पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

थाने में मारपीट का मामला:एसपी ने शाहपुर थाना प्रभारी पाठक को किया लाइन अटैच

बुरहानपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • थाने में मारपीट की शिकायत के बाद कार्रवाई
  • ढाबे पर विवाद के बाद संचालक ने डायल 100 बुलवाकर 2 युवकों को पहुंचा दिया था थाने

युवकों के साथ थाने में मारपीट करने और इसकी एसपी से शिकायत करने वाले युवकों पर धारा 188 का केस दर्ज करने पर शाहपुर थाना प्रभारी संजय पाठक को लाइन अटैच कर दिया गया है। युवकों ने 3 जून को एसपी से शिकायत की थी। इसी दिन शाम को थाने में उनके खिलाफ धारा 188 का केस दर्ज कर लिया गया। 2 जून को शाहपुर के दो युवक इंदौर-इच्छापुर हाईवे स्थित ढाबे पर खाना खाने गए थे। सब्जी को लेकर उनका ढाबा संचालक से विवाद हो गया। ढाबा संचालक ने डायल 100 बुलवाकर दोनों युवकों को शाहपुर थाने पहुंचा दिया। इस बात की जानकारी मिलने पर शाहपुर के कुछ युवक थाने पहुंच गए लेकिन उनकी बात सुनने के बजाय पुलिस ने मारपीट कर उनको भगा दिया और दोनों युवकों के साथ भी मारपीट की। घर लौटने पर दोनों युवकों ने परिवार को पूरी बात बताई।

3 जून को जीतू डामरे, मयूर महाजन व महेंद्र शिवलकर ने मारपीट की शिकायत एसपी लोढा से की। एसपी ने शिकायत मिलने पर युवकों का मेडिकल चेकअप कराया और सीएसपी बीपी वर्मा को मामले की जांच करने के लिए कहा लेकिन इसी शाम शिकायत करने वाले युवकों पर शाहपुर थाना पुलिस ने बिना मास्क के घूमने पर धारा 188 का केस दर्ज कर लिया।

जबकि बिना मास्क घूमने पर पुलिस 100 रुपए का चालान बनाने की कार्रवाई कर रही है। इसकी जानकारी मिलने पर एसपी राहुल कुमार लोढा ने थाना प्रभारी संजय पाठक को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा। पाठक के दिए गए जवाब से एसपी संतुष्ट नहीं हुए और रविवार को उन्हें लाइन अटैच कर दिया।

पहले भी विवादों में रहे हैं थाना प्रभारी संजय पाठक
थाना प्रभारी रहते हुए संजय पाठक शाहपुर में पहले भी विवादों में रहे हैं। भारत और पाकिस्तान मैच के दौरान नारेबाजी करने को लेकर मोहद के ग्रामीणों पर देशद्रोह की धाराओं में केस दर्ज करने पर वे चर्चाओं में आए थे लेकिन बाद में ये धाराएं हटाना पड़ी थी। इस मामले के बाद उनका स्थानांतरण भी हुआ था लेकिन कुछ महीने बाद ही वे वापस शाहपुर थाने आ गए थे।
पद का दुरुपयाेग किया
मारपीट की शिकायत पर जांच के आदेश दिए थे। थाना प्रभारी ने पद का दुरुपयोग कर बिना मास्क के घूमने पर चालान बनाने के बजाय धारा 188 में केस दर्ज किया। स्पष्टीकरण में जवाब संतोषजनक नहीं था। इसलिए उन्हें लाइन अटैच कर दिया गया है।
-राहुल कुमार लोढा, एसपी

खबरें और भी हैं...