खरगोन में धूमधाम से मनाया गया मकर संक्रांति पर्व:कोरोना गाईडलाईन का पालन करते हुए श्री नवग्रह मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचे श्रद्धालु

खरगोन3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्री नवग्रह मंदिर। - Dainik Bhaskar
श्री नवग्रह मंदिर।

आज पूरे देश भर में मकर संक्रांति का पर्व आस्था और श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। नवग्रह की नगरी के नाम से विख्यात खरगोन के कुंदा नदी के तट पर स्थित करीब साढे चार सौ वर्ष प्राचीन और देश के एक मात्र ऐतिहासिक सूर्य मंदिर के नाम से प्रसिद्ध श्री नवग्रह मंदिर में भी श्रद्धालु भगवान सूर्य नारायण के दर्शन के लिए सुबह से पहुंचे गए। मान्यता है कि श्री नवग्रह मंदिर में सूर्य की पहली किरण भगवान सूर्य नारायण पर गिरती है इसीलिए इस मंदिर में आज के दिन दर्शन का विशेष महत्व माना जाता है।

ऐतिहासिक नवग्रह मंदिर में भगवान सूर्य नारायण के साथ ही नवग्रह और अधिष्ठात्री देवीश्री बगुलामुखी के विद्यमान होने से हजारों श्रद्धालु आज दर्शन के लिए पहुंचेगें। खरगोन के कुंदा नदी किनारे स्थित नवग्रह मंदिर में भगवान सूर्य नारायण के दर्शन के लिए मंदिर में सुबह चार बजे से ही श्रद्धालुओं की लंबी कतारें लगना शुरू हो गई थी। आज के दिन भगवान सूर्य नारायण दक्षिणायण से उत्तरायण की ओर प्रवेश करते है। जिससे मकर संक्रांति उनकी आगवानी का पर्व माना जाता है।

आज के दिन यहां देश-प्रदेश से बडी संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए पहुंचते है। मान्यता है कि आज के दिन भगवान सूर्य नारायण और नवग्रह की पूजा अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। वहीं आज तिल और अन्न दान का भी विशेष महत्व माना गया है। इसके अलावा भगवान सत्यनारायण की कथा करवाने का भी विशेष महत्व माना गया है। इसी के चलते मंदिर परिसर में सैकडों पंडितों ने पूरे दिन सत्यनारायण की कथा का आयोजन किया। यहाँ पहुँचने वाले श्रद्धालुओं ने कोविड गाइडलाइंस का पालन करते हुए पर्व को मनाया। श्रद्धालुओं की भीड को देखते हुए मंदिर परिसर में पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के भी पुख्ता बंदोबस्त किए थे।

मंदिर में दर्शन के लिए पहुँची महिला श्रद्धालु माधुरी कुशवाह का कहना है कि मकर संक्रांति पर्व पर हम कोरोना गाईडलाईन का पालन करते हुए दर्शन के लिए पहुँचे है। मकर संक्रांति पर्व पर नवग्रह मंदिर स्थित श्री सूर्यनारायण भगवान के दर्शन का आज विशेष महत्व माना गया है।

एक अन्य श्रद्धालु दिनेश पटेल का कहना है कि सूर्य के उत्तरारायन होने का पर्व मकर संक्रांति खरगोन में धूमधाम से मनाया जा रहा है। यह मंदिर इस लिए भी ख्यात है कि यहां नवग्रह भगवान के साथ मॉ बगुलामुखी का मंदिर भी विराजमान है। यहाँ आने वाले श्रद्धालु कोरोना को देखते हुए मास्क लगाकर और सैनेटाइज कर पहुंच रहे है।

खबरें और भी हैं...