पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

52वां शिवडोला वर्ष आज:शिवडोले पर बंदिशें, खरगोन व कसरावद अनुविभाग में स्थानीय अवकाश घोषित

खरगोन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना गाइडलाइन में सिर्फ 5 सदस्य आरती में रहेंगे, पालक-डोले पर निर्णय नहीं

कोरोना संक्रमण के चलते भादौ दूज पर निकलने वाले शिवडोले पर कई बंदिशें रहेंगी। मंगलवार को विवेकानंद सभागृह में हुई जिला प्रशासन व श्रावण मास समिति की बैठक में परंपरागत शिवडोला के आयोजन पर कोई निर्णय नहीं हुआ, लेकिन शिवडोला पर्व को लेकर खरगोन व कसरावद अनुविभाग में स्थानीय अवकाश जरूर घोषित कर दिया गया है। हालांकि कोरोना को लेकर शासन स्तर पर जारी गाइडलाइन के मुताबिक सिर्फ मंदिर समिति के लोग पूजन व आरती में शामिल हो सकते हैं। गाइडलाइन के मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सिर्फ 5 लोग ही धार्मिक आयोजन में शामिल होंगे। वह भी 2 गज की दूरी बनाकर। सुबह 10 बजे महाआरती होगी। उसके बाद सांकेतिक भ्रमण हो सकता है। एसडीएम अभिषेक गेहलोत ने साफ तौर पर शिव पालकी या डोला भ्रमण से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि परंपरागत पूजन व आरती के कार्यक्रम ही होंगे। बैठक में सांसद गजेंद्रसिंह पटेल, विधायक रवि जोशी, कलेक्टर गोपालचंद्र डाड, एसपी शैलेंद्रसिंह चौहान के अलावा शिवडोला समिति अध्यक्ष नवनीतलाल भंडारी, संरक्षक मनोहर भावसार, मंदिर समिति अध्यक्ष निलेश भावसार, प्रवक्ता प्रकाश भावसार आदि थे। बैठक में शिवडोले का भ्रमण तय नहीं हो पाया।

प्रदेश के प्रमुख पांच त्यौहारों में शामिल शिवडोला
प्रदेश के 5 प्रमुख त्यौहारों में शामिल शिवडोले को लेकर शिवभक्त भी चाहते हैं कि जिले में एक भी डोला भ्रमण नहीं हुआ है इसलिए कम से कम बावड़ी बस स्टैंड तक कोरोना गाइडलाइन में शिवडोला निकाला जाए। ताकि परंपरा कायम रह सके। बुधवार को खरगोन एवं कसरावद अनुभाग में संपूर्ण दिवस का अवकाश रहेगा। यह अवकाश कलेक्टर ने पूर्व में शिवडोले को लेकर स्थानीय अवकाशों के साथ घोषित किया था।

मापदंडों के मुताबिक ही होगा धार्मिक आयोजन
शिवडोला निकालने को लेकर पिछले एक सप्ताह से समिति पदाधिकारी सांसद, विधायक व जिला प्रशासन से मांग कर रहे हैं। मंगलवार को जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अफसरों के बीच मैराथन चर्चा हुई। साफ तौर पर न प्रशासनिक अफसरों ने कहा कि आप डोला निकालो। और न मंदिर समिति सदस्य अड़े कि परंपरागत डोला निकालेंगे। समिति सदस्य भी चाहते हैं कि महामारी के दौर में आयोजन में बड़ी तादात में लोग शामिल होकर किसी तरह का संक्रमण फैलाए। कुल मिलाकर कोविड के मापदंडों के मुताबिक ही धार्मिक आयोजन होगा। सुबह 10 बजे जनप्रतिनिधियों की आरती के बाद पालकी में भगवान सिद्धनाथ पालकी में मंदिर क्षेत्र व डोले में बावड़ी बस स्टैंड तक भ्रमण कर सकते हैं। हालांकि अभी तक कोई भी बात तय नहीं हुई है। यदि ऐसा होता है तो मंदिर समिति की जवाबदारी हाेगी कि पूरी तरह से 5 भक्त व सोशल डिस्टेंसिंग के साथ शासन की गाइडलाइन के पालन कराए।

उज्जैन और ओंकारेश्वर जैसी अनुमति इसलिए नहीं मिली

  • शिवडोला में भीड़ बढ़ने से कोरोना संक्रमण की आशंका।
  • खरगोन प्रदेश के टॉप-7 कोरोना पॉजिटिव आंकड़ों में शामिल
  • शासन की जारी कोरोना गाइडलाइन में स्थानीय स्तर पर नहीं ले सकते हैं निर्णय।
  • पॉजिटिव बढ़ने की स्थिति में प्रशासन जोखिम नहीं उठाना चाहता है।
  • जनप्रतिनिधि मंदिर समिति ने भी गृह विभाग तक उस स्तर का जोर नहीं लगाया।

शंसय... आखिरी समय पर 2 घंटे हो सकता है भ्रमण
हरसाल 16 घंटे में शहर भ्रमण कर देररात तक पहुंचने वाला डोला इस बार मंदिर क्षेत्र में ही भ्रमण करेगा। प्रशासन और न समिति ने यह साफ किया है कि शिवडोला का भ्रमण कहां तक होगा। कुछ सदस्यों का कहना है सुबह सांसद गजेंद्रसिंह पटेल व विधायक रवि जोशी समिति के साथ आरती करेंगे। जबकि समापन पर कलेक्टर गोपालचंद्र डाड आरती उतारेंगे।

डोले के संबंध में निर्णय नहीं : एसडीएम
सिद्धनाथ महादेव मंदिर में गाइडलाइन के मुताबिक आरती पूजन कर सकते हैं। पारंपरिक डोला या पालकी निकालने के संबंध में फिलहाल कोई निर्णय नहीं लिया है। स्थिति पर निगरानी रखी जा रही है।
-अभिषेक गेहलोत, एसडीएम खरगोन

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें