक्रवार को मार्च से अब तक एक दिन में सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज मिले हैं। शुक्रवार को 34 नए मरीज मिले। मार्च से अब तक 29 से ज्यादा संक्रमित एक दिन में नहीं मिले हैं। दूसरी लहर में संक्रमण शहर के बजाय ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा तेजी से फैला है। हॉट-स्पॉट बने नेपानगर में स्थिति अब भी नहीं सुधरी है। यहां शुक्रवार को 10 नए संक्रमित मिले हैं। वहीं 17 मरीज अन्य ग्रामीण क्षेत्रों के हैं।

प्रशासन का गांवों पर ज्यादा ध्यान लेकिन पाबंदी सख्ती से लागू नहीं
गुरुवार को मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना कर्फ्यू 15 मई तक बढ़ाने की घोषणा के साथ गांवों में संक्रमण रोकने पर ज्यादा ध्यान देने को कहा है। जिला प्रशासन इसके लिए प्रयास कर रहा है लेकिन कोरोना कर्फ्यू की पाबंदी सख्ती से लागू नहीं हो पा रही है। चालानी कार्रवाई, धारा 144 का उल्लंघन करने पर केस दर्ज करने और दूसरे तरीकों से समझाने के बाद भी लोग नहीं मान रहे हैं। अधिकांश गांवों में लापरवाही बरती जा रही है। यही कारण है कि यहां संक्रमण तेजी से फैला है।

किसानों को खेती के लिए सुविधा लेकिन मनरेगा पर अंदेशा
खरीफ सत्र की तैयारी कर रहे किसानों को कोरोना कर्फ्यू में राहत दी गई है। सुबह 8 से दोपहर 12 बजे तक खेती से जुड़ी दुकानें खोलने के आदेश दिए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते संक्रमण से अब मनरेगा के काम प्रभावित होने का अंदेशा है। दरअसल सीएम ने घोषणा की है कि जिन गांवों में संक्रमण फैल रहा है, वहां मनरेगा के काम रोक दिए जाएं। ताकि लोग एक-दूसरे के संपर्क में नहीं आ सकें। जिले के गांवों में ज्यादा संक्रमण है। ऐसे में यहां मनरेगा के काम बंद होने से बेरोजगारी बढ़ सकती है।

कलेक्टर की अपील- सात दिन सख्ती से करें कर्फ्यू का पालन, टूटेगी कोरोना की चेन
कोरोना कर्फ्यू का आदेश जारी होने के बाद कलेक्टर प्रवीणसिंह ने आमजन के लिए वीडियो संदेश जारी किया है। इसमें उन्होंने कहा है कि शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में शुक्रवार को भ्रमण किया लेकिन यहां कर्फ्यू का सख्ती से पालन नहीं हो रहा है। लोग अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने के बजाय बेवजह घरों के बाहर दिख रहे हैं। सात दिन तक धैर्य रखकर सख्ती से कर्फ्यू का पालन करें, ताकि कोरोना की चेन तोड़ी जा सके।

एक सप्ताह के बाद फिर एक्टिव मरीज 200 के पार
शुक्रवार को 34 नए संक्रमित मिले। जिले में संक्रमितों की संख्या 2289 हो गई है। एक सप्ताह बाद एक्टिव मरीज 204 हो गए हैं। शुक्रवार को 2 मरीज स्वस्थ हुए। शुक्रवार को नेपानगर में 10, मोरखेड़ा में 6, अंबाड़ा में 5, इच्छापुर, नागझिरी, डाकवाड़ी, गुलाबगंज, संजय नगर में 2-2, बादखेड़ा, नायर और सिंधीपुरा वार्ड में 1-1 मरीज मिला है।

खबरें और भी हैं...