कोरोना महामारी में बचाव:बीमारी में बचाव व तनाव से दूर रखेंगे 2डी-3डी फैंसी मास्क, नि:शक्तों को दिए फ्री

खरगोन8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • खरगोन के तिलकपथ क्षेत्र में 3 भाई-बहनों ने लोगों को जागरूक करने के लिए बनाए फैशनेबल मास्क

कोरोना महामारी में बचाव के साथ तनाव को दूर करने के लिए खरगोन में तिलकपथ क्षेत्र में 2डी व 3डी मास्क तैयार हो रहे हैं। यहां गुरव समाज के तीन भाई-बहन वंशिका (21), खुशी (17) व दिव्यांश निमाड़े (14) जागरूकता के साथ फैशनेबल मास्क तैयार कर रहे हैं। उनका मानना है चेहरे पर मास्क अच्छा लगना चाहिए। दूसरों को देखने में अच्छा लगने से खुद के साथ दूसरों काे अच्छा लगेगा। सालभर से ज्यादातर नीले, हरे रंग या एक रंग के सूती मास्क चलन में हैं। फैशन का जमाना है इसलिए लोगों को प्रेरित करने के साथ क्रिएटिव सोचकर स्टाइलिश व डिजाइन के मास्क तैयार कर रहे हैं। हेमंत व मनीष निमाड़े बताते हैं सालभर से क्रिएटिव मास्क बना रहे हैं। बच्चों, नि:शक्तजन, दिव्यांग व गरीब लोगों को नि:शुल्क बांटे हैं। वंशिका बीएससी व छोटी बहन खुशी 12वीं की पढ़ाई कर रही है। दिव्यांश 9वीं में है।

जानिए... 2डी और 3 डी मास्क लगाने में इसलिए है खास

वंशिका बताती हैं मास्क पर कट आउट फ्लावर्स, क्रिस्टल स्टोंस व सजावटी सामान का इस्तेमाल कर 2डी व 3डी मास्क बनाए। दो, तीन व चार लेयर तक मास्क बनाए। सुरक्षा काे ध्यान रखते हुए मास्क पर धागे से नाम लिखकर क्रिएटिविटी की। बच्चों के प्रिय कार्टून कैरेक्टर या नाम लिखकर डिजाइनर किया। ढिशुम कोरोना मास्क बनाया है। इससे कोरोना को मारने व मात देने का संदेश है।

जानें, ये है 2डी और 3डी
2डी मास्क : यह द्विस्तरीय कपड़े से निर्मित होकर नाक से दाढ़ी तक राउंड शेप में होता है। इसे पलटकर भी पहना जा सकता है। इसे चेहरे पर पहनने से चश्में में भी कोई दुविधा नही होती है।
3डी मास्क : यह मास्क चेहरे पर लगाने से 3 कार्नर बनते हैं, जिनमें मध्य का कोण नाक के ऊपर आता है। बाकी दो कोने आंखों के अंतिम छोर तक होते हैं। निचला भाग दाढ़ी से होकर गले तक जाता है। यह 4 लेयर होकर ज्यादा सुरक्षित है। बातचीत में खिसकता भी नहीं है।

खबरें और भी हैं...