पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बुरहानपुर वन मंडल:गोंद के लिए जला रहे जंगल, ताकि ज्यादा मात्रा में हो सके तस्करी

बुरहानपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बुरहानपुर वन मंडल के तहत सभी रेंज में 2003-04 से सलाई, घावला और कुल्लु गोंद निकालने तथा बेचने पर प्रतिबंध है। तत्कालीन डीएफओ द्वारा लगाया गया यह प्रतिबंध अब भी लागू है। कुल्लु गोंद विलुप्त प्रजाति होने के कारण मप्र उपज गौण जैव विधिधता का संरक्षण और पोषणीय कटाई नियम 2005 के नियम 4 और 5 के प्रावधानों के अनुसार वन मंडल में आरक्षित हैं। लेकिन प्रतिबंध को दरकिनार कर बड़े पैमाने पर गोंद की तस्करी की जा रही है। यही नहीं तस्कर जंगल में आग भी लगा रहे हैं। खकनार क्षेत्र में यह सिलसिला काफी समय से चल रहा है। इस तरफ वन विभाग का ध्यान नहीं है। 2020-21 में भी प्रतिबंधात्मक आदेश डीएफओ ने जारी किए हैं। सूत्रों के अनुसार बुरहानपुर के दर्जनों व्यापारी जिले के वन क्षेत्रों से सलाई और कुल्लु गोंद की तस्करी में लिप्त हैं। बुरहानपुर का लाइसेंस होना बताकर गोंद खरीदा जा रहा है। इसकी टीपी भी जारी हो रही है, लेकिन जब जिले में गोंद की खरीदी-बिक्री पर प्रतिबंधित है तो फिर इसकी टीपी कैसे जारी की जा सकती है। वन विभाग को इसकी सूचना होने के बावजूद विभागीय अधिकारी कुछ नहीं कर रहे हैं। जंगल में लगाई जा रही आग की वन विभाग को भनक तक नहीं है। इसका पता चल भी जाए तो विभाग के पास आग पर काबू पाने के संसाधन नहीं हैं। बताया जा रहा आग लगाने से गोंद अधिक मात्रा में निकलता है। इसलिए तस्कर जंगल में आग लगा रहे हैं। वन विभाग अब भी नहीं चेता तो सलाई गोंद पूरी तरह खत्म हो जाएगा। पिछले महीने कुछ लोगों ने इसकी लिखित शिकायत कलेक्टर से भी की थी। इसमें कहा था खकनार, शाहपुर और जम्बूपानी सहित अन्य क्षेत्रों से गोंद की तस्करी हो रही है। इसे रोका जाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें