रेपिस्ट नेताओं की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज:पूर्व पार्षद पर महिला ने लगाया था दुष्कर्म का आरोप, फिलहाल फरार हैं आरोपी

बुरहानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोर्ट ने आरोपियों की जमानत याचिका खारिज की - Dainik Bhaskar
कोर्ट ने आरोपियों की जमानत याचिका खारिज की

जिले के दो नेताओं की अग्रिम जमानत अर्जी न्यायालय ने खारिज कर दी। पूर्व पार्षद कलीम पहलवान और युवक कांग्रेस जिलाध्यक्ष मेहमूद अंसारी पर एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। जिसके बाद पिछले दिनों कोतवाली थाना पुलिस ने दोनों नेताओं पर धारा 354, 354 क, 452, 506 भादंवि के तहत केस दर्ज किया था। तभी से आरोपी फरार है। गौरतलब है कि युवक कांग्रेस जिलाध्यक्ष को पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष ने दूसरे ही दिन पद से हटा दिया था।

अतिरिक्त लोक अभियोजक सुनील कुरील ने बताया महिला के आरोप पर दोनों के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया था। सोमवार को उनके अधिवक्ता की ओर से न्यायाधीश आर.के. पाटीदार के न्यायालय में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन किया। जिसे न्यायालय ने निरस्त कर दिया।

अभियोजन ने ली आपत्ति मामले में अतिरिक्त लोक अभियोजक सुनील कुरील ने इस आधार पर आपत्ति ली कि आरोपी द्वारा की गई हरकत महिला के खिलाफ गंभीर प्रक्रति का होकर बलत्कार से संबंधित है और अजमानतीय है। दोनों आरोपी ताकतवर लोग हैं। यदि इनको अग्रिम जमानत दी जाती है तो आरोपी पुलिस अनुसंधान को प्रभावित कर सकते हैं। अभियोजन के साक्ष्यों के साथ-साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं। साथ ही अभियोजन साक्षीगण को डरा धमका सकते हैं। यदि जमानत का लाभ दिया जाता है तो महिलाओं के साथ हो रहे अपराधों में वृद्धि होने की संभावना है। आरोपी के फरार होने की संभावना है। मामले में अभी जांच पूरी नहीं हुई है। आपत्ति से सहमत होकर न्यायालय ने आरोपियों का तर्क विश्वास योग्य नहीं माना और अग्रिम जमानत आवेदन निरस्त किया।