पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना कर्फ्यूृ:व्यापारी बोले- चालान बना दो, सहायक आयुक्त ने कहा- अब दुकान सील होगी

बुरहानपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सहायक आयुक्त हाथ जोड़कर बोले चालान नहीं, अब तो दुकान ही सील होगी। - Dainik Bhaskar
सहायक आयुक्त हाथ जोड़कर बोले चालान नहीं, अब तो दुकान ही सील होगी।
  • शहर में दुकान खोलकर बेच रहे थे सामान
  • अमले ने चार दुकानों को किया सील

रविवार को कोरोना कर्फ्यू लागू होने के बाद भी शहर में दुकान खोलकर सामान बेचा जा रहा था। नगर निगम की टीम को जानकारी मिली तो कार्रवाई करने शहर में निकली। टीम ने चार दुकानों को सील किया और दो दुकानों पर चालानी कार्रवाई की। निगम की टीम कार्रवाई करने पहुंची तो दुकानदार बोले चालान बनाकर जुर्माना लगा दो लेकिन सहायक आयुक्त कमलेश पाटीदार ने हाथ जोड़कर कहा पहले दाे मौके दिए, अब तो दुकान सील करेंगे। जिले में कोराेना संक्रमण की रफ्तार धीमी हुई है।

शनिवार को 111 दिन बाद जिले में एक भी नया संक्रमित मरीज नहीं मिला लेकिन प्रशासन अभी सख्ती जारी रखना चाहता है, ताकि संक्रमण पर पूरी तरह काबू पाया जा सके। इसलिए शनिवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक सख्त कर्फ्यू लागू है लेकिन व्यापारी-दुकानदार लापरवाही कर कर्फ्यू होने के बावजूद सामान बेच रहे हैं।

इस लापरवाही से संक्रमण बढ़ने का खतरा है। नगर निगम की टीम ने रविवार को शहर में नयन ऑप्टीकल्स, राज टाइल्स, गुडलक ट्रेडर्स और गायत्री बर्तन भंडार पर कार्रवाई की। इन सभी दुकानों को सील कर दिया गया। इसके अलावा किला रोड पर ताज दरवाजे की दुकान और पशु आहार भंडार पर दो-दो हजार रुपए का जुर्माना लगाया।

और इधर... रास्तीपुरा में शटर गिराकर गोदाम में चल रही थी ग्राहकी
रास्तीपुरा में दो टाइल्स और भवन निर्माण सामग्री की दुकानें सील की गई हैं। निगम की टीम जब यहां पहुंची तो दुकानों के शटर गिरे हुए थे लेकिन गोदाम में ग्राहक मौजूद थे। अफसरों के पहुंचते ही दुकानदार डर गए और ग्राहकों को बाहर निकालने लगे। दुकानदार बोले जरूरी सामान देना था, इसलिए अंदर आने दिया, दुकानें आज बंद कर रखी है लेकिन टीम नहीं मानी। राज टाइल्स की दुकान और गोदाम को सील कर दिया।

गुडलक ट्रेडर्स के छह शटर को सील किया। यहां दुकान और गोदाम दोनों हैं। दुकान संचालक पहली मंजिल पर परिवार के साथ रहता है और दुकान के बीच से ही रास्ता बना रखा है। टीम ने उस रास्ते को भी सील कर दिया लेकिन बाद में इस शर्त पर उसे खोला गया कि वह व्यवसाय नहीं करेंगे। गुडलक टाइल्स संचालक का पहले 1100 रुपए का चालान बना है लेकिन इसके बाद भी वह दुकान खोलकर बैठा था।

पूजा के लिए कलश देने खोला था शटर
दोपहर 12 बजे निगम की टीम फव्वारा चौक पर निरीक्षण करने पहुंची। यहां गायत्री बर्तन भंडार का शटर आधा खुला दिखा। अफसर पहुंचे तो दुकानदार बोला मेरे घर आने-जाने का यही रास्ता है। दुकान में ग्राहक खड़े दिखने पर हाथ जोड़कर व्यापारी माफी मांगने लगा।

दुकानदार ने कहा पूजा के लिए कलश लेने के लिए फोन आया था। जरूरी था इसलिए शटर खोलकर सिर्फ कलश दे रहा था। टीम ने उसकी एक नहीं सुनी और दुकान को सील कर दिया। कार्रवाई में उपायुक्त एसआर सिटोले, इंजीनियर विशाल मोहे व अशाेक पाटील आदि कर्मचारी शामिल थे।
सब्जी, किराना लेने निकले, चालान बनाकर घर भेजा
शहर में पुलिस ने भी कोरोना कर्फ्यू के दौरान सख्ती की। चौराहों पर सर्चिंग के दौरान बाहर घूमते दिखे लोगों को रोककर पूछताछ की। किसी ने कहा दूध लेने जा रहा हूं, तो कोई बोला किराना लेना है। कई लोग गांवों से खरीदारी करने पहुंच गए थे। इन सभी लोगों का चालान बनाकर पुलिस ने वापस भेज दिया। हालांकि कर्फ्यू के बीच बस स्टैंड से खंडवा, इंंदौर और खरगोन के लिए बसों का संचालन हुआ लेकिन इनमें कम ही यात्री नजर आए।

खबरें और भी हैं...