पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

प्रदर्शन:युवक की गिरफ्तारी के विरोध में आदिवासियों ने घेरा एसडीओपी कार्यालय, ‘आमू आखा एक छे’ नारे लगाए

बुरहानपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गिरफ्तार युवक को छोड़ने और पात्र लोगों को वनाधिकार पत्र देने की मांग, बुरहानपुर से भी पहुंचा पुलिस बल
  • बोले- अपहरण और मारपीट के जिम्मेदार वन विभाग के अफसरों पर कार्रवाई की जाए

जागृत आदिवासी दलित संगठन के माध्यम से एक बार फिर आदिवासियों ने पुलिस को घेरना शुरू किया है। पहले दो बार नेपानगर थाना घेर चुके आदिवासियों ने आदिवासी युवक की गिरफ्तारी के विरोध में बुधवार को एसडीओपी कार्यालय का घेराव किया। दो स्थानों से रैली के रूप में आदिवासी यहां पहुंचे। पहली रैली गेस्ट हाउस और दूसरी मनोज टाॅकीज क्षेत्र से निकली। सीवल, मांडवा, बदनापुर, डवाली, नावथा, हसनपुरा, झांझर और असीरगढ़ सहित अन्य गांवों के आदिवासियों ने कहा वन विभाग ने कैलाश जमरे नामक युवक को पकड़ा है। उसे छोड़ा जाना चाहिए। जिन वनकर्मियों और रेंजर ने उसे पकड़ा है, उनकी गिरफ्तारी की जाए, नहीं तो हमें भी गिरफ्तार करें। आदिवासियों ने ‘आमू आखा एक छे’ के नारे लगाने के साथ पारंपरिक गीत गाते हुए धरना दिया। हालात देखते हुए बुरहानपुर से अतिरिक्त पुलिस बल बुलाया गया। शाम को आदिवासी संगठन की ओर से बयान जारी किया गया। इसमें इसे जेल भरो आंदोलन नाम दिया गया। उन्होंने कहा कि अपहरण और मारपीट के जिम्मेदार वन विभाग के अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए। वन अमले द्वारा 29 और 30 अगस्त को वनाधिकार दावेदारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को अवैध रूप से कोर्ट और रास्ते से उठाया गया। बाद में उन्हें रेंज ऑफिस में बंधक बनाया। वन विभाग अवैध कटाई करने वालों को नहीं पकड़ रहा है। मुख्यमंत्री पट्टे बांटने की बात कह रहे हैं लेकिन वन विभाग इसमें अड़ंगा डाल रहा है। बुरहानपुर जिले के 11 हजार ऑनलाइन दावों में से सिर्फ 54 ही जिला स्तर तक पहुंचे हैं। आदिवासियों ने गीतों और भाषण के माध्यम से चेतावनी दी कि हमारे अधिकारों की रक्षा नहीं की तो आगामी विधानसभा उपचुनाव में वोट मांगने नहीं आएं। रैली और प्रदर्शन के दौरान किसी ने भी सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं किया।

यह बोले आदिवासी

{ अंतराम अवासे ने कहा वन विभाग गुंडागर्दी कर रहा है। किसी को भी रोककर मारा-पीटा जा रहा है। गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाया जा रहा है। एक को मारने की बजाय हमें एक साथ मार दो। देश में शायद आदिवासियों के लिए कोई कानून नहीं है। हम यहां गिरफ्तारी देने आए हैं।

{ आशाबाई ने कहा जब तक मांग पूरी नहीं होती, तब तक यहां बैठेंगे। प्यारसिंग वास्कले और कैलाश जमरे को कोर्ट से उठाकर वन विभाग अमले ने खकनार रेंज में मारपीट की। यह गलत है।

{रतन अलावे ने कहा वन विभाग आदिवासियों के बीच आपस में लड़ाई करा रहा है। यह भी अंग्रेजों की तरह कर रहे हैं। जिन्होंने मारपीट की है, उन्हें गिरफ्तार करें या हमें गिरफ्तार किया जाए। जो जंगल काट रहे हैं उन पर कार्रवाई करो।

इधर, जनपद पंचायत घेरी, रोजगार सहित अन्य मांगों को लेकर की नारेबाजी
खकनार | खकनार में आदिवासी शक्ति संगठन के बैनर तले बुधवार दोपहर 12 बजे 100 से अधिक आदिवासियों ने जनपद पंचायत का घेराव कर धरना दिया। नारेबाजी करते हुए रोजगार सहित अन्य मांगें उठाई। इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भी सौंपा। सीईओ सुरेशचंद्र टेमने के नहीं मिलने पर आदिवासियों ने आक्रोश जताया। उन्होंने लेखापाल किराण शाह को ज्ञापन सौंपा।
ज्ञापन में कहा कि खकनार विकासखंड में गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले गरीबों का सर्वे कराकर पात्र लोगों को लाभ दिया जाए। कई अपात्र लोग सरकारी योजनाओं का फायदा उठा रहे हैं। वृद्धावस्था पेंशन योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना को लेकर सर्वे कराया जाए। गरीब आदिवासियों को रोजगार मुहैया कराया जाए। मांगें पूरी नहीं की गई तो अगली बार और ज्यादा संख्या में आकर जनपद पंचायत का घेराव करेंगे।
सीएम को भी बताएंगे समस्या
19 सितंबर को खकनार के दौरे पर आने वाले मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को भी समस्याओं से अवगत कराएंगे। प्रदर्शन में आदिवासी शक्ति संगठन जिलाध्यक्ष ठाकुर गुलाबसिंह और राष्ट्रीय नागरिक संगठन सदस्य संजय मावस्कर आदि मौजूद थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें