पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आतंक की तैयारी फेल:खंडवा-बुरहानपुर की बॉर्डर पर अतिक्रमणकारी कर रहे थे हमले की प्लानिंग, बंदूक, तीर-कमान, हंसिया के साथ चार गिरफ्तार

खंडवा-बुरहानपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जब्त हथियारों के साथ आरोपी। - Dainik Bhaskar
जब्त हथियारों के साथ आरोपी।

वन परिक्षेत्र नावरा, नेपानगर वन स्टाफ और स्थानीय पुलिस की मदद से की गई एक संयुक्त कार्रवाई में वन क्षेत्रों में आतंक फैलने से रोक दिया। खंडवा, खरगोन, बड़वानी और बुरहानपुर के करीब 15 से अधिक अतिक्रमणकर्ता नावरा रेंज की डेहरिया बीट के कक्ष क्रमांक 260 मानकेरिया अतिक्रमण सेंटर में वन विभाग पर हमले की प्लानिंग बना रहे थे। मुखबिर की सूचना पर पहुंची वन, पुलिस विभाग की टीम ने मौके से एक भरमार बंदूक, एक तीर कमान, एक बड़ी कुल्हाड़ी, एक बड़ा हंसिया, पत्थर, 4 बाइक सहित 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया। जबकि बाकड़ी से करीब 5 किमी दूर भीलखेड़ी में दबिष देने पर पांच बाइक जब्त की गई। यहां मौजूद आरोपी फरार हो गए।

वन विभाग की टीम ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर शनिवार शाम खंडवा-बुरहानपुर वन सीमा स्थित मानकेरिया अतिक्रमण सेंटर में दबिश दी। इस दौरान यहां बनी अवैध टपरियों में अतिक्रमकारी प्लानिंग में जुटे थे। वाहनों की आवाज सुनकर छह आरोपी भागने में सफल हुए। जबकि चार आरोपियों को गिरफ्तार कर नावरा रेंज लाया गया। सभी के खिलाफ वन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया तो वहीं रात में ही उन्हें नेपानगर थाने ले जाकर लॉकअप में गया। नेपानगर थाना पुलिस ने भी उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया है।

पकड़े गए चार आरोपियों में से दो खंडवा, खरगोन के रहने वाले हैं
वन विभाग की टीम जिन चार आरोपियों को पकड़ा है। उनमें से दो खंडवा, खरगोन के रहने वाले हैं। जबकि दो नेपानगर बाकड़ी और मानकेरिया सेंटर के ही हैं। पुलिस और वन विभाग ने ध्यानसिंह पिता पिरला जाति बारेला 45 साल निवासी भीलखेड़ी अंबापानी थाना पिपलौद जिला खंडवा, रणजीत पिता लालसिंग बारेला 25 निवासी वन ग्राम बाकड़ी नेपानगर जिला बुरहानपुर, बदरिया पिता उना जाति बारेला 50 निवासी मानकेरिया अतिक्रमण सेंटर थाना नेपानगर जिला बुरहानपुर व रिंदा पिता धनसिंग जाति बारेला 42 निवासी सेंद्रियाघाटी थाना हेला पड़ावा पोस्ट व तहसील खिरकिया के खिलाफ केस दर्ज किया।

