पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वर्चुअल लोकार्पण:छह महीने में बीड़ बुजुर्ग सहित आठ गांवों के हर घर में पहुंचेगा पेयजल

खरगोन8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएम ने की प्रदेश के 107 गांवों में योजना की शुरुआत, 2023 तक हर गांव में पेयजल का रखा लक्ष्य

प्रदेश में 2023 तक हर गांव तक शुद्ध पेयजल मिलेगा। इसकी शुरुआत हो गई है। प्रदेश के 18 जिलों की 107 पेयजल योजनाओं का मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने सुबह 10.30 बजे भोपाल से वर्चुअल लोकार्पण किया। जिले में 8 पेयजल योजनाएं शामिल हैं। जिला मुख्यालय से 8 किलोमीटर दूर बीड़ बुजुर्ग में कार्यक्रम रखा गया। यहां 88.04 लाख लागत की योजना का शुभारंभ किया गया। राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अंतर्गत आगामी 6 माह में ग्रामीण आबादी को नल कनेक्शन देकर पेयजल उपलब्ध कराने का लक्ष्य है। बीड़ बुजुर्ग में ऑनलाइन कार्यक्रम रस्म अदायगी रहा। यहां पंचायत भवन में कम्प्यूटर सिस्टम पर 5-6 ग्रामीणों व लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी विभाग कर्मचारियों ने ऑनलाइन कार्यक्रम देखा व शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने 18 जिलों की 117.983 करोड़ रुपए की लागत की 107 ग्रामीण पेयजल योजनाओं का वर्चुअल भूमिपूजन किया। बालाघाट की 17, सीहोर की 13, बैतूल व छिंदवाड़ा की 12-12, खरगोन जिले की 8, सिवनी की 7 उज्जैन व नरसिंहपुर की 6-6, बड़वानी की 5, दमोह व सतना की 4-4, टीकमगढ़ की 3, विदिशा, श्योपुर, मंडला व शाजापुर की 2-2 व झाबुआ व पन्ना की 1-1 पेयजल योजनाएं शामिल हैं। ग्रामीण क्षेत्र में सभी जगह स्कूल व आंगनवाड़ी केंद्रों तक भी स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने को कहा गया है।

जिला अफसर शामिल हुए न जनप्रतिनिधि
कार्यक्रम में न विभागीय जिला अफसर शामिल हुए न कोई जनप्रतिनिधि। विधायक रवि जोशी, केदार डाबर व जनपद अध्यक्ष संगीता मंडलोई बाहर थे। ग्रामीणों में अंशदान व स्कूल-आंगनवाड़ियों तक पेयजल उपलब्धता के लिए प्रेरित करने की शासन की मंशा धरी रह गई। सरपंच, सचिव, उपयंत्री व ग्रामीणों ने शुभारंभ किया। विभागीय अफसर उपस्थिति को लेकर इसके पीछे आनन-फानन में कार्यक्रम तय करने की बात कही, लेकिन पुष्टि करने से बचते रहे। कार्यपालन यंत्री जितेंद्र मावी ने मोबाइल बंद कर लिया।

खबरें और भी हैं...