पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नीला तालाब:10 साल से नहीं हाे रहा सौंदर्यीकरण, नहीं मिल पा रही नीले पानी से मुक्ति

कसरावद14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तालाब में कचरा फेंकने से गंदगी बढ़ रही है। - Dainik Bhaskar
तालाब में कचरा फेंकने से गंदगी बढ़ रही है।
  • 1. 94 करोड़ रु. की स्वीकृति व टेंडर की प्रक्रिया पूरी होने के बाद काम शुरू नहीं

छोटा नाका क्षेत्र स्थित नीला तालाब को नीले पानी से मुक्ति नहीं मिल पा रही है। सौंदर्यीकरण के बजाय यहां गंदगी बढ़ती जा रही है। कई लोग नाले किनारे कचरा फेंक रहे हैं। झील व तालाब संरक्षण योजना के तहत सौंदर्यीकरण की योजना बनाई गई। करीब एक साल पहले 1 करोड़ 94 लाख 64 हजार 255 रुपए की तकनीकी स्वीकृति मिली। टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी हो गई लेकिन काम शुरू नहीं हो पाया है।

आगामी समय में निर्वाचन की घोषणा संभावित है। इससे यह काम फिर खटाई में पड़ सकता है। पूर्व में भी स्वीकृति मिली थी। एक साल पहले ड्राइंग-डिजाइन तैयार कर इसके सौंदर्यीकरण की तैयारी भी हुई थी लेकिन विधानसभा चुनाव, सरकार बदलने व कोरोना संक्रमण के कारण काम अधर में लटक गया था। वैसे नाले के आसपास के सौंदर्यीकरण के लिए पिछले 10 साल से कवायद चल रही है। डीपीआर में बदलाव व लागत को लेकर कई बार परिवर्तन हो चुके हैं लेकिन अब तक काम नहीं हो पाया।

कचरे के साथ बढ़ रहा अतिक्रमण
क्षेत्र के रहवासी शोभाराम पगारे, गुड्डू पगारे व महादेव धनगर ने बताया बारिश का पानी यहां जमा होता है। आसपास कचरा फेंका जा रहा है। कुछ लोगों ने अतिक्रमण भी कर लिया है। एक ही जगह लंबे समय तक पानी जमा रहने से मच्छर पनप रहे हैं। बदबू व मच्छरों से बचने के लिए शाम होते ही घरों के दरवाजे लगाना पड़ते हैं। पूर्व में शिकायत पर पानी खाली करवाया था। फिर समस्या बढ़ गई है। नप को पानी खाली करवाने के साथ कचरा फेंकने पर रोक लगाना चाहिए। अब नप कर्मचारियों को शिकायत करने पर हर बार जल्द काम शुरू होने की बात कही जाती है। जल्द काम शुरू नहीं हुआ तो चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा। नप के अनुसार बड़वाह के ठेकेदार ने सौंदर्यीकरण का टेंडर लिया है। निर्माण शाखा प्रभारी विजय यादव ने बताया संबंधित ठेकेदार को काम शुरू कराने के लिए अवगत करवाया है।

पशुओं के पेयजल के लिए बना था तालाब
नगर के दिलीप गायकवाड़ व महादेव पाटीदार ने बताया कई साल पहले पशुओं की पेयजल व्यवस्था की दृष्टि से तालाब का निर्माण हुआ था। समय के साथ इसका उपयोग बंद हो गया लेकिन तालाब की स्थिति अब भी वैसी ही है। इसके सौंदर्यीकरण के लिए जल्द काम शुरू होना चाहिए। सौंदर्यीकरण के बाद यह बेहतर पिकनिक स्पॉट साबित हो सकता है। फिलहाल नगर में ऐसा कोई स्थान नहीं है जहां पर बैठकर सुकून के दो पल गुजार सकें।

सौंदर्यीकरण में यह होना है काम
नप की कार्ययोजना अनुसार तालाब को पिकनिक स्पॉट का रूप दिया जाएगा। तालाब के आसपास रिटर्निंगवॉल बनाने के साथ तालाब का मुख्य गेट व नाली बनाई जाएगी। आसपास पेवर, हाईमास्ट के साथ पौधारोपण भी होगा।

नाले की सफाई के साथ लोगों की राहत के लिए ब्लीचिंग पाउडर डाला जा रहा है। जल्द सौंदर्यीकरण होगा।-संजय रावल, सीएमओ

नाले के सौंदर्यीकरण का काम जल्द शुरू करवाएंगे। इसके लिए नप के माध्यम से संबंधित ठेकेदार को सूचना पत्र जारी करवाया जाएगा।-संघप्रिय, एसडीएम व नप प्रशासक

खबरें और भी हैं...