पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:गुमाश्ता नियम के उल्लंघन पर दो दुकानदारों पर कार्रवाई, बंद का दिखा मिलाजुला असर

खरगोन8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर में बुधवार को दुकानें बंद कराने के लिए श्रम विभाग ने दिखाई सख्ती

गुमाश्ता नियम के तहत बुधवार को शहर में दुकानें बंद करने का श्रम विभाग के आदेश है। इसके बाद भी बुधवार को कुछ स्थानों पर दुकानें खुली रही। इस पर श्रम विभाग के लेबर इंस्पेक्टर ने सूचना मिलने पर कार्रवाई कर नोटिस जारी किए हैं। इन पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। श्रम विभाग के लेबर इंस्पेक्टर सपन गौरे ने बताया व्यापारियों की सहमति से शहर में बुधवार को दुकानें बंद रखने का निर्णय लिया गया था। इसका पालन करने के लिए बुधवार काे निरीक्षण किया। इसमें करीब 90 प्रतिशत दुकानें बंद मिली। फिर भी कुछ लोगों ने दुकानें खोल कर रखी। इसके कारण शहर के जवाहर मार्ग व मूंदी रोड पर स्थित दो दुकानों पर कार्रवाई की गई। साथ ही उन्हें नोटिस जारी किए गए। गुमाश्ता के नियमों का उल्लंघन करने पर यह कार्रवाई की गई। पिछले सप्ताह कई दुकानों को इसकी सूचना नहीं थी। इन्हें सिर्फ समझाइश देकर छोड़ दिया था। साथ ही आगामी सप्ताह से दुकान बंद करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद भी कई दुकानदार नियमों को पालन नहीं कर रहे थे। इस पर यह कार्रवाई की गई है।

मेडिकल व चाय-नाश्ते की होटलों को रियायत
जरूरी सेवाओं के कारण शहर में मेडिकल व चाय-नाश्ते की होटलों को इस नियम में रियायत है लेकिन इसके बाद भी यहां पर काम करने वाले मजदूरों को सप्ताह में एक दिन छूट्‌टी देने का नियम है। इसमें सभी को एक साथ छ़ुट्‌टी न देकर अलग-अलग दिन दी जा सकती है ताकि मजदूरों को आराम मिल सके। इसके लिए दुकानदारों को निर्देश भी दिए हैं। इनका वह पालन कर रहे हैं।

यह है गुमाश्ता नियम
लेबर इंस्पेक्टर ने बताया सनावद में पहले पूरा सप्ताह सभी दुकानें खुली रहती थी। इसके कारण दुकान पर काम करने वाले मजदूरों को छुट्‌टी नहीं मिल पाती थी। पूरे सप्ताह ही उनसे काम लिया जाता था। मजदूरों के हित में बने कानून का पालन करते हुए सनावद में बुधवार को बंद रखने का नियम बनाया है। इसके तहत सभी दुकान बंद रहेगी, ताकि मजदूरों को आराम मिल सके। मजदूर भी अपने हक को प्राप्त कर सके।
मुख्य बाजार में बंद थी दुकान, फेरी वाले बेच रहे थे सामान
मुख्य बाजार में दुकानें बंद होने से मार्ग पर सन्नाटा पसरा हुआ था। इसका फायदा उठाते हुए फेरी वाले फुटपाथ पर दुकान लगाकर सामान बेच रहे थे। इस संबंध में लेबर इंस्पेक्टर ने कहा- फुटपाथ पर दुकान लगाने वाले व्यापारी हमारी जिम्मेदारी में नहीं आते हैं। यह काम नगर पालिका का है। वहीं इन फुटपाथ व्यापारियों का पंजीयन कर दुकानें लगाने की परमिशन देते हैं। इसके लिए वही देखरेख व व्यवस्था करते हैं।

खबरें और भी हैं...