• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Khandwa
  • Khargone
  • After The Death Of The Accused Of Robbery, Angry People Pelted Stones In The Police Station, The Policemen Saved Their Lives By Running Away

खरगोन में थाने में पथराव की तस्वीरें:भीड़ ने थाना घेरकर पथराव किया, पत्थर आता देख जवान जान बचाकर भागे, IT के केबिन में सबकुछ चकनाचूर, पत्थरों का लगा ढेर

खरगोन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
थाने में पथराव के बाद थाना प्रभारी के केबिन में पत्थरों का ढेर लग गया। - Dainik Bhaskar
थाने में पथराव के बाद थाना प्रभारी के केबिन में पत्थरों का ढेर लग गया।

लूट के आरोपी की जिला अस्पताल में मौत के बाद खरगोन के बिस्टान थाने में मंगलवार को गुस्साई भीड़ ने हमला कर दिया। पथराव और तोड़फोड़ कर पुलिस वाहन को पलटा दिया। अचानक हुए हमले के बाद पुलिसकर्मी थाने से जान बचाकर भागे और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोल छोड़े गए। सूचना के बाद थाने और जिला अस्पताल में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। पथराव में तीन पुलिसकर्मियों को मामूली चोट आई है। हमले के बाद थाना पूरी तरह से तहस-नहस नजर आया। थाना प्रभारी के कमरे में लगी हर चीज टूट गई। यहां पत्थरों का ढेर लग गया।

हमले में घायल पुलिसकर्मी।
हमले में घायल पुलिसकर्मी।

क्या है पूरा मामला ?

चित्तौड़गढ़-भुसावल राजमार्ग पर 10 दिन पहले ट्रक चालक और बाइक सवारों से मोबाइल, नकदी व आभूषण लूटने वाले 12 आरोपियों को पुलिस ने पकड़ा था। जिसमें से 8 आरोपियों को कोर्ट में पेशी के बाद जेल भेज दिया गया था। वहीं 4 आरोपियों को पूछताछ के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया था। रिमांड पर रहे बिसन पिता हाबु (35) को सोमवार को जेल भेज दिया गया। जहां रात में उसकी अचानक तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद आनन फानन में उसे जेल से रात दो बजे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां इलाज के दौरान सुबह उसकी मौत हो गई।

बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात।
बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात।

मौत की जानकारी मिलते ही परिजन आक्रोशित हो गए। इसी बात से आक्रोशित होकर 50 से ज्यादा लोग बिस्टान थाने पहुंचे और यहां पथराव कर दिया। यहां जमकर उपद्रव करते हुए उन्होंने थाने में तोड़फोड़ की। पुलिस जीप में भी पथराव कर उसे पलटा दिया। अचानक हुए हमले के बाद पुलिसकर्मी थाने से जान बचाकर भागे। इसकी सूचना तत्काल जिला मुख्यालय पर दी गई। इसके बाद 100 से ज्यादा जवानों को अस्पताल और थाने पर तैनात किया गया। भीड़ को भगाने के लिए पुलिस ने थाना परिसर में आंसू गैस के गोले भी छोड़े।

थाना प्रभारी के केबिन का ऐसा हाल कर दिया।
थाना प्रभारी के केबिन का ऐसा हाल कर दिया।

इन्हें पुलिस ने पकड़ा था

पुलिस के अनुसार नवाई पर्व मनाने के लिए रुपए नहीं होने पर खैरकुंडी के चिमा पिता भावसिंह (20), भावसिंह पिता फुलसिंह (28), बिसन पिता हाबु (35), दशरिया उर्फ दशरथ पिता धुलसिंह (21), प्रकाश पिता हाबु (22), नारिया पिता हाबु (24), नाखा पिता जुवानसिंह (24), शामु पिता धुलसिंह (23), अनिल पिता धुलसिंह (20), धेरिया पिता स्व. भावसिंग (25), कालु पिता अमरसिंह (30) व पालिया पिता जुवानसिंग (30) ने लूट की योजना बनाई। घाट सेक्शन में लोहे की रेलिंग अड़ाकर बाइक सवार व ट्रक चालकों से 19 हजार रुपए नकद, चांदी का अंगूठी, मूर्ति वाला लॉकेट व 3 मोबाइल लूटी।

थाने में टूटी पड़ी कुर्सी और पत्थर।
थाने में टूटी पड़ी कुर्सी और पत्थर।

मोबाइल में सिम लगाते ही गांव की लोकेशन मिली

पुलिस ने बताया घाट क्षेत्र से मुंडिया के मुकेश का मोबाइल भी आरोपियों ने छीना था। इस मोबाइल की सिम निकालकर अन्य सिम लगाई गई। साइबर सेल ने मोबाइल व सिम की लोकेशन पता की तो खैरकुंडी में मिली। सिम के रूमसिंह पिता प्यारसिंह के नाम थी। जांच में यह सिम चिमा पिता भावसिंह के पास होना मिली। सख्ती से पूछताछ में चिमा ने गांव के 11 लोगों के साथ लूट की घटना करना स्वीकार किया। आरोपियों से एक मोबाइल, चांदी की अंगूठी, लॉकेट व 13200 रुपए नकद जब्त किए गए।

भीड़ ने पुलिस वाहन को पलटा दिया।
भीड़ ने पुलिस वाहन को पलटा दिया।
खबरें और भी हैं...