पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अब तक 25 कौओं की मौत:जिले में हुई बर्ड फ्लू की पुष्टि, भोपाल भेजे तीनों सैंपल मिले पॉजिटिव, हाई अलर्ट जारी

खरगोन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिपोर्ट पॉजिटिव आई, हाई रिस्क क्षेत्र में सैनिटाइजेशन जारी

जिले में एक सप्ताह से 25 से ज्यादा कौओं की मौत हो चुकी है। पशु चिकित्सा विभाग ने भोपाल स्थित प्रयोगशाला में 3 सैंपल जांच के लिए भेजे थे। गुरुवार को तीनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। कौओं की मौत एवियन इन्फ्लूएंजा ए (H5N1) वायरस से हुई है। रोकथाम के लिए जिले में हाईअलर्ट किया है। महाराष्ट्र व गुजरात की सीमा पर पक्षियों के परिवहन पर निगरानी होगी। कसरावद क्षेत्र में 10 किमी क्षेत्र में सैनिटाइजेशन शुरू किया है। उपसंचालक पशु चिकित्सा डॉ. सीके रत्नावत ने बताया कि जिले के सनावद में 15, कसरावद, महेश्वर, बेड़िया व खरगोन में कौओं की मौत हुई है। सनावद में बगुले व कड़कनाथ मुर्गे भी मरे हैं। क्षेत्र में मृत कौओं व अन्य पक्षियों के क्षेत्र से 10 किमी तक सैनिटाइजेशन करा रहे हैं। मुर्गा-मुर्गी पालन व बिक्री पर प्रतिबंधित किया है। रैपिड रिस्पांस टीम बनाई गई है। भोपाल स्थित प्रयोगशाला में जांच के बाद बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। कौओं की मौत का कारण बर्ड फ्लू माना गया है।

भगवानपुरा में सुस्त अवस्था में मिला कौआ, किया इलाज

हायर सेकंडरी स्कूल परिसर में गुरुवार को एक कौआ सुस्त अवस्था में मिला। सूचना मिलने पर विकासखंड स्तरीय टीम इसे पशु चिकित्सालय ले गई। यहां पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. डीएस जगरिया व सहायक पशु चिकित्सा अधिकारी एके भावसार ने प्राथमिक इलाज किया। कौए को पशु चिकित्सालय में निगरानी में रखा गया है। साथ ही इसकी सूचना वरिष्ठ कार्यालय भेजी गई है।

जानिए... बर्ड फ्लू कैसे फैलता है, संक्रमित पक्षी के संपर्क में आने से बीमारी होने, जान का खतरा
जंगली, जलीय यानी जो पानी में रहने वाले पक्षी जैसे बत्तख और गीज इन्फ्लुएंजा ए वायरस को आसानी से फैला सकते हैं। कई पक्षी बीमारी को विकसित किए बिना फ्लू के ड्रोप के जरिए संक्रमण फैला सकते हैं। पक्षी उड़ान भरते समय भी इन्फ्लूएंजा वायरस का एक अच्छा एरोसोल प्रदान करते हैं। कुछ अन्य पक्षी इस बीमारी को पकड़ते हैं और यह वाहक भी बन जाते हैं। कभी-कभी यह वायरस सूअरों, घोड़ों, बिल्लियों और कुत्तों जैसे स्तनधारियों पर भी हावी हो सकता है। संक्रमित जीवित या मृत पक्षियों के निकट संपर्क में आने वाले लोगों ने एच 5 एन 1 बर्ड फ्लू का विकसित हुआ है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है।

पॉल्टी फार्म व चिकन सेंटर के लेंगे सैंपल
गुरुवार को कलेक्टर अनुग्रहा पी ने बर्ड फ्लू बीमारी की रोकथाम की तैयारियाें को लेकर बैठक ली। बचाव के लिए रैपिड रिस्पांस टीम का भी गठन किया गया है। पोल्ट्री फार्म व चिकन सेंटर में पक्षियों के सैंपल लेंगे। लोग 70 डिग्री से ज्यादा तापमान में अंडा या चिकन उबालकर या पकाकर खा सकते हैं।

यह है बर्ड फ्लू
विशेषज्ञों के मुताबिक बर्ड फ्लू एक अत्यधिक संक्रामक वायरल बीमारी है जो इन्फ्लुएंजा प्रकार ए वायरस के कारण होती है। यह आम तौर पर मुर्गियों और टर्की जैसे पोल्ट्री पक्षियों को प्रभावित करती है। पक्षी आमतौर पर वायरस के वाहक होते हैं। यानी जो इसे लंबी दूरी तक ले जाते हैं। वायरस के कई स्ट्रेन हैं और उनमें से ज्यादातर हल्के हैं और केवल मुर्गियों में कम अंडा उत्पादन या अन्य हल्के लक्षण पैदा कर सकते हैं। कुछ गंभीर और घातक हैं जो बड़ी संख्या में पक्षियों की मौत का कारण बनते हैं।

भोपाल भेजे तीनों सैंपल पॉजिटिव, जिले में बर्ड फ्लू
^ वरिष्ठ अफसरों ने फोन पर चर्चा में बताया कि तीनों सैंपल पॉजिटिव मिले हैं। जिलेभर में हाईअलर्ट जारी कर दिया है। बीमारी की रोकथाम व जागरुकता की तैयारियां शुरू कर दी है। हाई रिस्क क्षेत्र में सैनिटाइजेशन होगा।
-डॉ. सीके रत्नावत, उपसंचालक पशु चिकित्सा

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें