पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

84 नए मरीज मिले:50 पॉजिटिव आने पर स्वीकृत हुआ था आईसीयू, 2525 संक्रमित हुए लेकिन 80% ही हुआ काम

खरगोन4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भोपाल से एजेंसी नहीं पहुंचने से एनएचएम के आईसीयू में हो रही देरी, 10 दिन और लग सकते हैं

प्रदेश में कोरोना के मामले में खरगोन जिला 5वें स्थान पर चल रहा है। मंगलवार को 84 नए मरीज मिले हैं। इतनी गंभीर स्थिति के बावजूद जिला अस्पताल में एक भी आईसीयू नहीं है। अप्रैल में 50 मरीजों के दौरान एनएचएम नेे 2 वेंटीलेटर का आईसीयू स्वीकृत किया था। 15 सितंबर तक 2525 मरीज संक्रमित हो गए हैं, लेकिन आईसीयू का काम पूरा नहीं हुआ है। कोविड व आइसोलेशन वार्ड में 115 मरीज भर्ती हैं। उन्हें ऑक्सीजन देना पड़ रहा है। सोमवार को ही वेंटीलेटर की सुविधा नहीं होने से दो संदिग्ध मरीजों ने दम तोड़ दिया। कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों में से 50 मरीजों को सांस सहित गंभीर बीमारियां हैं। उन्हें वेंटीलेटर अत्यंत जरूरी है। इंदौर के एमवाय अस्पताल में जगह नहीं है। वहां मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। मरीज की स्थिति गंभीर होने व निजी अस्पताल में इलाज महंगा होने से इलाज नहीं मिल पा रहा है। नई कलेक्टर अनुग्रहा पी ने 7 सितंबर तक आईसीयू का काम पूरा हो जाने का अल्टीमेटम दिया था, लेकिन उसे भी एक सप्ताह बीत गया।

15 दिन के बाद जगह कम पड़ जाएगी
जिला अस्पताल में फिलहाल 55 कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती है। इसमें संदिग्ध 60 है। कुल 115 मरीज का इलाज जारी है। इतने मरीजों को ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत होती है। चार दिन से भर्ती महेश्वर के मरीज को तीन समय भाप लेना जरूरी किया है, लेकिन मंगलवार को उसे शाम 7 बजे तक एक भी बार भाप नहीं मिली। शिकायत के बाद उसे भाप मिली। कर्मचारियों कहना है कि इतने मरीज है। किसे सुविधाएं दे। डॉक्टरों के मुताबिक जिस तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। उसके हिसाब से आगामी 15 दिन में जिला अस्पताल में इलाज के लिए जगह ही न मिल पाए। लोग लापरवाही बरत रहे हैं।

काम में देरी का कारण... स्वास्थ्य अफसरों ने बताया यहां राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के माध्यम से प्रस्तावित आईसीयू का काम 80 प्रतिशत हो चुका है। भोपाल की निर्माण एजेंसी के नहीं आने से काम मे देरी हो रही है। फ्लोरिंग व इलेक्ट्रिशियन सहित अन्य काम बाकी है। आगे काम शुरू होने में 10 से ज्यादा दिन लग सकते हैं। जिस तरह से आंकड़े बढ़ रहे हैं उसके मुताबिक जिला अस्पताल में एक माह पहले ही आईसीयू की जरूरत बन चुकी थी। प्रदेशभर में आईसीयू बनाए जा रहे हैं। पिछले दिनों कलेक्टर जिला अस्पताल व एक अन्य जगह दौरा किया था। सब इंजीनियर सुरुचि परते, सिविल सर्जन डॉ. आर जोशी, सीएमएचओ डॉ. रजनी डावर को 8 सितंबर तक हर हाल में आईसीयू बनाने को कहा था। सब इंजीनियर से रोजाना रिपोर्ट अपडेट मांगी थी। इसके बावजूद काम पूरा नहीं हो पाया है।

2 वेंटिलेटर से 15 बेड संचालित होंगे
आईसीयू में एनएचएम के दो वेंटिलेटर से 15 बेड संचालित होेंगे। इसके अलावा एक आईसीयू स्थानीय स्तर से तैयार किया जा रह है। इसका काम 25 प्रतिशत हुआ है। यह आईसीयू शुरू होने में 1 माह से ज्यादा का समय लगेगा।

भोपाल से नहीं आई टीम, इसलिए देरी
^ एनएचएम के माध्यम से काम हो रहा है। भोपाल से टीम नहीं आने के कारण काम पूरा नहीं हुआ है। निर्माण एजेंसी भी भोपाल की है। स्थानीय स्तर पर कुछ नहीं है। भोपाल के अफसरों से चर्चा की है।
-डॉ आर जोशी, सिविल सर्जन

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें