बुरहानपुर में कोर्ट ने सुनाई सजा:गौवंश का अवैध परिवहन करने वाले 3 आरोपियों को सजा, 6 साल पुराना है मामला

बुरहानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुरहानपुर में न्यायलय - Dainik Bhaskar
बुरहानपुर में न्यायलय

न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय डॉ. गौरव गर्ग नेपानगर ने आरोपी मो.अनीस, सदाम और इरशाद को धारा 4/9 म.प्र. गौवंश वध प्रतिषेध अधिनियम में 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास और 5000-5000 रुपए के अर्थदंड, 6/9 गौवंश वध प्रतिषेध अधिनियम में 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास व 5000-5000 रू का अर्थदंड और धारा 11 (घ) पशु क्रुरता अधिनियम के तहत 50-50 रूपए के अर्थदंड से दंडित किया।

सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी अनिल सिंह बघेल ने बताया कि 6 साल पहले फरवरी 2015 को सहा उनि. सोहन सिंह चौहान और आरक्षक गणेश, चालक शंकर ने रोड़ पर पेट्रोलिंग के दौरान ट्रक जो गोवंशों से भरा था। उसमें झटपटाहट की आवाज सुनकर निम्बोला थाने के सामने रोका गया। तब ट्रक चालाक मौके से फरार हो गया। ट्रक के अन्दर गौवंशो को क्रूरतापूर्ण रस्सियों से पैर, मुंह बांधकर ठूंस ठूंसकर भरा गया था।

सारंगपुर से वध के लिए महाराष्ट्र ले जा रहे थे पशु
पुलिस ने वाहन में बैठे अनीस, सद्दाम और इरशाद बेग से पूछताछ की। तब उन्होंने बताया कि गौवंशो को सारंगपुर जिले से महाराष्‍ट्र वध के लिए ले जाया जा रहा है। गोवंश से भरा ट्रक जब्त किया गया। आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया। सोमवार को न्यायालय ने आरोपियों को सजा सुनाई।