पुलिस गिरफ्त में आरोपी।
पुलिस गिरफ्त में आरोपी।

टेकरी से टीम को आता देख भागे, जिन्हें पकड़ा वह कहने लगे मेहमान आए हैं
नेपा रेंजर मयंक पांडे ने बताया कि टीम ने जब दबिश दी तो आरोपियों ने टीम को टेकरी से देख लिया। जिसके बाद कुछ लोग भाग निकले। 4 लोगों को पकड़ा गया तो उन्होंने कहा हमारे यहां मेहमान आए हुए थे। वन विभाग की टीम ने कहा अगर मेहमान थे तो यहीं रूकते भागे क्यों। इसके बाद टीम ने बाकड़ी से करीब पांच किमी दूर भीलखेड़ी अतिक्रमण सेंटर पर भी दबिश दी, लेकिन यहां से सभी आरोपी फरार हो गए। मौके से पांच बाइक जब्त की। वन अफसरों के अनुसार अतिक्रमणकारियों द्वारा हमले की पूरी तरह तैयारी की जा रही थी, लेकिन गनीमत रही कि शनिवार को ही आरोपी यहां आए और वन विभाग को सूचना मिल गई। आरोपियों के कब्जे से जो बाइकें जब्त की गई हैं। वह अधिकांश खरगोन, बड़वानी की है। जिसमें तीन बाइकों पर नंबर नहीं हैं। कार्रवाई में नावरा रेंजर विमला मुवेल, नेपा रेंजर मयंक पांडे, डिप्टी रेंजर जलील खान, सिद्धार्थ मेढ़े, रजनीश ठाकुर और नेपा थाना पुलिस टीम शामिल थी।

भास्कर पड़ताल

वन विभाग के अनुसार अतिक्रमणकारी क्षेत्र में बड़े हमले की तैयारी में थे। अगर उनके पास और असला होता तो हमला हो जाता। इससे पहले घाघरला में कईं बार वनकर्मियों, पुलिस और ग्रामीणों पर हमला हो चुका है। बदनापुर में जुलाई 2019 में गोली चालन की घटना हुई थी। जिसकी मजिस्ट्रियल जांच के अब तक अते पते नहीं हैं। अतिक्रमकारियों के पास से जो बंदूक जब्त की गई हैं। उसे स्थानीय भाषा में भरमार बंदूक कहा जाता है। बताया जा रहा है कि पुराने जमाने की इस बंदूक को अतिक्रमणकारी खुद तैयार करते हैं। हमले के समय इसमें बारूद भरकर मारी जाती है। इसलिए इसे बारूद गन भी कहा जाता है। यह करीब चार से पांच फिट की बताई जा रही है। मौके से बड़े-बड़े पत्थर भी बरामद किए गए हैं। बताया जा रहा है कि आरोपी ध्यानसिंह नामक अतिक्रमणकर्ता के यहां आए थे। हमले के साथ ही वन भूमि का सौदा किए जाने की बात भी सामने आई है।

यह भरमार बंदूक बरामद की गई।
यह भरमार बंदूक बरामद की गई।

रिश्तेदारों को बसाने की थी तैयारी
वन विभाग के अनुसार मानकेरिया में करीब सात टपरियां बनी हुई है, जो अवैध है। यहां के कुछ लोगों ने वनाधिकार अधिनियम के तहत पट्टे के लिए आवेदन कर रखा है, लेकिन स्वीकृत नहीं हुआ है। इसी तरह भीलखेड़ी में भी कुछ टपरियां बनी है। यहां के अतिक्रमणकारी खंडवा, खरगोन और बड़वानी में रहने वाले अपने रिश्तेदारों को लाकर बसाने की तैयारी कर रहे थे। हर साल बारिश से पहले यह कवायद तेज हो जाती है, क्योंकि इस दौरान खेत भी तैयार किए जाते हैं। यही वजह है कि एक दिन पहले ही जिला टास्क फोर्स की मॉक ड्रिल वन क्षेत्र घाघरला में कराई गई थी

बड़े हमले की थी तैयारी, मेहमान बनकर आए थे
नेपानगर रेंजर मयंक पांडे ने बताया कि क्षेत्र में बड़े हमले की तैयारी की जा रही थी, लेकिन असला ठीक जमा नहीं हो पाया था। आरोपी अतक्रिमणकारी मेहमान बनकर आए थे। वन विभाग की टीम को देखकर 10 से अधिक अतिक्रमणकारी भाग गए। 4 आरोपियों को पकड़कर वन विभाग के अलावा पुलिस ने भी आर्म्स एक्ट के तहत केस बनाया है। तीर, कमान, भरमार बंदूक, पत्थर, हंसिया, कुल्हाड़ी आदि हथियार जब्त किए गए हैं।

खबरें और भी हैं...