पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई पर अनदेखी:यातायात में बाधक बन रहे 2 ट्रांसफार्मर के कारण तीन हजार से ज्यादा लाेगाें की जान संकट में

हरसूदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसडीएम के आदेश के 25 दिन बाद भी बिजली कंपनी के अफसरों पर असर नहीं

मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत कंपनी की मनमानी बिजली बिलों व अन्य मामलों में सामने आती रहती है, लेकिन मुख्यालय पर एसडीएम के आदेश के बावजूद अनदेखी की जा रही है। मामला नगर के मुख्य बाजार इलाके में प्रमुख स्थलों के ट्रांसफार्मर हटाए जाने से जुड़ा है। आदेश के 25 दिनों बाद भी विद्युत कंपनी यातायात में बाधक बने दो ट्रांसफार्मरों की शिफ्टिंग पर निर्णय नहीं ले पाई है। बताया जाता है कि दुर्घटना के अंदेशे से जुड़े इस गंभीर मामले में भी कंपनी नियमों का हवाला देकर आदेश के पालन में विलंब कर रही है। ऐसे में कहीं कोई अनहोनी हो जाती है तो जिम्मेदार कौन होगा? क्याेंकि इन ट्रांसफार्मर के पास से राेजाना तीन हजार से ज्यादा लाेगाें की आवाजाही बनी रहती है, कभी भी हादसा हाे सकता है।

जानकारी के अनुसार जनवरी में हरसूद प्रशासन व नप द्वारा मुख्य बाजार में अतिक्रमण हटाए जाने के दौरान नागरिकों ने नगर के फीलगुड चौराहे, सडिय़ापानी तिराहे व छनेरा पंचायत भवन के पास मेन रोड पर स्थित ट्रांसफार्मर हटाए जाने की मांग की थी। प्रशासन ने भी माना कि उक्त ट्रांसफार्मर के कारण कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। ऐसे में नप प्रशासन के प्रतिवेदन के आधार पर मार्च 2020 में एसडीएम डॉ. परीक्षित झाड़े ने नप व विद्युत कंपनी से संयुक्त मौका निरीक्षण कराया।

जुलाई 2020 में सडिय़ापानी तिराहे व पुराने ग्राम पंचायत भवन के सामने स्थित ट्रांसफार्मर यातायात की सुगमता व मार्ग चौड़ीकरण की दृष्टि से दोनों डीटीआर केंद्रों (ट्रांसफार्मर) के स्थान परिवर्तन के लिए सहमति सुनिश्चित हुई। अगस्त 2020 में डीटीआर केंद्रों के परिवर्तित स्थान के लिए पुनः नप व विद्युत कंपनी के अफसरों ने मौका पंचनामा बनाकर मानचित्र भी बनाया।

साथ ही नवीन स्थलों पर वर्तमान में स्थित ट्रांसफार्मरों को स्थानांतरित किए जाने की आगामी कार्रवाई विद्युत वितरण कंपनी द्वारा किया जाना सुनिश्चित हुआ। 21 अगस्त को इस आशय का आदेश एसडीएम डॉ झाड़े ने पारित किया। साथ ही 15 दिन में कार्रवाई कर अवगत कराने की समयावधि भी तय की गई। इस हिसाब से 6-7 सितंबर तक सड़ियापानी तिराहे व पंचायत भवन के पास के ट्रांसफार्मर नवीन जगह पर स्थानांतरित हो जाने चाहिए थे, लेकिन नहीं हाे पाए।

इसलिए जरूरी है ट्रांसफार्मर का हटाया जाना

सड़ियापानी तिराहा : ट्रैफिक व भीड़भाड़ वाला क्षेत्र

सड़ियापानी तिराहा नगर के व्यावसायिक क्षेत्र का ह्रदय स्थल है। यहां छनेरा-पुराना हरसूद के अलावा बायपास से भी यातायात चलता रहता है। तिराहा के कॉर्नर पर स्थित ट्रांसफार्मर बाजार में बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकता है। साथ ही ट्रांसफार्मर की आड़ में आसपास के दुकानदार फुटपाथ तक पसर जाते हैं। ऐसे में इसका स्थान परिवर्तन अनिवार्य है।

पुराना पंचायत भवन : साप्ताहिक बाजार वाला क्षेत्र

छनेरा हाट बाजार तहसील के प्रमुख बाजारों में है। यहां सोमवार के दिन रोशनी, खालवा के अतिरिक्त हरसूद ब्लॉक के ग्रामीण बड़ी संख्या में आते हैं। मुख्यमंत्री अधोसंरचना की सड़क व डिवाइडर बन जाने से यहां आए दिन ट्रैफिक जाम व ट्रांसफार्मर के कारण हादसे का अंदेशा बना रहता है। छनेरा मुख्य मार्ग के व्यापरियों व ग्रामीणों द्वारा अरसे से ट्रांसफार्मर हटाए जाने की मांग की जाती रही है, लेकिन विद्युत कंपनी की अनसुनी जारी रही।

ट्रांसफार्मर नहीं हटाने के ये दो कारण हो सकते हैं

  • विद्युत कंपनी द्वारा आमतौर पर लाइन या ट्रांसफार्मर शिफ्टिंग के लिए चार्ज लिया जाता है। कंपनी निकाय से व्यय में भागीदारी की अपेक्षा में देरी कर रही है।
  • जनसुरक्षा व यातायात में बाधा दूर करने की दृष्टि से एसडीएम हरसूद के आदेश के कारण विद्युत कंपनी व्यय के मामले में रुकी हुई है।

प्राक्कलन बनाकर वरिष्ठ कार्यालय भेजा

हमारे द्वारा अगस्त के अंत में ही प्राक्कलन बनाकर वरिष्ठ कार्यालय भेजा जा चुका है। खंडवा कार्यालय द्वारा स्वीकृति के बाद ही आगे की प्रक्रिया की जा सकेगी।
पीएन आशापुरे, एई मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत कंपनी, हरसूद

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें