पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महाराष्ट्र से बेरोक आवाजाही:धुलकोट में बढ़ा कोरोना, इटावदी में सख्ती इसलिए संक्रमण नहीं

धूलकोट13 दिन पहलेलेखक: गिरधारी मालवीया
  • कॉपी लिंक
भगवानपुरा रोड की सीमा पर चेतावनी लिखी लेकिन चौकीदारी नहीं होने से लोग गांव में घुस रहे हैं। - Dainik Bhaskar
भगवानपुरा रोड की सीमा पर चेतावनी लिखी लेकिन चौकीदारी नहीं होने से लोग गांव में घुस रहे हैं।
  • जिले के सबसे संक्रमित गांव और सबसे कम प्रभावित गांव में क्या फर्क है पढ़िए
  • शहर से अब संक्रमण तेजी से गांवों की ओर फैला है। ऐसे में हमने दो गांवों की जमीनी हकीकत देखी कि जो गांव संक्रमित हुए हैं वहां क्या चूक हुई है और जिन गांवों में संक्रमण नहीं पहुंचा वहां क्या सतर्कता बरती गई।

महाराष्ट्र से 20 किमी के फासले पर धूलकोट। जनसंख्या 4 हजार। गांव में एक सप्ताह में 13 कोरोना संक्रमित मरीज है। जबकि 5 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। तेजी से बढ़ रहे मरीजों के कारण ग्रामीण दहशत में हैं। अधिकांश लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं।

हालांकि संक्रमित मरीज व उनके परिजन की लापरवाही से भी संक्रमण बढ़ रहा है। कंटेनमेंट एरिया नहीं होने से लोग बेधड़क बाहर घूमते हैं। इससे संक्रमण बढ़ रहा है। प्रशासन केवल एक पर्चा चस्पा कर देता है। यह पर्चा भी दूसरे दिन संक्रमित लोगों के परिजन फाड़ देते हैं। गांव में किसी को पता ही नहीं है कि कौन संक्रमित है या नहीं है। धूलकोट के अलावा बिलवा, नवलपुरा में भी संक्रमण फैल रहा है।

बिलवा व नवलपुरा में भी लोगों की मौत हो रही है। ग्रामीण रितेश बड़ोले, राहुल हिंगोले व नैनसिंह बड़ोले ने बताया कि गांव में लोग लापरवाही बरत रहे हैं। इसके चलते लगातार संक्रमण बढ़ रहा है। संक्रमित मरीजों को रोकने के लिए महाराष्ट्र चौकी से कोई कर्मचारी नहीं मौजूद था। इस कारण बिना रोक-टोक महाराष्ट्र से लोग सीमा पार कर शहर में पहुंच रहे हैं।

गांव की दो सीमाओं पर चेतावनी लिखी, लेकिन नहीं है चौकीदारी

भगवानपुरा व काबरी रोड पर ग्रामीणों ने रोड पर गांव में आने पर प्रतिबंध लगाया है। ग्रामीणों ने रोड पर चूने से लिखा है। केवल लिखने से कुछ नहीं हो रहा है। यहां दोनों सीमा रेखा पर चौकीदारी नहीं होने से लोग अंदर आ रहे हैं। पुलिस रोजाना सुबह-शाम आती थी। पाइंट भी लगाया था। अब पाइंट बंद कर दिया। इसके अलावा महाराष्ट्र के लोग भी गांव में पहुंच रहे हैं।

सर्वे में भी सही जानकारियां नहीं दे रहे लोग इससे भी फैला संक्रमण

गांव में 5 झोलाछाप डॉक्टर मरीजों का इलाज करते थे। कलेक्टर के आदेश के बाद सभी के क्लीनिक बंद हैं। मरीज भगवानपुरा में इलाज करा रहे हैं। इसके अलावा मरीज क्वारंटाइन ही है। वह घर पर ही इलाज ले रहे हैं। कुछ मरीज भगवानपुरा कोविड सेंटर या जिला अस्पताल नहीं जा रहे हैं। लोग सर्वे में भी सही जानकारियां नहीं दे रहे हैं। इससे संक्रमण फैल रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें