पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बदलाव:सहकारी समितियों में लगेगी पीओएस मशीनें इसमें अंगूठा लगाने के बाद ही मिलेगा खाद

कसरावद5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सहकारी संस्था कसरावद में यूरिया रखा है। आदेश नहीं होने से बांट नहीं रहे।
  • खाद की कमी, कालाबाजारी रोकने का लिया निर्णय, प्रबंधक बोले- जल्द आदेश मिलने की संभावना

राशन दुकानों की तरह जल्द ही सहकारी समितियों में प्वाइंट ऑफ सेल मशीनें लगाई जाएगी। अब किसानों को इन मशीनों पर अंगूठा लगाने के बाद ही रासायनिक खाद मिल सकेगा। खाद की कमी और कालाबाजारी रोकने के लिए यह निर्णय लिया गया है। फिलहाल इसको लेकर लिखित आदेश नहीं हुए, लेकिन मौखिक रूप से प्रबंधकों को इसकी सूचना दी गई। इसके चलते प्रबंधकों ने समितियों से खाद वितरण भी रोक दिया है।

प्रबंधकों का कहना है जल्द ही बैठक में इसको लेकर आदेश जारी हो सकते हैं। जानकारी के अनुसार 15 सितंबर को कृषि विभाग ने किसानों को 5 एकड़ जमीन पर 2 बोरी यूरिया खाद देने का आदेश जारी किया था। 13 अक्टूबर को एक अन्य आदेश के माध्यम से इसे निरस्त कर दिया। अब किसानों को खाद वितरण पर कोई बंधन नहीं रहेगा। किसान अपनी क्षमता अनुसार खाद ले सकेंगे। समिति प्रबंधकों का कहना है कि अब जल्द ही बैठक होगी। इसमें खाद वितरण की स्थिति स्पष्ट होगी।

नकद भुगतान पर भी मिले खाद

किसानों ने कहा पहले मौसम की मार और फिर कोरोना वायरस के चलते किसानों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। इसके कारण कई किसान बकाया राशि जमा नहीं करवा पाए है। अब नए आदेश के तहत किसानों को खाद से वंचित होना पड़ेगा। विभाग को इसमें बदलाव कर नए आदेश जारी करना चाहिए ताकि कालातीत किसानों को नकद में खाद मिल सके।

समितियों में खाद के भी लगा रहे चक्कर

अतिवृष्टि व वायरस से फसल खराब होने के बाद किसानों ने रबी फसल से बेहतर उत्पादन की उम्मीद में खेत तैयार करना शुरू कर दिया है। कई किसानों ने चना फसल की बुअाई भी कर दी है लेकिन खरीफ सीजन की तरह अब भी किसानों को यूरिया खाद के लिए परेशान होना पड़ रहा है। किसान कैलाश गवली, सज्जनसिंह तवर, करणसिंह पटेल आदि ने कहा खेती का काम छोड़कर समितियों के चक्कर लगा रहे हैं। सहकारी समितियों में यूरिया खाद पर्याप्त मात्रा में होने के बाद भी आदेश के इंतजार में वितरण नहीं किया जा रहा है। निजी दुकानों पर खाद की किल्लत बताई जा रही है। कालाबाजारी भी जोरों पर है।

राशि बकाया होने पर नहीं मिलेगा खाद

प्रबंधकों का मानना है कि अब पीओएस मशीनों से खाद का वितरण होगा। इसके लिए किसान के पास आधार कार्ड, मतदाता कार्ड व किसान क्रेडिट कार्ड में से कोई दस्तावेज होना जरूरी रहेगा। ऑनलाइन पंजीयन के बाद पर्ची जारी होने पर संबंधित किसान को खाद मिलेगा। नकदी के बजाय पुराने खाते की राशि जमा करना होगी। इसके बाद नए सिरे से किसानों को खाद दिया जा सकेगा। जिन किसानों ने बकाया राशि जमा नहीं की है उन्हें खाद नहीं देने के निर्देश जारी किए गए हैं।

माॅनीटरिंग कर रहे हैं

खाद की क्वालिटी कंट्रोल के लिए निजी विक्रेताओं के यहां से पूर्व में 20 और अब 21 सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे है। खाद, बीज व स्टॉक की जानकारी भी वरिष्ठ अधिकारियों को भेज दी है। फिलहाल खाद को लेकर मॉनीटरिंग की जा रही है।
बीएस सेंगर, वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें