पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पोला पर्व:2 साल बाद तोड़ा तोरण, इसे देखने 500 से ज्यादा लोग जुटे हाईवे पर

बुरहानपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोनाकाल में दो साल नहीं हुआ था आयोजन, इस बार 100 से ज्यादा युवा पहुंचे तोरण तोड़ने

पोला पर्व पर रास्तीपुरा में 2 साल बाद तोरण तोड़ा गया। शहर में यह परंपरा 200 साल से चली आ रही है। 2 साल से कोरोना काल में तोरण तोड़ने की अनुमति नहीं थी। इस बार भी बिना अनुमति के 20 फीट ऊंचा तोरण तोड़ा गया। शाम को पशु पालक बैलों को सजाकर रास्तीपुरा के हनुमान मंदिर पहुंचे। मंदिर की परिक्रमा के बाद बैलों ने बैठकर मंदिर में मत्था टेका व शक्ति के प्रतीक तोरण के नीचे से निकले। यह परंपरा बेहतर स्वास्थ्य व हृष्ट-पुष्ट रहने के लिए है।

शाम 5 बजे से मेला लगा। 6 बजे से तोरण तोड़ने के लिए युवाओं को जमावड़ा लगा। आधे घंटे तक तोरण किसी के हाथ नहीं आया। धीरे-धीरे इसकी ऊंचाई कम की। एक युवक ने ऊंची छलांग लगाकर तोरण तोड़ा। तोरण टूटते ही लोग अपनी बैल जोड़ियों को लेकर घरों की ओर निकले और उनका पूजन किया। 100 से ज्यादा युवा तोरण तोड़ने पहुंचे। 50 से ज्यादा बैलजोड़ी शामिल हुई। 500 से ज्यादा लोग मेला देखने पहुंचे।

हाईवे पर दोनों ओर रोक दिए वाहन

हाईवे पर शाम 5.30 बजे से आवागमन रोक दिया। एक घंटे तक रास्तीपुरा से कोई वाहन नहीं गुजरा। शाम 6.30 बजे बाद यातायात सुचारू हो सका। इस दौरान बड़े वाहनों को रेणुका देवी मंदिर रोड से निकाला गया।

खबरें और भी हैं...