पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जिले से चोरी-छुपे शादियों में गए ग्रामीण:संक्रमित क्षेत्रों में आवाजाही से धुलकोट क्षेत्र में फैला संक्रमण

बुरहानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की पहली लहर में संक्रमण से पूरी तरह अछूते रहे धुलकोट क्षेत्र में अब मरीज मिलने लगे हैं। इसके पीछे लोगों का चोरी-छुपे शादियों में शामिल होना व संक्रमित क्षेत्रों में आवाजाही है। यही कारण है कि क्षेत्र में अब तक 18 संक्रमित मिले हैं। सभी को होम आइसोलेट कर इलाज किया गया। इनमें से 12 मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं।

आदिवासी बहुल धुलकोट मुख्यालय से 25 से ज्यादा छोटे-बड़े गांव व फाल्या जुड़े हैं। यहां के लोगों की संयमित दिनचर्या और शहर से पूरी तरह कटे होने से पिछले साल क्षेत्र को संक्रमण छू भी नहीं सका था। अब बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन जैसे संक्रमित शहरों में आवाजाही रही। यहां से लौटने के बाद लोग बीमार पड़े और जांच कराने पर संक्रमित मिले। क्षेत्र में आने-जाने वालों पर भी कोई रोक-टोक नहीं है।

धुलकोट में शुरू किया फीवर क्लीनिक
क्षेत्र में संक्रमण की दस्तक के साथ ही धुलकोट के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 16 अप्रैल से फीवर क्लीनिक शुरू किया है लेकिन लोग डर के कारण जांच नहीं करा रहे हैं। यहां सुबह 9 से शाम 5 बजे तक जांच की जा रही है। डॉ. देवानंद हकीम ने बताया जांच के बाद 10-15 मिनट में ही नि:शुल्क रिपोर्ट दे रहे हैं लेकिन लोग जांच कराने से कतरा रहे हैं। अप्रैल में धुलकोट, बोरी, सुक्ता, झिरपांजरिया व हरदा में 18 संक्रमित मिले थे। होम आइसोलेट मरीजों को आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम, नायब तहसीलदार परवीन अंसारी, जाकीर साहब, सचिन पाटील व कविता दांगोड़े ने घर जाकर हौंसला दिया। कोरोना को मात दे चुके विनोद गंगराड़े ने कहा कोरोना से डरे नहीं, इससे जुड़ी भ्रांतियां दूर करें।

खबरें और भी हैं...