पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कसरावद और दोगावां में आयोजन हुआ:चंदन की लकड़ी व कनेर की सोटी का पूजन कर खींचे गाड़े

खरगोनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

धुलेंडी पर सोमवार शाम यहां भवानी माता चौक पर परंपरागत रूप से गाड़ा खिंचाई का आयोजन हुआ। महिलाओं ने मंगल गीत गाए। एक-दूसरे से बंधी गाड़ियों का पूजन किया। 5 दिनों से खंडेराव महाराज मंदिर में ओझा श्रीराम यादव आराधना कर रहे थे। शाम को उनके साथ वहां रखी चंदन की लकड़ी व कनेर की सोटी को आयोजन स्थल लाया गया। पूजन के बाद ओझा ने लकड़ी की मकड़ी को तीन बार घुमाया। श्रद्धालुओं ने ओझा को कंधे पर बैठाया। वे कन्हेर की सोटी घुमाते हुए गाड़ों तक पहुंचे। करीब 300 मीटर दूर तक गाड़ों को खींचकर ले गए। खंडेराव महाराज के जयकारे गूंज उठे। मंगलवार शाम बाजार चौक में भी ओझा मंगत पटेल ने गाड़े खींचकर यह परंपरा निभाई। दोगावां में भी मंगलवार को यह आयोजन हुआ। इस बार मेला नहीं लगा। सूर्यास्त के बाद सीमित श्रद्धालुओं के बीच ओझा जयप्रकाश वर्मा ने इस परंपरा का निर्वहन किया।

इधर... हाथ लगते ही चल पड़े आस्था के गाड़े

बामंदी | धुलेंडी के दूसरे दिन मंगलवार को ग्राम में आस्था के प्रतीक गाड़ा खिंचाई की परंपरा का आयोजन हुआ। महिलाओं ने हल्दी के छापे लगाकर पूजन किया। ओझा रामसिंह पटेल को हल्दी लगाई। खंडेराव-खंडेराव के जयघोष के साथ लोग उन्हें कंधे पर बैठाकर मंदिर ले गए। यहां मकड़ी को देखा व घुमाया। इसके बाद जयघोष के साथ 5 से 6 टन वजनी 9 गाड़ों को करीब 200 मीटर तक खींचा गया। इस परंपरा को देखने पूरे मार्ग व मकानों की छतों पर लोगों का हुजूम था। इससे पहले सोमवार सुबह 4 बजे दो स्थानों पर होलिका दहन किया गया। सोमवार शाम को ग्राम बामंदा में भी गाड़े खींचने की परंपरा का सांकेतिक रूप से निर्वहन हुआ। ओझा भारत यादव व भारत पटेल ने करीब आधा किलोमीटर तक गाड़े खींचे। बड़ी संख्या में ग्राम व आसपास के श्रद्धालु मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें