पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खेत में मिला चीतल का शव:शरीर पर 2 जगह बड़े घाव, शिकारी कुत्तों के हमले की आशंका

बुरहानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वन विभाग ने कहा- शिकार नहीं हुआ

ग्राम दापोरा के खेत में चीतल का शव मिला है। उसके शरीरी पर 2 जगह गहरे घाव हैं। वन विभाग शिकार से इनकार कर रहा है। उसके अनुसार घाव कुत्तों के काटने से हुए हैं। वहीं लोगों का कहना है चीतल को शिकारी कुत्तों ने मारा है। कुछ माह से जंगल व खेतों के आसपास खूंखार कुत्तों के साथ शिकारी सक्रिय हैं।

दापोरा के किसान दीपक रघुनाथ के खेत में शुक्रवार सुबह चीतल का शव मिला। दीपक सुबह सिंचाई के लिए खेत पहुंचा तो केला फसल के बीच शव पड़ा दिखा। सूचना पर वन चौकी प्रभारी अनील बोरगांवकर, गुलजारसिंह सोलंकी व जितेंद्र त्यागी पहुंचे। शव को पीएम के लिए भावसा चौकी ले गए।

पीएम करने वाले पशु चिकित्सक डॉ. प्रणय तिवारी ने बताया चीतल के शरीर पर कुत्तों के काटने के निशान हैं। गले व पेट पर गहरा घाव हैं। कुत्तों के काटने से ही उसकी मौत हुई है। चीतल की उम्र 4 साल है।

.शाहपुर के जंगल में नहीं मिलता चीतल - चीतल शाहपुर से लगे जंगल में नहीं पाया जाता। इनकी संख्या मेलघाट टाइगर रिजर्व के जंगल में है। यह शिकारी जानवरों का मुख्य आहार माना जाता है। महाराष्ट्र के जंगल में अभी बारिश ज्यादा हो रही है, इसलिए आशंका है कि बारिश के कारण चीतल झुंड से अलग होकर जिले के जंगल में आ गया होगा और कुत्तों का शिकार बन गया।

कुत्तों के काटने के निशान
^चीतल का शव खेत में पड़ा मिला है। शरीर पर कुत्तों के काटने के निशान हैं, इससे उसकी मौत हुई है। शिकार करने जैसी कोई बात अभी सामने नहीं आई है।
-रामदास कास्डेकर, प्रभारी रेंजर, शाहपुर

खबरें और भी हैं...